Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > नोएडा > ब्लाइंड मर्डर के साथ हुआ फर्जी एमबीबीएस एडमिशन रैकेट का भंडाफोड़, 3 गिरफ्तार

ब्लाइंड मर्डर के साथ हुआ फर्जी एमबीबीएस एडमिशन रैकेट का भंडाफोड़, 3 गिरफ्तार

 Special Coverage News |  26 Sep 2019 4:09 AM GMT  |  नोएडा

ब्लाइंड मर्डर के साथ हुआ फर्जी एमबीबीएस एडमिशन रैकेट का भंडाफोड़, 3 गिरफ्तार
x

नोएडा: नोएडा पुलिस ने बुधवार को एक ब्लाइंड मर्डर के मामले का पर्दाफाश और एक फर्जी एमबीबीएस एडमिशन रैकेट का भंडाफोड़ किया। पुलिस ने कहा कि आरोपी मंगलवार शाम को यमुना एक्सप्रेसवे पर जीरो पॉइंट से पकड़े गए थे, जिसमें '' क्रैक योर कैरियर '' नाम का एक फर्जी कॉल सेंटर चल रहा था, जिसके जरिए उन्होंने एमबीबीएस दाखिले के नाम पर अभ्यर्थियों को धोखा दिया गया।

वहीँ दुसरे मामले में 9 सितंबर को वाजिदपुर गांव के पास एक शव मिला था और एक्सप्रेसवे पुलिस स्टेशन द्वारा जांच के बाद मृतक की पहचान संजीव रावत उर्फ ​​ऋषि के रूप में हुई, जो "क्रैक योर फ्यूचर" कंसल्टेंसी का कर्मचारी था. यह जानकारी नोएडा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक,वैभव कृष्ण ने दी।

एसएसपी वैभव कृष्ण ने कहा, "शव को बुरी तरह से खंडित कर दिया गया था और आगे की जांच से पुलिस को आरोपी पुरुषों का पता चला, गिरोह के सभी भाग फर्जी एडमिशन कंसल्टेंसी चला रहे थे। उनमें से तीन को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि चार फरार हैं और जल्द ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा।" गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान नीरज सिंह उर्फ ​​हरेंद्र सिंह, 30 वर्षीय, निखिल गौरव उर्फ ​​समीर राय और 25 वर्षीय धीरेंद्र कुमार उर्फ ​​सोनल सिंह के रूप में हुई है।

उन्होंने बताया कि "गिरोह का जनकपुरी, दिल्ली और नोएडा में एक कार्यालय था। उन्होंने प्रमुख मेडिकल कॉलेजों और अन्य संस्थानों में भी प्रवेश के इच्छुक उम्मीदवारों के डेटा एकत्र किया था। वे सीधे साधे उम्मीदवारों को बुलाते थे और उन्हें प्रवेश के नाम पर मदद की पेशकश करते थे। हाल ही में, उन्होंने एसे कई उम्मीदवारों को धोखा दिया था और उनसे 65 लाख रुपये लिए थे, जो कि गिरोह के सदस्यों के बीच वितरित किए जाने थे।

उन्होंने कहा, "इसी बंटवारे को लेकर गिरोह के भीतर नाराजगी हुई और उन्हें शक हुआ कि संजीव रावत गिरोह की डिटेल लीक कर देंगे और उन्हें मुश्किल में डाल देंगे। इसी कारण नौ सितंबर को उनकी बेरहमी से हत्या कर दी गई और उनका शव वाजिदपुर के पास फेंक दिया गया।"

थाना प्रभारी एक्सप्रेसवे भुवनेश कुमार ने कहा कि पुलिस ने उस वाहन को भी बरामद कर लिया है जिसका इस्तेमाल इस तिकड़ी ने रावत को कुचलने के लिए किया था। "हमने गिरोह के फर्जी कॉल सेंटर से निजी और सरकारी सहित मेडिकल कॉलेजों की 24 मुहरें और डाक टिकट भी बरामद किए हैं।" पुलिस ने कहा कि आरोपी लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है और फरार अन्य लोगों को गिरफ्तार करने के लिए प्रयास किया जा रहा है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it