Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > बिजनौर > बिजनौर : गौशाला में असुरक्षित गौ माताएं

बिजनौर : गौशाला में असुरक्षित गौ माताएं

बिजनौर जिले की बैराज रोड स्थित ब्रज गौशाला जिसमे गौमाता पर किस तरीके से अत्याचार हो रहा है ना चारे की ब्यवस्था और ना ही कोई प्राथमिक उपचार आखिर ये कैसी सेवा हो रही है गौमाता की?

 Special Coverage News |  10 Feb 2019 8:44 AM GMT  |  दिल्ली

बिजनौर : गौशाला में असुरक्षित गौ माताएं
x

नितिन द्विवेदी, बिजनौर

गौमाता की रक्षा के लिए तमाम दल मौजूद है सरकार भी काफ़ी काफ़ी प्रयास कर रही है की गौमाता की सेवा हो और जिसके लिए कई गौशालायो का निर्माण कराया गया है लेकिन हम आपको दिखाते है बिजनौर जिले की ऐसी गौशाला जहाँ सेवा के नाम पर ठगी की जा रही है, जिन्दा गायों को दफनाया जा रहा है और ऐसी तस्वीर जिसे देखकर आप खुद हैरान रह जायेंगे l

सूबे मे जब योगी जी की की सरकार बनी तो ऐसा लगा की गौमाता पर अब हो रहे सारे अत्याचार ख़त्म हो जायेंगे और वर्तमान मे सरकार के द्वारा काफ़ी प्रयास भी हुए लेकिन आपको दिखाते है बिजनौर जिले की बैराज रोड स्थित ब्रज गौशाला जिसमे गौमाता पर किस तरीके से अत्याचार हो रहा है ना चारे की ब्यवस्था और ना ही कोई प्राथमिक उपचार आखिर ये कैसी सेवा हो रही है गौमाता की? हमारी टीम जब इस गौशाला पर पहुंची तो नजारा कुछ और ही था ना तो कोई देखरेख करने वाला जिम्मेदार ब्यक्ति और ना ही कोई बात करने वाला गायों को देखकर ऐसा लग रहा था की जैसे मजबूरन इन्हे कैद कर दिया हो l

हमने आगे बात करनी चाही ग्रामीणों से तो हमें पता चला की इस गौशाला मे कैसे जिन्दा गायों को दफ़न किया जा रहा है और कसाईयो के हाथो इन्हे बेचा जा रहा है एक दृश्य देखकर तो हमारी रूह भी कांप उठी जब हमने देखा की जिन्दा गाय को एक कुत्ता नोच-नोच कर खा रहा है और बेसहारा गाय सिर्फ पैर पटक कर रह जाती है l

हिन्दू धर्म में गौमाता की सेवा और रक्षा सबसे अच्छा कार्य बताया गया है लेकिन इस गौशाला मे गाय की कितनी लापरवाही के साथ सेवा हो रही है और किस तरीके से गाये मर रही है ये अपने आप मे सबसे बड़ा सवाल है? हमें ये भी पाता चला है की रोजाना इस गौशाला मे चार से पांच गाये मर रही है जिसका बाहर पता ही नहीं चलता और कितनी गायों को जिन्दा दफ़न कर दिया गया जिसका किसी को पता ही नहीं चला l एक बड़ा सवाल ये भी है की गौशाला के आस पास के ग्रामीणों का प्रवेश वर्जित है और अगर कोई चला भी जाता है तो उसे गली देकर बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है जबकि गौशाला तो सार्वजानिक है तो आखिर इसका कारण क्या है?

फिलहाल हमने इस विभाग से सम्बंधित पशु चिकित्सा अधिकारी से बात की तो और इस गौशाला की स्थिति से अवगत कराया तो उन्होंने करवाई का आश्वासन देकर पल्ला झाड़ लिया l अब देखना ये है की ऐसे गलत और दबंग लोगो पर शासन शिकंजा कब कस्ता है और गौमाता की दुर्दशा करने वाले ऐसे लोगो पर कार्यवाई कब होती है क्योंकि आग कही और लगी है हल्ला कही और हो रहा है l

बिजनौर से नितिन द्विवेदी की रिपोर्ट

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it