Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > अलीगढ़ > अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर सगे भाई बहन का नाटक कर रहे दो बच्चे निकले प्रेमी प्रेमिका, उम्र देखकर पुलिस के उड़े होश!

अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर सगे भाई बहन का नाटक कर रहे दो बच्चे निकले प्रेमी प्रेमिका, उम्र देखकर पुलिस के उड़े होश!

प्रेमिका की उम्र 13 साल तो प्रेमी की उम्र सिर्फ 12 साल है. जब पकड़े गए तो पुलिस से बचने के लिए भाई-बहिन बन गए.

 Special Coverage News |  24 Sep 2019 4:50 AM GMT  |  अलीगढ़

अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर सगे भाई बहन का नाटक कर रहे दो बच्चे निकले प्रेमी प्रेमिका, उम्र देखकर पुलिस के उड़े होश!
x

अलीगढ़. शादी के लिए घर छोड़कर भागे एक अनोखे प्रेमी-प्रेमिका का मामला सामने आया है. टीवी पर मूवी देखकर उन्होंने फिल्मी दुनिया की जिंदगी बसाने का फैसला किया. प्रेमिका की उम्र 13 साल तो प्रेमी की उम्र सिर्फ 12 साल है. जब पकड़े गए तो पुलिस से बचने के लिए भाई-बहिन बन गए. लेकिन बाद में भेद खुल गया और दोनों बच्चे शादी करने की जिद पर अड़ गए.

मामला यूपी (UP) के आगरा-अलीगढ़ का है. रेलवे पुलिस फोर्स (आरपीएफ) अलीगढ़ (Aligarh) ने दोनों बच्चों को रेलवे स्टेशन (Railway Station) से बरामद किया है. आगरा (Agra) के रहने वाले दोनों बच्चों ने आरपीएफ (RPF) को बताया कि एक दिन उन्होंने धड़क मूवी देखी थी. तभी से हम दोनों प्यार करने लगे. हमने घर वालों से भी कहा कि हमारी शादी करा दो, लेकिन उन्होंने हमे डांट दिया.

घर से ऐसे निकले दोनों बच्चे

बच्चों ने बताया कि उनके घर के पास एक रेलवे स्टेशन है. एक दिन दोनों ने फैसला किया कि ट्रेन में बैठकर भाग चलते हैं. घर से दूर कहीं दूसरी जगह पर जाकर रहेंगे. इसीलिए एक ट्रेन में बैठ गए. उसके बाद ट्रेन से अलीगढ़ स्टेशन पर उतर गए. लेकिन थोड़ी देर बाद ही आरपीएफ की नज़र बच्चों पर पड़ गई.

बचने के लिए पुलिस को बताई यह कहानी

पकड़े गए बच्चों ने बताया कि जब आरपीएफ ने पकड़ा तो वो डर गए. डर की वजह से झूठी कहानी सुना दी कि हम भाई-बहिन हैं. हमारे मां-बाप हमे मारते हैं. काम कराते हैं. खाने को भी नहीं देते हैं. इसीलिए हम घर से भाग आए हैं. अब हम घर नहीं जाना चाहते हैं.

पुलिस की निगरानी में ऐसे खुला भेद

बातचीत के दौरान आरपीएफ को बच्चों पर शक हुआ. पुलिस ने दोनों बच्चों को अलग-अलग कमरे में बैठा दिया. थोड़ी देर बाद बच्चों को खाने के लिए कुछ सामान दिया. इस पर दोनों बच्चों ने एक ही बात कही कि हम साथ में खाना खाएंगे. इस बात से पुलिस का शक और बढ़ गया. इस पर पुलिस ने डर दिखाकर बातचीत की तो सारा भेद खुल गया.

बच्चों को चाइल्ड लाइन के ज्ञानेन्द्र मिश्रा की निगरानी में सौंप दिया गया है. ज्ञानेन्द्र मिश्रा का कहना है कि बच्चों के घर वालों से बातचीत हो गई है. आज उनके मां-बाप बच्चों को ले जाएंगे.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it