Top
Home > Archived > यूपी में महासंघ का ऐलान, मुस्लिम को बनाएंगे मुख्यमंत्री

यूपी में महासंघ का ऐलान, मुस्लिम को बनाएंगे मुख्यमंत्री

 Special News Coverage |  21 April 2016 10:35 AM GMT


Untitled-1-1461057001

लखनऊ

उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सियासी पारा चढ़ने के बीच मंगलवार को एक नया राजनीतिक महासंघ भी अपने वजूद में आ गया। विभिन्न जातियों में लघु जनाधार रखने वाले छोटे-छोटे दलों के परस्पर सहयोग के बूते सत्ताशीर्ष पर पहुंचने का मंसूबा लिये इस गठबंधन ने किसी मुसलमान को सूबे का अगला मुख्यमंत्री बनाने की योजना बना रहा है। इस महासंघ के बैनर तले छोटे छोटे 16 दलों ने अपनी स्वीकारोक्ति दी है।


कौन करेगा महासंघ की अगुवाई
लखनऊ में आयोजित एक कार्यक्रम में 16 पार्टियों को एकजुट कर ‘राजनैतिक परिवर्तन महासंघ’ का गठन किया गया है और गत लोकसभा चुनाव में आजमगढ़ सीट से समाजवादी पार्टी (सपा) सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के खिलाफ मैदान में उतरने वाले राष्ट्रीय ओलमा काउंसिल के अध्यक्ष मौलाना आमिर रशादी को इसका संयोजक बनाया गया है।

अच्छे दिन के चलते मिले बुरे दिन
आमिर रशादी ने पार्टी का घोषणापत्र जारी करते हुए संवाददाताओं को बताया कि आजादी के बाद से आज तक कांग्रेस, भाजपा, सपा और बसपा ने जनता खासकर मुसलमानों का सिर्फ शोषण ही किया है। केन्द्र की पूर्व कांग्रेसनीत सरकार से उबकर जनता ने ‘अच्छे दिन’ की तलाश में सत्ता परिवर्तन किया लेकिन उसके बुरे दिन जारी रहे। उन्होंने कहा कि अगले साल के शुरू में उत्तर प्रदेश की जनता एक ऐसा विकल्प ढूंढ रही है जो उसे ‘सोनिया, मोदी, माया और मुलायम’ से निजात दिलाये। इसीलिये राजनैतिक परिवर्तन महासंघ गठित किया गया है।

मुस्लिम को बनायेगे मुख्यमंत्री
महासंघ के प्रवक्ता गोपाल राय ने इस मौके पर कहा कि नवगठित संगठन का मुख्यमंत्री किसी मुसलमान को ही बनाया जाएगा। यह फैसला इसलिये लिया गया है क्योंकि इस कौम को शीर्ष पद से अब तक वंचित रखा गया है। महासंघ के सभी घटक इस पर एकमत हैं।

Tags:    
Next Story
Share it