Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > लखनऊ > योगी सरकार के तीन मंत्री देंगे इस्तीफा

योगी सरकार के तीन मंत्री देंगे इस्तीफा

योगी सरकार बनने के वक्त मंत्री बनने से चूक जाने वाले कुछ विधायकों को इस बार मौका मिलने की आस है. रेस में शामिल विधायकों ने लामबंदी भी तेज कर दी है.

 Special Coverage News |  4 Jun 2019 2:55 AM GMT  |  लखनऊ

योगी सरकार के तीन मंत्री देंगे इस्तीफा
x

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार से उसके तीन मंत्री आज इस्तीफा देंगे. इन मंत्रियों में रीता बहुगुणा जोशी , मंत्री सत्यदेव पचौरी और मंत्री एसपी सिंह बघेल है. यह तीनों मंत्री क्रमशः इलाहाबाद लोकसभा , कानपुर लोकसभा और आगरा लोकसभा क्षेत्र से सांसद चुने जा चुके है. अब यह यूपी की विधानसभा सदस्यता से भी इस्तीफा देंगे. हालांकि सपा से चुने गये सांसद आजम खान अपना इस्तीफा सोमवार को सौंप चुके है.

अब उत्तर प्रदेश में फिलहाल कई विभाग खाली है. लिहाजा मंत्रीमंडल का विस्तार भी जल्द होगा ताकि जातीय समीकरण भी बना रहे. अभी जल्द में ही ओमप्रकाश राजभर भी हटाये जा चुके है. इस लिहाज से लगभग चार मंत्री पद तो जल्द में ही खाली हुए है जबकि योगी के मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चा काफी दिनों से थी.

योगी सरकार में फिलहाल कुल 46 मंत्री हैं. इनमें 24 कैबिनेट, 13 राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और 13 राज्यमंत्री हैं. चूंकि चार कैबिनेट मंत्रियों के पद खाली हुए हैं तो माना जा रहा है कि योगी सरकार जल्द ही कैबिनेट में फेरबदल या विस्तार कर सकती है. योगी सरकार बनने के वक्त मंत्री बनने से चूक जाने वाले कुछ विधायकों को इस बार मौका मिलने की आस है. रेस में शामिल विधायकों ने लामबंदी भी तेज कर दी है. वे इस बार कोई मौका नहीं चूकना चाहते. दरअसल, 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी ने चार मंत्रियों सहित सात विधायकों को मैदान में उतारा था.

अंबेडकरनगर से लड़ने वाले सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा को छोड़कर अन्य सभी मंत्री चुनाव जीत गए हैं. महिला कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी इलाहाबाद और सूक्ष्म एवं लघु उद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी कानपुर से जीते हैं. इसी तरह मत्स्य विभाग के मंत्री एसपी सिंह बघेल आगरा सुरक्षित सीट से चुनाव जीतने में सफल रहे, जबकि बगावत के कारण ओमप्रकाश राजभर को पिछड़ा वर्ग कल्याण और दिव्यांग जन कल्याण मंत्री पद से पहले ही बर्खास्त किया जा चुका है. इस प्रकार देखें तो कुल चार कैबिनेट मंत्रियों के पद खाली हैं.

विशेषज्ञों की मानें तो योगी मंत्रिमंडल में विस्तार के बाद ही कुछ अंदाजा लगाया जा सकता है, क्योंकि योगी मंत्रिमंडल के पहले विस्तार में पार्टी कई जातिगत समीकरणों को साधने की कोशिश करेगी. किसे कितना नेतृत्व मिला उसी आधार पर अध्यक्ष और संगठन में भी बदलाव किया जाएगा. प्रदेश सरकार से कुछ चेहरों को सत्ता से हटाकर संगठन में भेजा जा सकता है.


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it