Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > लखनऊ > मायावती के 64 वें जन्मदिन के मौके पर बसपा पेश करेगी अपना सियासी रोडमैप!

मायावती के 64 वें जन्मदिन के मौके पर बसपा पेश करेगी अपना सियासी रोडमैप!

मायावती के 2019 के सियासी सफर के बारे में बात करें तो मायावती ने 2019 में लोकसभा का चुनाव लड़ा और उत्तर प्रदेश में 10 सीटों पर विजय प्राप्त की, हालांकि 2019 के लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन उतना अच्छा न कर सका.

 Shiv Kumar Mishra |  12 Jan 2020 6:30 AM GMT  |  लखनऊ

मायावती के 64 वें जन्मदिन के मौके पर बसपा पेश करेगी अपना सियासी रोडमैप!
x

लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती का आगामी 15 जनवरी को जन्मदिन है. 15 जनवरी 2020 को बसपा मुखिया मायावती अपना 64वां जन्मदिन मनाएंगी. बता दें कि मायावती जब सत्ता में रहती थी तो जन्मदिन बहुत धूमधाम से मनाया जाता था. लेकिन जब से मायावती सत्ता से बाहर हुई है उनका जन्मदिन सादगी से "जनकल्याणकारी दिवस" के तौर पर मनाया जाता है. बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती के जन्मदिन को लेकर उनके कार्यकर्ताओं में काफी उत्साह दिखाई देता है.

सियासी रोड मैप

इस दिन मायावती 'मेरे संघर्षमय जीवन का 'सफरनामा नाम की पुस्तक का भी विमोचन करती हैं. इससे पहले 2019 में भी उन्होंने इस पुस्तक का विमोचन किया था. मायावती खुद अपने शब्दों में इसे ब्लूबुक कहती हैं. इस किताब में मायावती अगले 1 सालों तक के लिए अपने सियासी रोड मैप के बारे में अपने कार्यकर्ताओं को बताती हैं.

सपा से किया था गठबंधन

मायावती के 2019 के सियासी सफर के बारे में बात करें तो मायावती ने 2019 में लोकसभा का चुनाव लड़ा और उत्तर प्रदेश में 10 सीटों पर विजय प्राप्त की हालांकि 2019 के लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के साथ बहुजन समाज पार्टी का मजबूत दिखाई देने वाला गठबंधन था लेकिन यह गठबंधन उतना अच्छा न कर सका जिसकी उम्मीद तमाम राजनैतिक पंडितों और सियासी पार्टियों को थी. हालांकि पार्टी को 2019 के लोकसभा चुनाव में 19 फीसद से ज़्यादा वोट मिला था.

बसपा ने किन-किन मुद्दों पर लड़ा चुनाव

बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती को जिस रूप में उनकी पार्टी मिली थी. उस रूप में वह पार्टी नहीं रही. मायावती ने अपने पार्टी के विस्तार को लेकर के ना सिर्फ गंभीरता से सोचा बल्कि जमीन पर कई सारे नए प्रयोग भी किए. कभी सोशल इंजीनियरिंग, कभी दलित, मुस्लिम और ओबीसी गठबंधन का प्रयोग मायावती ने किया. मौजूदा वक्त में देखें तो अब तक उत्तर प्रदेश को छोड़कर के मध्य प्रदेश, राजस्थान छत्तीसगढ़, बिहार, दिल्ली, हरियाणा हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, केरल , महाराष्ट्र, पंजाब ,तेलंगाना, उत्तराखंड में भी बहुजन समाज पार्टी ने अपने उम्मीदवारों को चुनाव में उतारा है.आगामी 15 जनवरी 2020 को मायावती जन्मदिन के मौके पर प्रेस वार्ता करेंगी. देखने वाली बात होगी कि इस बार मायावती जन्मदिन के मौके पर किन सियासी मुद्दों को अपने कार्यकर्ताओं के बीच पहुंचाने की कोशिश करेंगी.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it