Top
Breaking News
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > नोएडा > आलोक सिंह बने नोएडा के पहले पुलिस कमिश्नर,जानें मिलेंगे कौन-कौन से पावर

आलोक सिंह बने नोएडा के पहले पुलिस कमिश्नर,जानें मिलेंगे कौन-कौन से पावर

 Shiv Kumar Mishra |  13 Jan 2020 9:44 AM GMT  |  नोएडा

आलोक सिंह बने नोएडा के पहले पुलिस कमिश्नर,जानें मिलेंगे कौन-कौन से पावर

धीरेन्द्र अवाना

नोएडा। प्रदेश सरकार ने नोएडा व लखनऊ में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू करने का ऐलान किया था।जिसमें आज मेरठ के आईजी आलोक सिंह को नोएडा का पुलिस कमिश्नर बनाया है।1995 बैच के आईपीएस आलोक सिंह नोएडा के पहले कमिश्नर बने है।

पुलिस कमिश्नर को जिला मजिस्ट्रेट यानी डीएम के कुछ पावर दिए जाएंगे

महिला सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक एसपी रैंक की महिला अधिकारी भी नोएडा में तैनात होंगी।उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने पुलिस सुधार की दिशा में बड़ा कदम उठाते हुए नोएडा और लखनऊ में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू करने का ऐलान किया। फिसके बाद यह तैनाती की गयी है।

आज हुई कैबिनेट मीटिंग में इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई। कैबिनेट मीटिंग में लिए गए निर्णयों का जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया कि नोएडा को स्मार्ट और सुरक्षित शहर के रूप में विकसित करने के लिए पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू करने का फैसला लिया गया है। उन्होंने नए पुलिस सिस्ट में नोएडा में क्या-क्या व्यवस्था की जाएगी,इसका भी विस्तृत ब्योरा दिया।सीएम ने बताया कि प्रदेश की आर्थिक राजधानी नोएडा में अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) रैंक के अधिकारी को पुलिस कमिश्नर की जिम्मेदारी दी जाएगी।

उन्हें जिला मजिस्ट्रेट (डीएम) के कुछ अधिकार भी शामिल होंगे। उन्होंने बताया, 'पुलिस कमिश्नर प्रणाली में का पुलिस का टीम वर्क होता है।इसमें कमिश्नर को मजिस्ट्रेट के कुछ पावर दिए जाते हैं ताकि वह प्रभावी और स्मार्ट पुलिसिंग को आगे बढ़ा सके। उन्हें 15 अधिकार दिए जा रहे हैं। पुलिस कमिश्नर के साथ दो अडिशनल पुलिस कमिश्नर होंगे जो डीआईजी रैंक के अधिकारी होंगे।सीएम ने बताया कि पांच एसपी स्तर के अधिकारी भी नोएडा को दिए जाएंगे।

योगी ने बताया कि नोएडा में महिला सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक एसपी रैंक की महिला अधिकारी की तैनाती की जाएगी। इस अधिकारी पर सिर्फ महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों को प्रभावी तरीके से निपटाने की जिम्मेदारी होगी। सीएम ने कहा, 'खासतर पर महिला एसपी रैंक की अधिकारी की तैनाती होगी जो यह तय करेंगी कि महिलाओं के खिलाफ अपराधों पर अंकुश लगाने के समयबद्ध विवेचना और अभियोजन प्रक्रिया पूरी हो।'

यातायात पुलिस को भी मिला एसपी स्तर का अधिकारी

योगी आदित्यनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि नोएडा में यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए भी बड़े कदम उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि यातायात पुलिस में भी एसपी रैंक के अधिकारी होंगे। उन्होंने कहा कि यातायात गतिविधियों की निगरानी के लिए निर्भया फंड से सीसीटीवी कैमरों और लाइटिंग की व्यवस्था की जाएगी।उन्होंने बताया कि नोएडा में कुछ नए थाने भी बनाए जाएंगे।अभी दो नए थाने बनाने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

क्यों पड़ी दरकार, योगी ने बताया

योगी आदित्यनाथ ने पुलिस सिस्टम में सुधार की दरकार का जिक्र करते हुए कहा, 'पुलिस सुधार के लिए समय-समय पर विशेषज्ञों की ओर से मिले प्रस्तावों एवं सुझावों पर समयबद्ध तरीके से कार्रवाई नहीं होने से न्यायपालिका हमेशा सरकारों को कठघरे में खड़ा करती थी। उत्तर प्रदेश जैसे राज्य में पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू करने की जरूरत वर्षों से महसूस हो रही थी।' उन्होंने कहा कि पुलिस ऐक्ट के मुताबिक भी 10 लाख से ऊपर की आबादी के नगरीय क्षेत्रों में पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू होने चाहिए।नोएडा में अभी 16 लाख से ज्यादा आबादी है। वहीं, नोएडा, ग्रेटर नोएडा को मिला दिया जाए तो गौतम बुद्ध नगर जनपद के अंतर्गत करीब 25 लाख की आबादी है।

अभी तक तीन अधिकारीयों की नियुक्ति हो चुकी है..

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it