Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > नोएडा > एसटीएफ ने बैंकों से धोखाधड़ी करने वाले गैंग का किया पर्दाफाश

एसटीएफ ने बैंकों से धोखाधड़ी करने वाले गैंग का किया पर्दाफाश

 Special Coverage News |  8 Aug 2019 4:38 AM GMT  |  नोएडा

एसटीएफ ने बैंकों से धोखाधड़ी करने वाले गैंग का किया पर्दाफाश
x

धीरेन्द्र अवाना

नोएडा। नोएडा में उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स ने ऐसे गैंग को पकड़ा जो फर्जी दस्तावेज पर कंपनियां खोल बैंकों के साथ धोखाधड़ी करते थे। गैंग के सरगना सहित चार आरोपितों को बुधवार नोएडा के सेक्टर-122 से गिरफ्तार किया है।पश्चिमी यूपी एसटीएफ के पुलिस उपाधीक्षक राजकुमार मिश्रा ने बताया कि आरोपितों की पहचान सेक्टर- 82 निवासी मनोज कुमार ठाकुर,

संजय कुमार ठाकुर,अनिमेष कुमार ठाकुर व सेक्टर 22 निवासी अजीत शर्मा के रूप में हुई।तीन आरोपित भाई हैं और सीतामढ़ी बिहार के रहने वाले हैं,जबकि चौथा मूलरूप से मुजफ्फरपुर का रहने वाला है। आरोपितों की निशानदेही पर एसटीएफ ने 42 पैन कार्ड, 10 आधार कार्ड, 24 वोटर कार्ड, 21 सिम रैपर, 21 पासबुक, 44 चेकबुक, 56 डेबिट कार्ड, टेक डेटा नाम की कंपनी के 30 आइ कार्ड, 35 सैलरी स्लिप, तीन ड्राइविग लाइसेंस, एक नेपाली पासपोर्ट, 17 मोहर, तीन लैपटॉप, 58 सौ रुपये की पुरानी भारतीय करेंसी,60 हजार नेपाली करेंसी, 23 हजार नकदी, 25 मोबाइल, तीन कार व एक केटीएम बाइक सहित अन्य सामान बरामद किया है। थाना फेज-तीन ने आरोपितों को जेल भेज दिया है।




आपको बता दे कि कुछ दिनों पूर्व आइसीआइसीआइ बैंक के अधिकारियों ने एसटीएफ के आइजी व एसएसपी से धोखाधड़ी करने वाले गैंग के संबंध में शिकायत की थी। उन्होंनें बताया कि कुछ लोगों ने बैंक में फर्जी दस्तावेज तैयार कर एक फर्जी टेकडेटा कंपनी बनायी। उसके बाद सैलरी खाते खुलवा कर उस पर पर्सनल लोन व क्रेडिट कार्ड लेकर बैंकों से धोखाधड़ी करते थे।।आरोपित अपनी फर्जी कंपनी के फर्जी कर्मचारी के नाम पर पर्सनल व कार लोन लेते थे व एक-दो किस्त देकर फरार हो जाते थे।

इस मामले की जब जांच की तो संजय ठाकुर का नाम सामने आया जिसको पकड़कर एसटीएफ ने जब पूछताछ की तो कई महत्वपूर्ण जानकारी मिली।उसके बाद संजय ठाकुर की निशानदेही पर एसटीएफ ने बुधवार दोपहर सेक्टर 122 स्थित एक मकान पर छापेमारी की तो गैंग में शामिल तीन अन्य आरोपित पकड़े गए व मौके से सभी सामान व दस्तावेज बरामद हुए।10वीं पास 38 वर्षीय मनोज ठाकुर इस गैंग का मास्टरमाइंड है, जो अपने भाइयों व एक अन्य व्यक्ति के साथ मिलकर गैंग चला रहा था। एसटीएफ की जांच में अबतक इनके 56 बैंक अकाउंट का पता लगा है।दो बैंक अकाउंट में मौजूद करीब 22 लाख रुपये फ्रीज कराए गए हैं।अबतक की जांच में 10 से अधिक बैंकों, वित्तीय संस्थाओं से कई करोड़ रुपये लोन लेकर गायब हो चुके थे।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it