Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > लखनऊ > फिर इतिहास रचने जा रहे हैं मुख्य सचिव डा.अनूप चंद्र पाण्डेय!

फिर इतिहास रचने जा रहे हैं मुख्य सचिव डा.अनूप चंद्र पाण्डेय!

यूपी में लोकसभा चुनाव में मिली सफलता के बाद मुख्य सचिव डा. अनूप चंद्र पाण्डेय का कद और प्रभाव में काफी इजाफा हुआ है। अगस्त 2019 में मुख्य सचिव अनूप चंद्र पाण्डेय का रिटायरमेंट हैं।

 Special Coverage News |  28 July 2019 6:38 AM GMT  |  लखनऊ

फिर इतिहास रचने जा रहे हैं मुख्य सचिव डा.अनूप चंद्र पाण्डेय!
x

राज्य मुख्यालय लखनऊ। यूपी के मुख्य सचिव डा.अनूप चंद्र पाण्डेय फिर एक नया इतिहास रचने जा रहे हैं। अपनी तेजतर्रार कार्यशैली और सरकार के 'यस मैन होने के कारण फिर से तीन से छह माह का कार्यकाल बढऩे जा रहा है। जहां डा. अनूप चंद्र पाण्डेय प्रदेश की नौकरशाही में मुख्य सचिव के पद पर अधिक एक्सटेंशन पाने का तमगा पाने वाले पहले अफसर बन जाएंगे वहीं मुख्य सचिव बनने की कतार में लगे कई अफसर मायूस हैं।

बताते चलें कि डा. अनूप चंद्र पाण्डेय को 13 आईएएस अफसरों को सुपरसीट करके मुख्य सचिव बनाया गया था। अनूप चंद्र पांडेय को किसान कर्ज माफी योजना और यूपी इन्वेस्टर्स समिट, फस्र्ट ग्राउंड ब्रेकिंग सेरमनी के सफल आयोजन के बाद से मुख्यमंत्री के पंसदीदा और सबसे अधिक विश्वासपात्र अफसरों में शुमार हैं। लोकसभा चुनाव से पहले फरवरी माह में मुख्य सचिव डा. अनूप चंद्र पाण्डेय का रिटायरमेंट था। लेकिन योगी सरकार की सिफारिश पर मोदी सरकार ने छह माह का कार्यकाल बढ़ाया था। यूपी में लोकसभा चुनाव में मिली सफलता के बाद मुख्य सचिव डा. अनूप चंद्र पाण्डेय का कद और प्रभाव में काफी इजाफा हुआ है। अगस्त 2019 में मुख्य सचिव अनूप चंद्र पाण्डेय का रिटायरमेंट हैं।

शासन के सूत्रों का कहना है कि 28 अगस्त को सेकेंड ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी का आयोजन किया जा रहा है। इस आयोजन में भाजपा के चाणक्य और देश के गृहमंत्री अमित शाह मुख्य अतिथि हैं। इस आयोजन को सफल बनाने के लिए मुख्य सचिव मुख्य सचिव डा. अनूप चंद्र पाण्डेय काफी पसीना बहाया है। सरकार इसका इनाम तीन से छह माह का कार्यकाल बढ़ाने की सिफारिश करने की तैयारी में है। सत्ता के गलियारे में चर्चा इस बात की भी है कि केन्द्र की तर्ज पर प्रमुख सचिव नृपेन्द्र मिश्र की तरह यूपी में भी मुख्य सचिव डा. अनूप चंद्र पाण्डेय को कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्रदान किया जा सकता है। साथ ही नौकरशाही की पूरी कमान कैबिनेट सचिव के तौर पर दी जा सकती है। इस कयासों से मुख्य सचिव के दावेदार अफसरों में काफी खलबली मची हुई है। कुछ वेट एंड वॉच की स्थिति में हैं और कुछ अभी भी रेस में बने रहने के लिए हाथ-पांव मार रहे हैं।

इनके लगी मायूसी मुख्य सचिव पद के दावेदारों में 1982 बैच के प्रवीर कुमार इसी माह जुलाई 2019 में रिटायर होंगे। जबकि पूर्व मुख्य सचिव दीपक सिंघल नवम्बर 2019 में रिटायर होंगे। समाज कल्याण आयुक्त पद से चंद्र प्रकाश जून 2019 में रिटायर हो गए। यूपी के पूर्व मुख्य सचिव और 1983 बैच के राहुल भटनागर नवम्बर 2019 में रिटायर होंगे। अपने कारनामों से चर्चित वरिष्ठ आईएएस चंचल तिवारी मार्च 2019 में रिटायर हो गए।

सुप्रीम कोर्ट तक वरिष्ठ आईएएस संजीव सरन की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े कर चुका है। इनका भी रिटायरमेंट नवम्बर 2019 में है।1985 बैच के वरिष्ठ आईएएस अफसर प्रभात कुमार अप्रैल 2019 में रिटायर होने के बाद लोकसेवा आयोग का अध्यक्ष बनाया गया है। तेजतर्रार महिला आईएएस अनिता भटनागर जैन नवम्बर 2019 में रिटायर होंगी। लेकिन अपने राजनीतिक संबंधों के कारण जल्द ही कृषि उत्पादन आयुक्त के पद पर तैनात किए जाने की संभावना है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it