Top
Home > Archived > जल्दी ही 112 होगा भारत का नेशनल इमरजेंसी नंबर, जानें इनके उपयोग

जल्दी ही '112' होगा भारत का नेशनल इमरजेंसी नंबर, जानें इनके उपयोग

 Special News Coverage |  29 March 2016 8:57 AM GMT

जल्दी ही '112' होगा भारत का नेशनल इमरजेंसी नंबर, जानें इनके उपयोग

नई दिल्ली: भारत सरकार ने '112' नंबर को देश के नेशनल इमरजेंसी नंबर के रूप में मान्यता दे दी है। अब आपको किसी Emergency सेवा की जरूरत पड़े तो अलग-अलग नहीं बल्कि एक ही Number पर Call करना होगा। लोगों को जल्दी ही किसी भी आपात स्थिति में पुलिस, एम्बुलेंस और अग्निशमन विभाग की मदद के लिए एक ही नंबर 112 डायल करने की सुविधा होगी। अगले एक साल में यह काम करने लगेगा। अभी 100 (पुलिस), 101 (फायर), 102 (एम्बुलेंस), 108 (आपात सेवा) के नंबर मौजूद हैं। '112' चालू होते ही बाकी सारे इमरजेंसी नंबर बंद हो जाएंगे।


देश में सभी इमरजेंसी के लिए एक नंबर लाने की बात चल रही थी। ट्राई ने पिछले साल अप्रैल में टेलिकॉम डिपार्टमेंट को '112' को नेशनल इमरजेंसी नंबर बनाने पर सहमति जताई थी। टेलीकॉम विभाग ने ट्राई के सुझावों को स्वीकार कर लिया है और टेलीकॉम मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद की मंजूरी के बाद यह सेवा शुरु हो जाएगी। यह सेवा सभी को उनकी भाषा में मिले इसके लिए राज्यों को कॉल सेंटर शुरु करने होंगे।

आपको बता दें कि ये इमरजेंसी नंबर यूएस के 911 और यूके के 999 की तर्ज पर लागू किया जा रहा है। सभी तरह की इमरजेंसी के लिए एक नंबर की आवश्यकता काफी वक्त से महसूस की जा रही थी। खबर के मुताबिक अगले एक साल में बाकी सभी तरह के आपातकालीन सेवाओं के नंबर हटा दिए जाएंगे।

अंतर-मंत्रालयी समिति दूरसंचार आयोग ने विभिन्न आपात सेवाओं के लिए एक ही नंबर को मंजूरी दे दी है। आपात नंबर 112 के चालू होने के एक साल के भीतर सभी मौजूदा आपात नंबर को चरणबद्ध तरीके से समाप्त कर दिया जाएगा। यह नई सुविधा को लेकर जागरूकता पर निर्भर करेगा। इस सेवा को सुनिश्चित करने के लिए कॉल करने वाले के डेटा पर काम किया जाएगा, उसकी जानकारी संबंधित विभाग को भेजी जाएगी ताकि उसे सही और उचित मदद मिल सके।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it