Top
Begin typing your search...

नगर आयुक्त दिनेश चंद्र सिंह ने बेहतर कार्य कर रहे सफाई कर्मचारियों को बांटी मिठाईयां

चाहे उनके अधीनस्थ अधिकारी-कर्मचारी हों या फिर समाज के जागरूक लोग, हरेक व्यक्ति करता है उनकी कोशिशों की खुलकर तारीफ

सफाई कर्मचारियों को मिठाई का पैकेट बांटते हुए नगर आयुक्त दिनेश चंद्र सिंह।
X
सफाई कर्मचारियों को मिठाई का पैकेट बांटते हुए नगर आयुक्त दिनेश चंद्र सिंह।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अतिथि संवाददाता

गाजियाबाद। नगर निगम के नगर आयुक्त दिनेश चंद्र सिंह ने बेहतर कार्य करने वाले सफाई कर्मचारियों का मुंह मीठा कराया है। उन्होंने उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए सुबह सुबह मिठाइयों का डिब्बा थमा दिया, जिसे पाकर वे लोग प्रफुल्लित हो गए। एक सफाई निरीक्षक ने बताया कि साहब बड़े अच्छे आदमी हैं। यदि कार्यगत कोताही बरतने पर वह अपने अधीनस्थ कर्मियों या कानून की अवहेलना करने वाले लोगों को तरह-तरह के कानूनी हथकंडे अपनाकर दंडित करते हैं तो जो लोग अच्छा कार्य करते हैं, उन्हें तरह तरह से उपकृत करने की कोशिश भी करते हैं।

वहीं, एक अन्य सफाई कर्मी ने बताया कि कभी वह सबको चाय पिलवाते हैं तो कभी नाश्ता करवाते हैं। कभी हाथोंहाथ नकद पुरस्कार दे देते हैं तो कभी को अन्य सामान दिलवा देते हैं। इसी कड़ी में आज मिठाई का पैकेट मिल गया, जिसे बच्चे पाकर खुश होंगे। अदबी संगम के सचिव अशोक कौशिक ने बताया कि स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 में गाजियाबाद को राष्ट्रीय स्तर पर अव्वल स्थान दिलाने के लिए नगर आयुक्त दिनेश चंद्र सिंह वह सारे काम कर रहे हैं जिसे किसी भी उदार दिल वाले अधिकारी को करना चाहिए। बानगी स्वरूप प्रतिबंधित प्लास्टिक उत्पादों को रोकने के बाद जिस तरह से ठेले-खोमचे वालों को उन्होंने स्टील के दर्जनाधिक प्लेट और 101 रुपये या 51 रुपये के नगद पुरस्कार दिए हैं, उससे उनकी चर्चा गली गली में हो रही है।




वहीं, नवनिर्माण भारत के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वीरेश नागर ने बताया कि नियम कानूनों को धत्ता बताने वालों को दंडित करने और निगम के पक्ष में रिकॉर्ड जुर्माना वसूलने वाले नगर आयुक्त दिनेश चंद्र सिंह जिस तरह से आमलोगों को उनके ठीये पर जाकर उनकी सराहना कर रहे हैं, नकद या सामानों या फिर दोनों प्रकार से उन्हें पुरस्कृत कर रहे हैं, इससे आम धारणा बन रही है कि यह अधिकारी नारियल की तरह ऊपर से सख्त लेकिन भीतर से मुलायम हैं, जिसने नगर निगम क्षेत्र का कायाकल्प करने में अग्रणी भूमिका का निर्वहन किया है। यदि इस बार के स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में गाजियाबाद को यदि राष्ट्रीय स्तर पर अव्वल स्थान प्राप्त होता है तो इसका सारा श्रेय उनकी मिलनसारिता को जाएगा।


Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it