Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > बहराइच > "साफ हाॅथ है तो स्वस्थ है'' की थीम पर आयोजित हुआ अन्तर्राष्ट्रीय हाॅथ धुलाई दिवस

"साफ हाॅथ है तो स्वस्थ है'' की थीम पर आयोजित हुआ अन्तर्राष्ट्रीय हाॅथ धुलाई दिवस

 Special Coverage News |  15 Oct 2018 4:40 PM GMT  |  दिल्ली

साफ हाॅथ है तो स्वस्थ है की थीम पर आयोजित हुआ अन्तर्राष्ट्रीय हाॅथ धुलाई दिवस

बहराइच 15 अक्टूबर। अन्तर्राष्ट्रीय हाॅथ धुलाई दिवस के अवसर पर विकास खण्ड चित्तौरा अन्तर्गत बेगमपुर विद्यालय परिसर में आगा खान फाउंडेशन द्वारा ''साफ हाॅथ है तो स्वास्थ्य है'' की थीम पर आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि मुख्य विकास अधिकारी राहुल पाण्डेय ने किया। इस अवसर पर स्कूली छात्राओं ने स्वागतगीत प्रस्तुत किया और स्वच्छता से जुड़ी आदतों, हाॅथ धोने के तरीकों तथा समय के बारे में जानकारी प्रदान की।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि राहुल पाण्डेय ने कहा कि स्वच्छता की आदतों में बदलाव तथा गाॅवों को खुलें में शौच मुक्त के स्थायित्व को बनायें रखनें के लिये अन्तर्राष्ट्रीय हाॅथ धुलाई दिवस का आयोजन विश्व स्तर पर 2008 में प्राारम्भ किया गया था। उन्होंने बताया कि इस वर्ष के आयोजन के लिए ''साफ हाॅथ है तों स्वास्थ्य है'' की थीम निर्धारित की गयी है। उन्होंने कहा कि व्यक्ति के स्वास्थ्य, पोषण एवं सर्वांगीण विकास के लिये हाॅथ धोने के विशेष महत्व हैं गरीबी निवारण, पोषण, स्वास्थ्य, शिक्षा और लौंगिक समानता, जल एवं स्वच्छता, आर्थिक विकास एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर असमानताओं को दूर रखनें जैसे लक्ष्य को प्राप्त करनें के लिये हाॅथ धोनें जैसी गतिविधियों का सीधा सम्बन्ध है और यह हर स्तर पर सुनिश्चित किया जाना चाहिये, साथ ही स्वच्छ भारत मिशन के अन्तर्गत खुले में शौच मुक्त गाॅवों की निरंतरता को सुनिश्चित करना भी हाॅथ धोने की प्रक्रिया की ओर एक कदम है।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए राज्य सलाहकार कृपाशंकर ने कार्यक्रम में मौजूद बच्चों को हाॅथ न धोने के कारण होने बाली विभिन्न बीमारियों व खतरों के बारे में जानकारी दी गयी। उन्होंने गताया कि नियमित हाॅथ धोने से 46 प्रतिशत जल जनित व 16 प्रतिशत श्वांस सम्बन्धी बीमारियों से बचा जा सकता है और भारत में प्रति व्यक्ति सही समय पर हाॅथ धोनें से 92 गुना लाभ हो सकता है। कार्यक्रम के दौरान विद्यालय स्तर पर आयोजित की गई चित्रकला प्रतियोगिता में क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान परने वाले छात्र-छात्राओं सवीना कक्षा 8 विद्यालय रिसिया जमाल, बृजेश कुमार कक्षा 7 चाकूजोत व विश्नू सोनी कक्षा 8 ग्राम कुरवारी तथा विद्यालय स्तर पर उत्कृस्ट स्वच्छता कोना बनाने के लिये तीन स्कूलों को पुरस्कृत करने के साथ ही 20 विद्यालयों को स्वच्छता किट का वितरण भी मुख्य अतिथि द्वारा किया गया। कार्यक्रम के अन्त में संस्था के जल एवं स्वच्छता कार्यक्रम के कार्यक्रम अधिकारी विजय सिंह जी के द्वारा उपस्थित सभी सदस्यों का धन्यवाद दिया गया और बच्चों के द्वारा हाॅथ धुलाई का प्रदर्शन कराया गया।

उल्लेखनीय है कि आगा खान फाउंडेशन, भारत सरकार की डेवलपमेन्ट पार्टनर के रुप में बिहार, गुजरात, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र तेलंगााना, उत्तर प्रदेश में कार्य कर रही है। ''आगा खान विस्तृत स्वच्छता पहल'' पंचवर्षीय बहु राज्यीय कार्यक्रम है जो बिहार, गुजरात, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, तेलंगााना, उत्तर प्रदेश के 664 गांवों के व्यक्तिगत घरों एवं विद्यालयों में शत प्रतिशत स्वच्छता की प्राप्ति के लिए कार्य कर रही है। । संस्था का उद्देश्य अधिकार विहीन समुदाय के जीवन स्तर को बेहतर बनाने के लिए स्वच्छता सुविधाओं तक उनकी पहुंच, उनका दीर्घकालिक उपयोग तथा जल एवं स्वच्छता के प्रति व्यवहार में सकारात्मक परिवर्तन लाना है। संस्था जनपद बहराइच के विकास खण्ड चित्तौरा मे गरीब, दलित, वंचित व हाशिये पर जीवन यापन कर रहे, समुदायों के मघ्य समावेशी विकास के कार्यो के माघ्यम से सशक्तिकरण व सकारात्मक व्यवहार परिवर्तन, शिक्षा, पेयजल, जल सुरक्षा, स्वच्छता, निरोगदायी व्यवहार, स्कूल वाश, ग्रामीण विकास एंव नागरिक समाज विकास जैसे कार्यो के माध्यम से गाॅवों को खुलें में शौच मुक्त करने के साथ साथ आत्म निर्भर बनाने के लिये बचनबद्ध है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Share it
Top