Top
Begin typing your search...

नोएडा: थाना फेस-3 पुलिस ने किया एक शातिर वाहन चोरों के गिरोह का पर्दाफाश

नोएडा: थाना फेस-3 पुलिस ने किया एक शातिर वाहन चोरों के गिरोह का पर्दाफाश
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

धीरेन्द्र अवाना

नोएडा। एसएसपी वैभव कृष्ण के निर्देश पर अपराध पर लगाम लगाने के लिए निरंतर पुलिस द्वारा अपराधियों की धड़ पकड़ की जा रही है।इसी क्रम में नोएडा पुलिस ने ऐसे शातिर चोरों के गिरोह को पकड़ा है जो आवासीय व व्यवसायिक क्षेत्रों में वाहन व मोबाइल लूटने के कार्य को अंजाम देते थे।

आपको बता दे कि एसएसपी वैभव कृष्ण के आदेश पर अपराध को कम करने के उपदेश से अपराधियों पर नकेल कसी जा रही है। जिसमें सबसे बड़ा हाथ बहलोलपुर चौकी इचार्ज वरूण पंवार और गढ़ी चौखंडी चौकी प्रभारी मान सिंह का है। जिन्होंने अपने चौकी क्षेत्र में ऐसे अपराधियों को जड़ से खत्म करने का बीड़ा उठा रखा है। थाना क्षेत्र में जब भी कोइ बड़ा खुलासा होता है तो थाने की विशेष टीम में वरूण पंवार व उनके साथी मानसिंह का नाम जरूर होता है या यू कहे कि इनके नेतृव्य में ही थाना को कई बड़ी सफलताये मिली है।

आपको बता दे कि थाना फेस 3 पुलिस ने पर्थला पुस्ते के पास चैकिंग के दौरान एक कार,एक मोटर साइकिल व एक स्कूटी पर चार व्यक्ति बैठे थे। संदिध्य दिखने पर जब उनसे पूछताछ करने का प्रयास किया तो चारों आरोपी भागने लगे।लेकिन पुलिस ने मुस्तेदी दिखाते हुये उनको घेर करके मौके से तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।जबकि एक आरोपी अंधेरे का फायदा उठाकर भाग गया जिसकी तलाश की जा रही है।

आभियुक्तों की पहचान मौहम्मद खुशाल खान उर्फ समीर निवासी कैला भट्टा गाजियाबाद,वाजिद लंगड़ा निवासी कैला भट्टा गाजियाबाद और महबूब निवासी मोदीनगर कस्बा गाजियाबाद के रुप में हुयी है। जबकि फरार अभियुक्त का नाम आसिफ कबाड़ी है। जिनके कब्जे से एक ब्लैनो कार,आठ मोटर साइकिल,एक टीवीएस की स्कूटी,एक एविटर की स्कूटी,दो वैगनार कार,एक स्कूटी मैस्ट्रो और एक स्कूटी ग्रे रंग की बरामद हुयी।

पुलिस पुछताछ में अभियुक्तों ने बताया कि उनके गैंग में चार सदस्य है।हम सभी दिल्ली, नोएडा व गाजियाबाद में कम्पनी एंव सेक्टरो के बाहर वाहन चोरी करने के लिये रेकी कर उक्त स्थानो को चिन्हित करते है तथा जब लोग कम्पनी में काम करते है तभी यह लोग मौका देखकर वाहनो को चोरी कर लेते है एंव सीसीटीवी कैमरो से बचने के लिये चेहरे पर कपडा बांध लेते है व उन चोरी के वाहनो को आसिफ कबाडी द्वारा बेचकर अपना कमीशन काटकर बाकी पैसे चारो आपस में बराबर बराबर बाट लेते है तथा अपना खर्चा चलाते है ।

Special Coverage News
Next Story
Share it