Top
Breaking News
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > गाजियाबाद > गाजियाबाद में खुद को एडीएम सिटी बताकर अवैध कामों के लिए डालता था दबाव, पुलिस ने किया गिरफ्तार

गाजियाबाद में खुद को एडीएम सिटी बताकर अवैध कामों के लिए डालता था दबाव, पुलिस ने किया गिरफ्तार

 Special Coverage News |  10 Sep 2019 9:40 AM GMT  |  गाजियाबाद

गाजियाबाद में खुद को एडीएम सिटी बताकर अवैध कामों के लिए डालता था दबाव, पुलिस ने किया गिरफ्तार

गाजियाबाद में साहिबाबाद पुलिस ने फर्जी एडीएम सिटी को गिरफ्तार किया है, जिसकी पहचान पवन पांडे के रूप में हुई है. पवन इलाहाबाद का रहने वाला है और अभी वो गाजियाबाद में रह रहा था. ये शख्स अधिकारियों पर रौब जमाने के लिए खुद को फोन पर एडीएम बताता था.

आरोप है कि कुछ लोगों का काम कराने के लिए ये पैसे लेकर ठेका लेता था. फिर वह अधिकारियों को फोन करके कहने लगा कि एडीएम पवन पांडे बोल रहा है. अधिकारियों को शुरू में तो लगा कि ये कहीं किसी और जिले का एडीएम है, लेकिन जांच के बाद पता चला कि पवन पांडे नाम का यह शख्स फर्जी एडीएम है और रौब जमाने के लिए वो ऐसा कर रहा था.

फोन कर बताता था एडीएम सिटी

शख्स अपने आपको आगरा का एडीएम सिटी बताकर अधिकारियों को फोन करता था और फिर अवैध काम कराने का दबाव बनाया करता था. गाजियाबाद के डीएम को भी इसने अपना रिश्तेदार बताकर गाजियाबाद के कई अधिकारियों को फोन किया और काम कराने का दबाव बनाया.

गाजियाबाद के लेखपालों द्वारा इस बात की जानकारी अधिकारियों को दी गई. जब इस पूरे मामले में पुलिस ने छानबीन शुरू की तो फर्जी नटवरलाल का पता पुलिस को चला जिसके बाद साहिबाबाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए फर्जी नटवरलाल उर्फ पवन पांडे को गिरफ्तार कर लिया.

गाजियाबाद के एसपी सिटी श्लोक कुमार ने बताया कि गाजियाबाद की कई अधिकारियों के पास पवन पांडे ने फोन कर काम कराने के लिए कहा और अपने आपको गाजियाबाद के डीएम का रिश्तेदार भी बताया. पवन पांडे की मोबाइल नंबर को सर्विलांस पर लगाया गया तो पता चला कि पवन पांडे ने गाजियाबाद के कई अधिकारियों को फोन किया है और उनसे संपर्क कर काम कराने का दबाव भी बनाया.

फिलहाल पवन पांडे को गिरफ्तार कर लिया गया है. इसके पास से पुलिस ने तीन मोबाइल फोन भी बरामद किए गए हैं. इन मोबाइल फोनों में जिले के कई अधिकारियों के सीयूजी नंबर सेव है. आरोपी से पूछताछ की जा रही है. पवन पांडे ने बताया है कि उसने एमए व बीएड तक की पढ़ाई की है.

वहीं, एसपी सिटी श्लोक कुमार ने जनता के लिए भी मैसेज दिया कि शासकीय कार्य में हस्तक्षेप करने पर ऐसे अभियुक्तों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी और इस तरह की फोन कॉल से अलर्ट रहें. अगर इस तरह की कॉल साइन हो तो पुलिस को जानकारी अवश्य दें.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it