Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > लखनऊ > वाह रे भाजपा का न्याय? उन्नाव बलात्कार केस, शाहजहाँपुर बलात्कार केस, पीडिता पर दबाब क्यों?

वाह रे भाजपा का न्याय? उन्नाव बलात्कार केस, शाहजहाँपुर बलात्कार केस, पीडिता पर दबाब क्यों?

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी ने बीजेपी सरकार पर हमला बोला है.

 Special Coverage News |  26 Sep 2019 5:52 AM GMT  |  दिल्ली

वाह रे भाजपा का न्याय? उन्नाव बलात्कार केस, शाहजहाँपुर बलात्कार केस, पीडिता पर दबाब क्यों?

शाहजहाँपुर। स्वामी चिन्मयानन्द मामले में पीडिता की गिरफ्तारी होने के बाद कांग्रेस की महासचिव और यूपी की प्रभारी प्रियंका गाँधी ने बीजेपी सराकर पर बड़े गंभीर आरोप लगाये है। प्रियंका ने कहा है कि पहले उन्नाव प्रकरण में पीडिता के खिलाफ केस दर्ज हुआ चाचा जेल भेज दिए गये अब शाहजहांपुर के स्वामी चिन्मयानन्द केस में पीडिता को जेल भेजा गया है। क्या यही है बीजेपी का न्याय?

प्रियंका ने कहा है कि उन्नाव बलात्कार केस पीड़िता के पिता की हत्या। पीड़िता के चाचा गिरफ़्तार। भारी जन दबाव के बाद घटना के 13 महीने बाद आरोपी विधायक गिरफ़्तार। पीड़िता के परिवार को जान से मारने की कोशिश। शाहजहाँपुर बलात्कार केस: पीड़िता गिरफ़्तार। पीड़िता के परिवार पर दबाव। ये हो रहा है बीजेपी की सरकार में क्या यही न्याय है?

प्रियंका ने कहा है कि आरोपी भाजपा नेता को पुलिस ने जानबूझकर देरी की। जन दबाव पड़ने के बाद गिरफ़्तार किया। आरोपी भाजपा नेता पर अब तक बलात्कार का चार्ज तक नहीं लगाया।वाह रे भाजपा का न्याय?

क्या है पूरा मामला SIT ने बताया

स्वामी चिन्मयानंद से जुड़े हाईप्रोफाइल मामले में रेप का आरोप लगाने वाली पीड़ित छात्रा को जेल भेजने के बाद एसआईटी ने बुद्धवार शाम को प्रेसवार्ता की। एसआईटी ने बताया कि स्वामी चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के मामले में लड़की के खिलाफ पर्याप्त सबूत मिले थे जिसके आधार पर उसकी गिरफ्तारी की गई। एसआईटी ने बताया कि साक्ष्य एकत्र किए गए और दस्तावेजी बयान लिए गए। कुछ ऐसे साक्ष्य थे जो फॉरेंसिक लैब भेजे गये जिसमे पेन ड्राइव एवं मोबाइल फोन शामिल था।

पुलिस लाइन में आयोजित एसआईटी की प्रेस कांफ्रेंस में आईपीएस भारती सिंह ने बताया कि मगंलवार की रात को एफएसएल से रिपोर्ट मिली। रात को भी छात्रा से पूछताछ की गई थी। सुबह हम साक्ष्यों के साथ उसके आवास पर गये। उन्होंने बताया कि हमने लड़की से गहन पूछताछ की। सारे वीडियो दिखाये, आवाज सुनाई। उन्होंने बताया कि इस बात का स्पष्ट साक्ष्य है कि पांच करोड़ रूपये की मांग की गई थी।

गिरफ्तार अन्य आरोपियों ने बताया कि लड़की के कहने पर ही उन्होंने चिन्मयानंद को व्हाटस एप मैसेज किया था। आईपीएस भारती सिंह ने बताया कि हमारी टीम ने सारे डिजिटल साक्ष्य लिए और उनके आधार पर लड़की से पूछताछ की। सबकी लोकेशन चेक कराई गई। उन्होंने बताया कि जब पर्याप्त साक्ष्य हो गये तो तय हुआ कि लड़की को अब गिरफ्तार किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि कोतवाली थाने में मामला दर्ज कराया गया और लड़की को अदालत में पेश किया। इससे पहले उसकी चिकित्सकीय जांच करायी गई। उन्होंने बताया कि अदालत ने लड़की को 7 अक्तूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top