Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > लखनऊ > सिंधिया की समीक्षा बैठक से निकली नई बात, यूपी के कांग्रेसियों में हार बाद फैली ख़ुशी जानिये क्यों?

सिंधिया की समीक्षा बैठक से निकली नई बात, यूपी के कांग्रेसियों में हार बाद फैली ख़ुशी जानिये क्यों?

 Special Coverage News |  15 Jun 2019 7:32 AM GMT

सिंधिया की समीक्षा बैठक से निकली नई बात, यूपी के कांग्रेसियों में हार बाद फैली ख़ुशी जानिये क्यों?
x

कांग्रेस के सीनियर नेता और पश्चिमी यूपी के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया लखनऊ में पार्टी के खराब प्रदर्शन की समीक्षा करने पहुंचे. हार के कारणों पर चर्चा के लिए लाजिमी था कि वो नेता भी मीटिंग में मौजूद रहते जो चुनाव लड़ रहे थे. लेकिन इस मीटिंग से लगभग वो सभी कांग्रेसी गायब थे जिनसे फीडबैक सिंधिया को लेनी थी. जो नेता मीटिंग में मौजूद रहे, उन्होंने अपनी हार के लिए कमजोर संगठन, दल-बदलु नेताओं को तरजीह, नेताओं-कार्यकर्ताओं की उपेक्षा को जिम्मेदार ठहराया.

रिपोर्ट के मुताबिक कानपुर से चुनाव लड़ने वाले श्रीप्रकाश जायसवाल इस मीटिंग में मौजूद नहीं रहे. यही नहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री और फर्रुखाबाद से कांग्रेस कैंडिडेट सलमान खुर्शीद भी लखनऊ पार्टी मुख्यालय नहीं पहुंचे और इस अहम मीटिंग से दूर रहे. एक दूसरे अहम नेता और धौरहरा से लोकसभा का चुनाव लड़ने वाले जितिन प्रसाद भी इस समीक्षा बैठक में दूर रहे. इन नेताओं की गैरहाजिरी के बारे में ज्योतिरादित्य सिंधिया के बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. हालांकि इनके न आने से मीटिंग का मकसद अधूरा जरूर रह गया.

बैठक में शामिल कई नेताओं ने पार्टी की हार के लिए कमजोर संगठन को जिम्मेदार ठहराया. सूत्रों के मुताबिक यूपी कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने कहा कि संगठन न होने की वजह से राज्य में पार्टी के पक्ष में माहौल नहीं बनाया जा सका. वहीं कुछ नेताओं ने कहा कि पार्टी ने वफादार कार्यकर्ताओं की बजाय दल बदलु नेताओं को तरजीह दी. इसकी वजह से कार्यकर्ता ऐसे नेता के पीछे एकजुट होने में हिचकिचाते रहे.

2022 के लिए प्रियंका को चेहरा बनाने पर जोर

समीक्षा बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए सिंधिया ने कहा कि 2022 का विधानसभा चुनाव पार्टी पूरी ताकत के साथ लड़ेगी. उन्होंने कहा, "2022 के विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने अहम फीडबैक और सुझाव दिए, ताकि संगठन को मजबूत किया जा सके, चुनाव नतीजे पूरी तरह से असंतोषजनक हैं लेकिन हम आने वाले चुनाव पूरी ताकत के साथ लड़ेंगे." मीटिंग के अहम बिंदुओं में प्रियंका गांधी को 2022 विधानसभा चुनाव के लिए सीएम कैंडिडेट घोषित करना भी शामिल रहा. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, "प्रियंका को सीएम का चेहरा घोषित करने से जुड़ा फैसला पार्टी आलाकमान लेगी, लेकिन अभी हमारी प्राथमिकता संगठन को मजबूत करने की है."

बता दें कि जब प्रियंका गांधी इस सप्ताह रायबरेली में पार्टी के प्रदर्शन की समीक्षा कर रही थीं तो ज्यादातर नेताओं ने उनसे आने वाले विधानसभा चुनाव में सीएम चेहरा बनने की अपील की.

मीटिंग में शिरकत कर रहे कांग्रेस नेता और पूर्व सांसद राजाराम पाल ने कहा कि यह पूरी तरह से स्पष्ट हो चुका है कि आने वाले चुनाव पार्टी बगैर गठबंधन के अपने दम पर लड़ेगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस अब बूथ स्तर पर पूरे राज्य में पार्टी को मजबूत करने पर जोर देगी. कांग्रेस नेता सावित्री बाई फुले ने अपनी हार के लिए ईवीएम को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा कि वो बैलट पेपर से चुनाव की मांग कर चुकी हैं. सावित्री बाई ने अपने इस फैसले से कांग्रेस नेतृत्व को अवगत करा दिया है. उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों में कांग्रेस को मात्र एक सीट मिली है. यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी रायबरेली से चुनाव जीती हैं.

Tags:    
Next Story
Share it