Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > नोएडा > गर्लफ्रेंड की सैलेरी रोकी तो दोस्तों ने कंपनी के मालिक से मांगी 50 लाख की रंगदारी, तीन गिरफ्तार

गर्लफ्रेंड की सैलेरी रोकी तो दोस्तों ने कंपनी के मालिक से मांगी 50 लाख की रंगदारी, तीन गिरफ्तार

इस मामले में एक इंजिनियर, एक टीचर और दनकौर के पूर्व ब्लॉक प्रमुख के बेटे को गिरफ्तार कर लिया।

 Special Coverage News |  10 May 2019 3:32 AM GMT  |  दिल्ली

गर्लफ्रेंड की सैलेरी रोकी तो दोस्तों ने कंपनी के मालिक से मांगी 50 लाख की रंगदारी, तीन गिरफ्तार
x

नोएडा : यूपी के ग्रेटर नोएडा के उद्योग केंद्र की कंपनी में एक अजीब मामला सामने आया है। दरअसल, ड्रोन कैमरा एवं फाइबर का सामान बनाने वाली कंपनी के मालिक एवं सीईओ से मंगलवार को 50 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई थी। शिकायत के बाद पुलिस तुरंत हरकत में आई और इस मामले में एक इंजिनियर, एक टीचर और दनकौर के पूर्व ब्लॉक प्रमुख के बेटे को गिरफ्तार कर लिया। जांच में जब मामले का खुलासा हुआ तो सभी चौंक गए। पता चला कि इस मामले में पकड़े गए आरोपी इंजिनियर की गर्लफ्रेंड नौकरी करती थी। नौकरी छोड़ने के बाद आरोपी की गर्लफ्रेंड को कंपनी ने सैलरी नहीं दी। इससे नाराज इंजिनियर ने मालिक को सबक सिखाने के लिए यह साजिश की थी। पकड़े गए पूर्व ब्लॉक प्रमुख के बेटे पर गुंडा ऐक्ट व गैंगस्टर समेत 8 मुकदमे दर्ज हैं।

क्षेत्राधिकारी ग्रेटर नोएडा थर्ड राजीव कुमार ने बताया कि रैकी एम फाइबर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के मालिक विकास मिश्रा व सीईओ रोहन सेठ को फोन पर 50 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई थी। मंगलवार को 3 बदमाश फॉर्च्यूनर गाड़ी से कंपनी में पहुंचे। यहां तीनों ने कंपनी के सीईओ रोहन सेठ को उनके ऑफिस में बंधक बना लिया और रंगदारी न देने पर उन्हें जान से मारने की धमकी दी। इस मामले में कंपनी प्रबंधन की तरफ से ईकोटेक-2 कोतवाली में मुकदमा दर्ज करवाया गया। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए बुधवार को रणजीत निवासी सुल्तानपुर, दीपक निवासी देवटा और सौरभ निवासी धनौरा, बुलंदशहर को ग्रेटर नोएडा के खेड़ा चौगानपुर गोल चक्कर के पास से गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने इनके पास एक फॉर्च्यूनर गाड़ी भी बरामद की है। जांच में पता चला है कि रणजीत की गर्लफ्रेंड इस कंपनी में नौकरी करती थी। युवती ने करीब पंद्रह दिन पहले नौकरी छोड़ दी। अचानक नौकरी छोड़ने पर कंपनी प्रबंधन ने युवती को सैलरी नहीं दी। यह बात युवती ने अपने प्रेमी रणजीत को बताई। इसके बाद रणजीत ने कंपनी मालिक को सबक सिखाने के लिए दीपक और सौरभ के साथ मिलकर रंगदारी मांगने की प्लानिंग की।

पुलिस ने बताया कि रणजीत ने ग्रेटर नोएडा के एक कॉलेज से बीटेक की पढ़ाई की थी। रणजीत फिलहाल महाराष्ट्र में एक कोचिंग सेंटर में पढ़ाता है। वह महाराष्ट्र से गर्लफ्रेंड के चक्कर में यहां आया था। दीपक भाटी दनकौर के पूर्व ब्लॉक प्रमुख वेदपाल भाटी का बेटा है। उस पर जिले के विभिन्न थानों में गैंगस्टर व गुंडा ऐक्ट समेत जान से मारने की धमकी, जानलेवा हमले व अन्य धाराओं में 8 केस दर्ज हैं। घटना में इस्तेमाल की गई कार भी दीपक की है। रणजीत और दीपक दोनों दोस्त हैं।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it