Top
Home > Archived > स्टिंग ऑपरेशन से क्यों बौखलाये हुए हैं, रावत?

स्टिंग ऑपरेशन से क्यों बौखलाये हुए हैं, रावत?

 Special News Coverage |  29 March 2016 1:32 PM GMT



लखनऊ पं०सत्यम् मिश्रा
हम जिस विषय की चर्चा करने ज रहे हैं,आप भी इससे भलि-भाँति परिचित हैं, आपको बता दें कि, उत्तरा खण्ड के दलाल मुख़्यमंत्री कैसे, सौदा कर रहे हैं, खुद काला बाजार के सौदागर हैं, लेन देन का सौदा करते हैं, और जब खुद जाल में फंस जाते हैं, तो लोकतंत्र के चौथे खंभे को ही नकली स्तम्भ बता डालते हैं, खुद अवैध तरीके से लाखों-करोड़ों का घपला करते हैं, और जब फँस जाते हैं।

जिस वरिष्ठ पत्रकार उमेश कुमार ने इनको बेनक़ाब किया है वो उसे ही कुबेर बता डालते हैं, अगर पत्रकार उमेश कुबेर हैं, तो आप पत्रकार उमेश कुमार का आईटीआर, की जांच करवाइये, और सुनने में आया है कि पत्रकार जाँच के लिए तैयार भी हैं। जब पत्रकार आपके कार्य को सराहते हैं तो आप हर्षित हों उठतें हैं, और अगर सत्य दिखाकर आपके कार्यों को नकार दें। तो आप हर्षित होने की जगह गर्जित हो उठते हैं। पर आपके हर्षित और गर्जित होने से सत्य दब नहीं सकता, क्योंकि सत्य को उजागिर करने के लिए किसी की आवश्यकता नहीं पड़ती, सत्य स्वतःसिद्ध हो जाता है।



आप जैसे नेताओं का मानना है कि, ये सारा कार्य बीजेपी के कहने पर हुआ,तो आपको अवग़त करा दूँ कि ये वही पत्रकार उमेश कुमार हैं जो आज से 4-5 वर्ष पूर्व बीजेपी के खिलाफ स्टिंग ऑपरेशन किया था। जिसके चलते इनके और इनके परिजनों के ऊपर 18 मुक़दमे बीजेपी वालों ने दर्ज कराये थे। जिसके चलते पत्रकार उमेश को साल भर बच कर चोरी छुप कर रहना पड़ा था, और ये सब बीजेपी के खिलाफ एक स्टिंग के चलते हुआ था, जिसमें ये दिखाया गया था कि कैसे, बीजेपी वालों ने ऋषिकेश में अपने एक चहेते बिल्डर को अवैध रूप से एक जमीन को दे दिया था।

जिसमे करोड़ों का घपला हुआ था,तब तो आप बड़े हर्षित थे,जब आज आपकी सरकार पे आयी तो आप गर्जित हो उठे, और यहाँ तक कह दिया कि बीजेपी वालों से ये पत्रकार मिला हुआ है।आपने और आपकी सरकार ने सी०डी की सत्यता जांच करवाने की मांग कि,जाँच भी हो गयी और सीडी, एक दम सही साबित हुई,खैर श्री उमेश ने अभी तक 2500 से जादा अपराधों पे अपराधिक शो कर चुके हैं।

जिसमें कुछ खूंखार माफ़िया भी शुमार हैं जिसके चलते उनकी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए गृह मंत्रालय ने y श्रेणी की सेक्यूरिटी देने की अभी सोच रही है, और ये जायज भी है। क्योंकि पत्रकारों के पास उनकी सिर्फ कलम होती है,न कि नेताओं की तरह पाले हुए गुंडे और न ही शास्त्रों से लैस पुलिस कर्मी ही।

आप धर्म की रक्षा करिये,धर्म आपकी अवश्य रक्षा करेगा।
"धर्मो रक्षति रक्षितः"।।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it