Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > लखनऊ > लखनऊ लोकसभा उम्मीदवार आचार्य प्रमोद कृष्णम शत्रुघ्न सिन्हा से बोले, कांग्रेस का टिकिट लौटाओ

लखनऊ लोकसभा उम्मीदवार आचार्य प्रमोद कृष्णम शत्रुघ्न सिन्हा से बोले, कांग्रेस का टिकिट लौटाओ

सबसे बड़ी बात यह है कि आचार्य की पहचान हिन्दू मुस्लिम एकता का प्रतीक की तरह पहचान है. आचार्य के साथ पूरे लखनऊ के मुस्लिम समाज का लाम बंद होना तय माना जा रहा है, आचार्य ने कल्बे जब्बाद से भी मुलाकात कर उनका साथ ले लिया है.

 Special Coverage News |  20 April 2019 5:13 AM GMT  |  लखनऊ

लखनऊ लोकसभा उम्मीदवार आचार्य प्रमोद कृष्णम शत्रुघ्न सिन्हा से बोले, कांग्रेस का टिकिट लौटाओ
x

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस की टिकिट पर चुनाव लड़ रहे आचार्य प्रमोद कृष्णम ने पटना लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार शत्रुघ्न सिन्हा को राय दी है कि आप अपना टिकिट कांग्रेस को लौटा दो. इसके बाद आप अपनी पत्नी का प्रचार करें.


मालूम हो कि समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस के नेता शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा को लखनऊ लोकसभा सीट से महागठबंधन का उम्मीदवार बनाया है. जबकि कांग्रेस ने आचार्य प्रमोद कृष्णम को उम्मीदवार बनाया है. लेकिन जब पूनम सिन्हा ने पर्चा दाखिल किया तो उनके पति शत्रुघ्न सिन्हा उनके रथ पर सवार होकर निकले थे. तो आचार्य ने उन्हें एक साधू की तरह सलाह दी कि आप ने अपना पति धर्म निभा दिया अब जल्द ही हमारा प्रचार करके पार्टी धर्म भी निभाओ.


उसके बाद आज आचार्य ने कहा कि शत्रुघ्न सिन्हा उनकी पार्टी के पटना लोकसभा सीट से उम्मीदवार है. इसके बाद भी वो सपा बसपा रालोद उम्मीदवार का प्रचार कर रहे है. हाँ अगर उनको गठबंधन से इतना ज्यादा लगाव है तो उनको पटना लोकसभा सीट का टिकिट कांग्रेस अध्यक्ष को वापस कर देना चाहिए. उन्होंने कहा है कि उनके प्रचार के लिए देश भर से साधू महात्माओं ने आना शुरू कर दिया है. सभी जनता को साथ लेकर हम चुनाव लड़ेंगे.


हालांकि नामांकन के दिन से ही लखनऊ में साधू महात्माओं का जमावड़ा लगना शुरू हो चूका है. आचार्य के लिए साधू महात्मा गली गली घूमकर वोट मांग रहे है. जबकि घर घर जाकर साधू यह भी कह रहे है कि आचार्य के जीतने से राम मंदिर बनने का भी रास्ता साफ होगा. आचार्य राम मंदिर मुद्दे पर हमेशा बीजेपी को घेरते रहे है. आचार्य ने फिलहाल राजनाथ सिंह के सामने एक चुनौती पेश कर दी है, सबसे बड़ी बात यह है कि आचार्य की पहचान हिन्दू मुस्लिम एकता का प्रतीक की तरह पहचान है. आचार्य के साथ पूरे लखनऊ के मुस्लिम समाज का लाम बंद होना तय माना जा रहा है, आचार्य ने कल्बे जब्बाद से भी मुलाकात कर उनका साथ ले लिया है.


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it