Top
Home > Archived > मुख्यमंत्री बोली ये घटना साम्प्रदायिक नहीं, तो फिर कौन सी मानेगी साम्प्रदायिक

मुख्यमंत्री बोली ये घटना साम्प्रदायिक नहीं, तो फिर कौन सी मानेगी साम्प्रदायिक

 Special News Coverage |  10 Jan 2016 6:29 AM GMT



mamata cm

कोलकाताः पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीते रविवार मालदा में हुई हिंसा पर पहली बार चुप्पी तोड़ी। ममता ने कहा कि मालदा में हुई घटना सांप्रदायिक हिंसा नहीं थी। ममता के मुताबिक इस मामले को गलत तरीके से पेश किया गया है।

ये भी पढ़ें बंगालः पुजारी बोला, मुस्लिमों ने पुलिस थाने को जलाने से पहले लगाए मोदी सरकार विरोधी नारे

स्थानीय लोगों और बीएसएफ के बीच का मामला
ममता ने अपने बयान में कहा कि असल में यह स्थानीय लोगों और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के बीच का मामला था। हालांकि मामले को संभाल लिया गया है और अब स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है।


ये भी पढ़ें मालदा पर चुप रहने बालों को राम मंदिर पर बोलने का अधिकार नहीं – राकेश सिन्हा

पूरा मामला क्या था
बीती 3 तारीख को पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में ढाई लाख अल्पसंख्यकों की भीड़ में हिंसा फैल गई। असल में यह भीड़ कथित हिंदू महासभा के नेता कमलेश तिवारी के मोहम्मद पैगंबर पर की गई कथित टिप्पणी के खिलाफ विरोध मार्च निकाल रही थी। लेकिन अचानक हिंसा भड़क गई। इस दौरान करीब दो दर्जन पुलिस की गाड़ियों में आग लगा दी गई। भीड़ ने कथित तौर पर बीएसएफ की एक बस को भी आग लगा दी थी. मामले में पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ्तार किया था। सभी को 6 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा गया था।

ये भी पढ़ें 2.5 लाख मुस्लिमों की भीड़, भीड़ देख पुलिस कर्मी थाने से भागे आगजनी

आरएएफ ने संभाला था मोर्चा
हिंसक भीड़ ने कालियाचक के बीडीओ दफ्तर पर भी हमला कर दिया। इसके बाद खालतीपुर रेलवे स्टेशन पर विरोध प्रदर्शन किया गया। जब पुलिस मौके पर पहुंची तो हिंसक झड़प में कई पुलिसवाले भी घायल हो गए। हंगामें की वजह से इलाके में दुकाने भी बंद रही. हिंसक भीड़ ने कथित तौर पर आस-पास के कई घरों में लूटपाट भी की। इसके बाद स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) को बुलाना पड़ा।

ये भी पढ़ें मालदा के बाद बिहार के पूर्णिया में मुस्लिम संगठन ने जुलूस के दौरान थाने में तोड़फोड़ की

मालदा के बाद पूर्णिया में भी भड़की थी हिंसा
रविवार के बाद गुरुवार को पूर्णिया में भी हिंसा भड़क गई थी। जहां ऑल इंडिया इस्लामिक काउंसिल की अगुवाई में मुस्लिम समुदाय के करीब 30 हजार लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में शामिल लोग कथित तौर पर विवादित बयान देने वाले कमलेश तिवारी को फांसी दिए जाने की मांग कर रहे थे। इस दौरान कमलेश तिवारी का एक पुतला फूंका गया और फिर हजारों लोगों की भीड़ ने एक पुलिस थाने पर हमला कर दिया। पुलिस ने इस मामले में 200 अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it