Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > लखनऊ > अपराध नियंत्रण और भ्रष्टाचार मुक्त प्रदेश बनाने में नाकाम योगी सरकार नाराज, आज गिर सकती दो कप्तानों पर गाज

अपराध नियंत्रण और भ्रष्टाचार मुक्त प्रदेश बनाने में नाकाम योगी सरकार नाराज, आज गिर सकती दो कप्तानों पर गाज

 Special Coverage News |  4 Aug 2019 6:40 AM GMT  |  दिल्ली

अपराध नियंत्रण और भ्रष्टाचार मुक्त प्रदेश बनाने में नाकाम योगी सरकार नाराज, आज गिर सकती दो कप्तानों पर गाज
x

राज्य मुख्यालय लखनऊ। अपराध नियंत्रण में नाकाम हो रही रामराज का नारा देकर सत्ता में आने वाली मोदी की भाजपा सरकार के मुखिया योगी आदित्यनाथ व उनके पसंदीदा अफसर नाकाम हो रहे है कल तर सरकार में न होने पर सपा सरकार पर थाने बेचने का आरोप लगाने वाली पार्टी की सरकार में भी थाने बिक रहे है जिसकी पुष्टी सरकार ने ही की है बीती रात बुलंदशहर के एसएसपी को इसी आरोप की पुष्टी होने पर हटाया गया है बुलंदशहर के अलावा और भी जिले है जहाँ थाने बिक रहे है भ्रष्टाचार का आलम ये है कि थाना प्रभारी अपने सह पाठियो से कहते है कि कुछ तुम कमाओ और हमें भी कमवाओ ये हाल है जिलो और थानों का एक जिले में तैनात सीओ लोगों से कहते है कि लड्डू वडडू खिलाओ यार ऐसे नही काम चलेगा इसका मतलब अवैध आमदनी कराओ वही थाना प्रभारियो की भाषा भी लगभग ऐसी ही है वो कहते है कि एक रोटी दो रोटी से कम नही मतलब एक लाख या दो लाख से कम नही ये हाल है।

रामराज का दावा करने वाली योगी सरकार की पुलिस का सिर्फ़ बुलंदशहर के एसएसपी को हटा देने से प्रदेश की कानून-व्यवस्था पटरी पर आने वाली नही है और बहुत बदलाव की ज़रूरत है प्रमुख सचिव गृह को बदल देने से अगर कानून-व्यवस्था सही हो जाया करती तो सब यही काम कर लिया करते और आराम से सरकार चला रहे होते।प्रदेश के दो महत्वपूर्ण जिलों के कप्तान आज हटा दिये जायेंगे।लंबे समय से ज़िले में जमे इन कप्तानों को अपराध नियंत्रण में लगातार शिथिल पाया जा रहा है।समीक्षा बैठकों और वीडियो कांफ्रेंसिंग में इनको फटकार भी लगी है मगर परिस्थितियों में कोई सुधार नही हो रहा है।पिछले दो महीनों में इनके जनपदों में अपराध में काफी वृद्धि दर्ज की गयी है।

उच्च स्तर पर कल रात दोनों जिलों के कप्तान हटाने पर मंथन हुआ मगर विकल्प तय न हो पाने से कल इनको नही हटाया जा सका सरकार चाहती है कि दोनों जनपदों में ईमानदार व तेज़ तर्रार और साफ सुथरी छवि के अफसरों को तैनात किया जाए। सीनियर आईपीएस अफसर ने जो नाम सरकार को सुझाए वो भले ही जिलों में तैनात हैं मगर उनकी आम शोहरत ठीक नही है। गृह विभाग के नए मुखिया ने DG मुख्यालय से दोनों जनपदों के लिये तीन -तीन नाम मांगे हैं। उम्मीद है कि उन्हीं में से किसी दो का भाग्य चमकेगा।

Tags:    
Next Story
Share it