Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > कौशाम्बी > कौशांबी में पति-पत्नी की घर के अंदर मिली लाश, कौन किसका बना कातिल?

कौशांबी में पति-पत्नी की घर के अंदर मिली लाश, कौन किसका बना कातिल?

 Special Coverage News |  25 Nov 2019 3:30 AM GMT  |  कौशाम्बी

कौशांबी में पति-पत्नी की घर के अंदर मिली लाश, कौन किसका बना कातिल?

कौशांबी. उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले में एक दम्पति की घर के अंदर शव मिलने की सूचना से सनसनी फैल गयी. पत्नी की लाश बेड पर थी तो पति का शव फांसी के फंदे पर लटकता मिला. घर के लोगों ने जब कमरे का दरवाजा खोला तो उनके होश उड़ गए. घर के लोगों ने पुलिस को सूचना दी. मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और जांच में जुट गई.

कौन किसका कातिल बना रहस्य?

सदर कोतवाली के कोर्रो गांव में रविवार की शाम कमरे के अंदर संदिग्ध हालत में दंपति का शव बरामद किया गया. महिला की लाश बेड पर थी, जबकि युवक का शव फांसी से लटक रहा था. इससे आशंका जताई जा रही है कि पत्नी की हत्या के बाद युवक ने फांसी लगाकर जान दी होगी. या पत्नी ने आत्महत्या की होगी और पति डर के कारण फांसी के फंदे पर लटक कर मौत को गले लगा लिया होगा. घटना की जानकारी पर पहुंची पुलिस ने जांच-पड़ताल के बाद शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया.

नशे का इजेक्शन लेता था पति

कोर्रो गांव निवासी आशीष सेन (26) पुत्र स्वर्गीय बाबूलाल सेन की पहली पत्नी उसे छोड़ चुकी थी. चार महीने पहले उसने प्रयागराज की शादीशुदा महिला सुनीता (24) से प्रेम विवाह किया था. सुनीता के पहले पति से चार साल का बेटा चेतन है. रविवार की शाम घर के एक कमरे में आशीष व सुनीता का शव अलग-अलग चारपाई पर मिला. जिस स्थान पर शव पड़े थे, वहां छत के चुल्ले से एक साड़ी लटक रही थी. आशीष के भाई शंकर ने पुलिस को बताया कि शाम पांच बजे उसकी मां सावित्री देवी, बहू सुनीता को खाना बनाने के लिए पहुंची. कमरे में जाकर देखा तो सुनीता का शव चारपाई पर था, जबकि आशीष फांसी के फंदे पर लटक रहा था. आशीष के जिंदा होने की आशंका में उसने लाश नीचे उतारा लेकिन वह मर चुका था.

घटना को लेकर गांव में तरह-तरह की चर्चा

घटना को लेकर गांव में तरह-तरह की चर्चा है. परिवार के लोगों ने बताया कि आशीष ड्रग्स (नशे का इंजेक्शन) का आदी था. शायद इसी बात को लेकर पत्नी से उसका विवाद हुआ होगा. इस दौरान गुस्से में आकर पत्नी की हत्या करने के बाद उसने जान दे दी. यह भी आशंका जाहिर किया जा रहा है कि शायद सुनीता ने खुद ही जान दे दी हो और फंसने के डर से आशीष ने फांसी लगा लिया.

जानकारी मिलने के बाद सीओ सिटी एसएन पाठक, प्रभारी कोतवाल रमेश पटेल, फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट के साथ मौके पर पहुंचे. मौका मुआयना करने के बाद शवों का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. सीओ सचिदानंद पाठक के मुताबिक आशीष नशे का लती था. सुनीता की लाश घरवालों ने चारपाई में पड़ी थी. जबकि आशीष का शव फांसी पर लटका था. फिलहाल पूरे मामले की जांच की जा रही है

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it