Top
Home > Archived > डेढ़ साल की बच्ची बोरवेल में गिरी, चार घंटे से मौत से लड़ रही है

डेढ़ साल की बच्ची बोरवेल में गिरी, चार घंटे से मौत से लड़ रही है

 Special News Coverage |  3 April 2016 12:02 PM GMT


कानपुर संजय राजपूत

नवाबगंज थाना अंतर्गत टीबी अस्पताल के पास बनी झोपड़ पट्टी के पास एक माह से खुले पड़े बोरवेल में रविवार की सुबह 7.30 पर एक बच्ची गिर गई। बच्ची को बोरवेल में गिरते ही मां दौड़ पड़ी, लेकिन तब तक वह सौ फिट नीचे चली गई। परिजनों ने घटना की जानकारी नवाबगंज पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने पहले नगर निगम के कर्मियों को बुलाया, लेकिन उन्होंने बच्ची को बाहर निकालने से अपने हाथ वापस खींच लिए।



एसओ ने मामले की जानकारी आलाधिकारियों को दी, जिस पर डीएम ने एडीएम सिटी अविनाश सिंह, एसडीएम सदर, एसपी सचींद्र पटेल, सपा विधायक मौके पर पहुंचे और बचाव के साथ ही उर्सला के डॉक्टरों की टीम मौके पर पहुंची। लगातार तीन घंटे से बचाव कार्य जारी रहने के बावजूद जब बच्ची के बाहर नहीं निकाला गया, तब विधायक ने डीएम से कहकर आर्मी को बुलाया। कैंट से जाट रेजीमेंट के आर्मी के जवान 11 बजे अपने लाव लश्कर के साथ पहुंचकर बचाव कार्य में जुटे हैं।


टीबी अस्पताल के सामने और जू के पीछे खाली पड़ी जगह पर बिहार के करीब 80 परिवार झोपड़ी बनाकर सालों से रह रहे हैं। रविवार की सुबह खुशी पुत्री रामचंद्र की मां श्यामकली जब शौंच के लिए गई थी, तभी खुशी खेलते-खेलते बोरवेल के पास पहुंच गई। मां की नजर जबतक पड़ती तब तक वह 100 फिट नीचे जा चुकी थी। खुशी के पिता कुछ दिन पहले गांव चले गए थे। घर में मां और मौसा ही थें मां और मौसा ने अन्य पड़ोसियों को बुलाया और घटना की जानकारी दी। मौसा ने बताया कि श्यामकली की खुशी इकलौती बेटी है, पिता किसानी के चलते गांव गए हुए हैं। हम घर पर थे। बताया कि पूरे झोपड़ पट्टी के आसपास पांच बोरवेल ऐसे ही खुले पड़े हैं।


कई बार घटना की शिकायत आलाधिकारियों से की, लेकिन किसी ने नहीं सुनी। आर्मी ने खुशी कम बैक नामक बचाव अभियान चलाया है। आर्मी के करीब पचास जवानों ने पूरे बोरवेव इलाके की घेराबंदी कर ली है। आर्मी ने दूरबीन के जरिए फोटो लेकर डॉक्टरों को दिखाया, जिस पर डॉक्टर राजेश बीजपेयी ने बताया कि खुशी की सांसे चल रही हैं। आर्मी ने खुशी के शरीर पर आक्सीजन की कमी न हो उसके लिए मशीन के जरिए बोरवेल में आक्सीजन पहुंचा रही है। मेजर हरविंदर सिंह ने बताया कि हम खुशी को जिंदा बाहर निकालने के लिए जी जान लगा देंगे। हां बचाव कार्य में थोड़ा वक्त जरूर लग सकता है।



सपा विधायक ने खुदे पड़े पांच बोरवेल के बारे में नगर निगम के अधिकारियों को जमकर फठकार लगाई। विधायक ने डीएम कौशल राज किशोर को फोन लगाकर लापरवाह कर्मचारियों के खिलाफ जांच के साथ ही कार्रवाई के लिए कहा। सपा विधायक ने इस दौरान डीएम और एडीएम को खरी खोटी सुनाई। मौके पर खड़े एडीएम सिटी ने खुशी के परिजनों को हरसंभव मदद के साथ ही लापरवाह नगर निगम के कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का भरोसा दिया। समाचार लिखे जाने तक बच्ची को बाहर निकालने के लिए आर्मी ने अपना ऑपरेशन शुरू किए हुए है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it