Top
Begin typing your search...

एसएसपी वैभव कृष्ण की बड़ी कार्यवाही, करोड़ों की ठगी करने वाली फर्जी कम्पनी का खुलासा, 33 लोगों को किया गिरफ्तार

प्रभारी साइबर सेल बलजीत सिंह के नेतृत्व में थाना सैक्टर 20 के पुलिस बल के साथ 24जून 2019 को फर्जी लोन देने के नाम पर ठगी करने वाले 33 अभियुक्त गिरफ्तार किये गये.

एसएसपी वैभव कृष्ण की बड़ी कार्यवाही, करोड़ों की ठगी करने वाली फर्जी कम्पनी का खुलासा, 33 लोगों को किया गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा में फर्जी लोन देने के नाम पर करोड़ो की ठगी करने वाली कम्पनी के 33 अभियुक्तगण गिरफ्तार किये गये है. नोएडा पुलिस की यह एक बड़ी कामयाबी है हालांकि आज नोएडा पुलिस द्वारा पचास वांछित अभियुक्तों को भी गिरफ्तार किया है.

एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि विगत कुछ समय से लगातार लोन के नाम पर ठगी की शिकायतें प्राप्त हो रही थी. जिसमें कार्यवाही करते हुए साइबर सेल टीम नें ई-54 सैक्टर 3 नौएड़ा जनपद गौतमबुद्धनगर में प्रभारी साइबर सेल उप निरीक्षक बलजीत सिंह के नेतृत्व में थाना सैक्टर 20 के पुलिस बल के साथ 24जून 2019 को फर्जी लोन देने के नाम पर ठगी करने वालो के विरूद्ध कार्यवाही करते हुए पैसे ठगने वालों का पर्दाफाश किया.

एसएसपी ने बताया कि यह लोग लोन देने के नाम पर पूरे भारतवर्ष में कॉल करके लोन देने के नाम पर फाईल चार्ज व अन्य खर्चा बताकर लोगो से कम्पनी के खाते में पैसा डलवाकर लोगो को ठग लिया करते थे. जिसके सम्बन्ध में थाना सैक्टर 20 नौएड़ा पर आईटी एक्ट के तहत केस पंजीकृत किया गया है व उक्त कम्पनी का एक ओर DSA सेन्टर अलीगढ में कार्यरत था. जिसके सम्बन्ध में गौतमबुद्धनगर पुलिस दवारा अलीगढ पुलिस को सूचना दी गयी जिसके विरूद्ध विधिक कार्यवाही अमल में लायी जा रही है.

क्या था अपराध करने का तरीका

अभियुक्तगण दवारा विभिन्न राज्यो के मोबाइल नम्बरों पर काल कर एवं अपनी लोन हेतु तैयार की फर्जी वेबसाईट www.comradefinocone.com पर विभिन्न प्रकार के लोन( पर्सनल लोन, होम लोन, एग्रीकल्चर लोन, गोल्ड लोन आदि) एवं विभिन्न स्कीम प्रदर्शित कर लोन दिलाने का लालच देकर उनसे रजिस्ट्रेशन फीस व लोन अप्रुवल फीस आदि के नाम पर धोखाध़डी की जाती थी तथा पीडित व्यक्तियों से पैसे अपने पेटीएम, फोन-पे, गूगल-पे एवं बैंक खातो में पैसा डलवाया जाता था. एवं पीडितों को किसी प्रकार का लोन एवं अन्य सुविधा नही दी जाती थी. पीडितों द्वारा फोन पर लोन न मिलने के सम्बन्ध में सम्पर्क किया जाता था तो अभियुक्तगण द्वारा ही उनकों कम्पनी का वकील बनकर कॉल कर धमकाया जाता था एवं झूठी कानूनी कार्यवाही का दबाव बनाया जाता था. अभियुक्तगण के दवारा विगत छः माह में देश के विभिन्न राज्यो के सैकड़ो व्यक्तियो से लगभग एक करोड से अधिक रूपयो की ठगी की गयी है.

Special Coverage News
Next Story
Share it