Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > लखनऊ > STF ने उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् के नाम की फर्जी वेबसाइट बनाने वाला मोहमद ईशा राही को किया गिरफ्तार

STF ने उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् के नाम की फर्जी 'वेबसाइट' बनाने वाला मोहमद ईशा राही को किया गिरफ्तार

 Special Coverage News |  25 Sep 2019 4:00 PM GMT  |  लखनऊ

STF ने उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् के नाम की फर्जी वेबसाइट बनाने वाला मोहमद ईशा राही को किया गिरफ्तार
x

यूपी एसटीएफ ने उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् के नाम पर www.upbme.org नाम की फर्जी 'वेबसाइट' बनाने वाला अभियुक्त जामिया नगर दिल्ली से गिरफ्तारकिया है। एसटीएफ ने उत्तर प्रदेश को उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् के नाम पर www.upbme.org नाम की फर्जी 'वेबसाइट' बनाकर backend पर 'कोडिंग' कर उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् की 'वेबसाइट' समझ कर 'वेबसाइट' पर 'विजिट' करने वालों द्वारा लिंक को क्लिक करने पर youtube पर बनाये गये ishanllb नामक चैनल को subscribe कराने वाले अभियुक्त को जामिया नगर दिल्ली से गिरफ्तार करने में उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई।

वरिष्ठ सहायक, मदरसा शिक्षा परिषद, 704 जवाहर भवन, लखनऊ द्वारा दिनांक 19/06/2019 को थाना हजरतगंज, जनपद लखनऊ मे मु0अ0स0 315/2019 धारा 420/467/468/471 भा0द0वि0 व 66 सूचना प्रोद्यौगिकी अधिनियम 2008 का पंजीकृत कराया गया कि उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् का नवीन पोर्टल दिनांक 18/08/2017 को लांच किया गया था वर्तमान मे madarsaboard.upsdc.gov.in उत्तर प्रदेश सरकार का अधिकृत पोर्टल है, किन्तु यह जानकारी हुई कि वर्तमान मे www.upbme.org नामक फर्जी 'वेबसाइट' उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् के नाम से चल रही है। इस फर्जी 'वेबसाइट' पर उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् के पोर्टल से कतिपय सूचनांए डाउनलोड करके अपलोड की गयी हैं, जिससे जनसामान्य मे न केवल भ्रम की स्थिति है बल्कि इसके दुरूपयोग की भी सम्भावनांए हैं। इस सम्बन्ध में शासन द्वारा एस0टी0एफ0 से इस प्रकरण में कार्यवाही करने की अपेक्षा की गयी थी।

उपरोक्त के परिप्रेक्ष्य में उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् के नाम पर www.upbme.org नाम की फर्जी 'वेबसाइट' बनाने वाले अभियुक्त की गिरफ्तारी हेतु अमिताभ यश पुलिस महानिरीक्षक स्पेशल टास्क फोर्स उ0प्र0 लखनऊ द्वारा राजीव नरायण मिश्र, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, एसटीएफ को निर्देशित किया गया था। जिस क्रम में विशाल विक्रम सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक के पर्यवेक्षण में मुख्यालय स्थित साइबर क्राइम टीम द्वारा अभिसूचना संकलन की कार्यवाही प्रारम्भ की गयी।

अभिसूचना संकलन के दौरान ज्ञात हुआ कि मो0 ईशा राही नामक व्यक्ति के द्वारा दिनांक 13/03/2016 को P.D.R Solutions FZC,, F-20, Business Center 1, Business Park, RAK Free Trade Zone, Ras Al Khaimah country:AE से upbme.org नामक 'डोमेन' लेकर www.upbme.org नामक 'वेबसाइट' डेवलप किया गया है। जिसको समय समय पर ईशाराही द्वारा renewal & update किया जा रहा है। इलेक्ट्रानिक तकनीक के माध्यम से उपरोक्त सूचना को विकसित करते हुए साइबर टीम द्वारा दिनांक 24/09/2019 को गफ्फार मंजिल कालोनी थाना जामियानगर नई दिल्ली से समय करीब 17ः00 बजे उपरोक्त अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया जिससे उपरोक्त बरामदगी हुइ्र्र।

उपरोक्त 'वेबसाइट' के सम्बन्ध मे पूछताछ पर अभियुक्त ने बताया कि उसनेे ही 2016 मे P.D.R Solutions से upbme.org नामक 'डोमेन' लेकर 'वेबसाइट डेवलप' किया है। जिसको समय समय पर renewal & update करता रहता हूॅ madarsaboard.upsde.gov.in पोर्टल से लिंक/डेटा कापी कर अपनी 'वेबसाइट' पर लिंक अपलोड/पेस्ट कर देता हूॅ 'वेबसाइट' बनाते समय मैने Contact page पर उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद् का नम्बर व पता दिया था जिससे लोग इस 'वेबसाइट' को भी उत्तर प्रदेश सरकार का अधिकृत 'पोर्टल' माने। 2016 मे उसके द्वारा Youtube पर Ishanllb नाम का चैनल बनाया गया जिस पर मै ट्यूटोरियल वीडियो बनाकर 'अपलोड' करता हूॅ। subscriber, viewer और advertisement के अनुसार google द्वारा उसे प्रति माह रू0 1,50,000/- से रू0 2,00,000/-(एक लाख पचास हजार से दो लाख) प्राप्त हो जाते है। Youtube पर मेरे चैनल के लगभग 30,00,000/- (तीस लाख) follower हैं। www.upbme.org 'वेबसाइट' पर मेरे द्वारा backend पर 'कोडिंग' कर दिया गया था जिससे उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद की 'वेबसाइट' समझ कर 'वेबसाइट' पर 'विजिट' करने वालों द्वारा लिंक को क्लिक करने पर Youtube पर उसकेे द्वारा बनाया गया Ishanllb चैनल automatic subscribe हो जाता है, जिससे उसकेsubscriber, viewer बढते रहते है। साथ ही यह भी बताया कि मदरसा अंसारिया बिजनौर से 2013 मे उसने मुंशी मौलवी का कोर्स किया इसके बाद उसने 2014 मे बिजनौर से कम्प्यूटर मे 'एडीसीए वेब कोर्स' किया और 2019 मे ही उसने बिजनौर से ही अपनी एल0एल0बी0 की शिक्षा पूर्ण की है। बिजनौर मे उसका 'ईशान कम्प्यूटर' के नाम से 'कम्प्यूटर एकेडमी' है जिसे अब उसका भाई मूसा देखता है, मै 2018 से दिल्ली में अपनी पत्नी के साथ रह रहा हॅू। बैंक से प्राप्त 'एकाउंट स्टेटमेंट' से ज्ञात हुआ है कि मो0 ईशा के बैंक खाते मे अप्रैल 2018 से अब तक कुल 69 लाख रूपये आये है जिसके सम्बन्ध मे जांच की जा रही है।

गिरफ्तार अभियुक्त को मु0अ0स0 315/2019 धारा 420/467/468/471 भा0द0वि0 व 66 सूचना प्रोद्यौगिकी अधिनियम 2008 थाना हजरतगंज जनपद लखनऊ में दाखिल कर अग्रिम विधिक कार्यवाही स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही है।

O

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it