Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > नोएडा > 12 साल में आनंद कुमार ने खोलीं 49 डमी कंपनियां, एक दर्जन के पते निकले फर्जी मचा हडकम्प

12 साल में आनंद कुमार ने खोलीं 49 डमी कंपनियां, एक दर्जन के पते निकले फर्जी मचा हडकम्प

 Special Coverage News |  20 July 2019 6:30 AM GMT

12 साल में आनंद कुमार ने खोलीं 49 डमी कंपनियां, एक दर्जन के पते निकले फर्जी मचा हडकम्प

नोएडा: बसपा सुप्रीमो मायावती के भाई आनंद कुमार की नोएडा में 28 हजार वर्गमीटर के एक प्लॉट को आयकर विभाग ने गुरुवार को जब्त किया था। इस प्लॉट की सरकारी कीमत 400 करोड़ रुपए बताई गई थी। विभाग की जांच में पता चला कि आनंद कुमार अपनी कंपनी के साथ कई डमी कंपनियां भी चलाते थे। इन कंपनियों के जरिए ही बड़े निवेश कराए जाते थे।

इसके अलावा इन कंपनियों के नाम पर ही प्लॉट भी खरीदे जाते थे, जिससे काफी मुनाफा होता रहा है। इसलिए आनंद कुमार ने अलग-अलग 49 कंपनियां खोलीं थीं। इनमें से ज्यादातर कंपनियां शेयर के नाम पर फंड जुटाने का काम करती थीं। आयकर विभाग की जांच अनुसार, इन कंपनियों का इस्तेमाल एडवांस पेमेंट और निवेश के लिए किया जाता था। विभाग ने बताया कि आनंद कुमार ने एक दर्जन से ज्यादा कंपनियां फर्जी पते पर बनवाई थीं। इसके बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।

2007 के पहले भी आनंद ने खोल रखी थी कंपनी

बताया जाता है कि 2007 से पहले भी आनंद की एक कंपनी होटल लाइब्रेरी क्लब प्राइवेट लिमिटेड नाम से हुआ करती थी। इसका मुख्यालय मसूरी में था। आनंद इस कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर हुआ करते थे। इस कंपनी में रहते हुए खुद की सालाना सैलरी 1.2 करोड़ रुपए होती थी। होटल लाइब्रेरी के पास 31 मार्च, 2008 तक सिर्फ 43 करोड़ रुपए थे। इसके बाद 2007-08 में आनंद कुमार के बिजनेस पार्टनर की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ।

इसके बाद नए ग्रुप का नाम कर्नाउस्टी मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड (सीपीएमएल) रखा गया और इसका रजिस्ट्रेशन दिल्ली के जनकपुरी में सितंबर, 2006 में किया गया था। इसी ग्रुप के जरिए रियल एस्टेट के साथ कई तरह की सर्विसेज शुरू की गईं थीं। इनके साथ ही अलग-अलग 49 कंपनियां खड़ी की गईं। बता दें कि गुरुवार को सेक्टर-94 स्थित करीब 28 हजार वर्गमीटर के एक प्लॉट को आयकर विभाग ने आनंद कुमार की बेनामी संपत्ति बताकर अटैच कर लिया था। इस प्लॉट की सरकारी कीमत 400 करोड़ रुपए बताई गई थी। वहीं, सूत्रों का कहना है कि इस मामले में ईडी ने भी जांच शुरू कर दी है।

अन्य संपत्तियां भी खंगाली जा रहीं

आयकर विभाग उनके परिवार के सदस्यों और करीबियों की संपतियों का रिकॉर्ड भी खंगाल रहा है। विभाग ने इसके लिए कुछ लोगों से पूछताछ भी की है और आसपास के अन्य जिलों में स्थित संपत्तियों का रिकॉर्ड भी जुटाया है। हालांकि, इस संबंध में अभी कोई खुलकर कुछ भी बोलने के लिए तैयार नहीं है।

भाई पर कारवाई से भड़कीं मायावती, बोलीं- अपने गिरेबां में झांके भाजपा

बसपा सुप्रीमो मायावती अपने भाई आनंद कुमार पर आयकर विभाग द्वारा की गई कार्रवाई से भड़क गई हैं। उन्होंने कार्रवाई को राजनीति से प्रेरित बताया है। मीडिया से बात करते हुए मायावती ने केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा और कहा कि सरकार सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर रही है। वह इस कार्रवाई से डरने वाली नहीं हैं।

मायावती ने कहा, 'भाजपा और आरएसएस जातिवादी हैं। वो शिक्षा, व्यापार और अन्य क्षेत्रों में दलितों तथा अन्य पिछड़ी जातियों का विकास होते नहीं देख सकते हैं। वो पार्टी के लिए समस्याएं पैदा करने के विभिन्न तरीकों का उपयोग कर रहे हैं, लेकिन हमारी पार्टी इन लोगों के विकास के लिए काम कर रही है।'इस तरह का कदम उठाने से पहले बीजेपी को अपने गिरेबान में झांकना चाहिए।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top