Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > नोएडा > बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री के फ्लैट में चोरी करने वाले तीन आरोपी दबोचे

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री के फ्लैट में चोरी करने वाले तीन आरोपी दबोचे

 Special Coverage News |  29 Nov 2019 9:56 AM GMT  |  नोएडा

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री के फ्लैट में चोरी करने वाले तीन आरोपी दबोचे

धीरेन्द्र अवाना

नोएडा।अपराध व अपराधियों के खिलाफ हो रही कारवाई के दौरान पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। नोएडा पुलिस ने एक ऐसे शातिर गिरोह को पकड़ा है जो दिल्ली एनसीआर क्षेत्र में चोरी की घटनाओं को अंजाम देते थे।

एसएसपी वैभव कृष्ण के आदेश पर जिलें के हर थाने में अपराध से निपटने के लिए निरंतर अभियान चलाया जा रहा है।इसी क्रम में सैक्टर-58 कोतवाली प्रभारी शावेज खान के नेतृव्य में पुलिस ने चैकिंग के दौरान सैक्टर-62 के पास संधिग्य दिखने वाले तीन शातिर अभियुक्तों को गिरफ्तार किया। पकड़े गए अभियुक्तों की पहचान हरि प्रकाश उर्फ काला,हरीश उर्फ मुकेश व मोहन वर्मा (सुनार) के रूप में हुई है।आरोपितों के कब्जे 15 लाख चालीस हजार नकदी, दो चेन,एक जोड़ी टाप्स,एक टीका,एक हार व दो चाकू बरामद किया गया है।

आपको बता दे कि नोएडा की कोतवाली सैक्टर-58 पुलिस ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री के दिल्ली के द्वारका स्थित फ्लैट से 20 नवंबर को नकदी व आभूषण चोरी करने वाले तीन आरोपितों को धर दबोचा है। इसके अलावा आरोपितों ने नोएडा के सैक्टर-62 स्थित पीएमओ सोसायटी के दो फ्लैटों में भी आठ नवंबर को चोरी की थी।पकड़े गए आरोपितों में सुनार भी शामिल है जिसको चोरी के आभूषण कम दाम में बेचे गए थे। गिरोह में शामिल तीन अन्य आरोपित अभी फरार चल रहे है।जिनकी पुलिस द्वारा तलाश की जा रही है।

एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि नोएडा सैक्टर-58 कोतवाली प्रभारी शावेज खान की टीम ने सेक्टर 62 के समीप से मुखबिर की सूचना पर बुधवार देर रात डेढ़ बजे तीन चोरों को गिरफ्तार किया।चोरों से पूछताछ के दौरान चौंकाने वाला पर्दाफाश हुआ है। तीनों आरोपित वर्तमान में दिल्ली में रह रहे थे। पुलिस पूछताछ के दौरान पता चला है कि चोरों को फ्लैट में घुसते समय नहीं पता था कि यह बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री का फ्लैट है।

घटना को अंजाम देने के बाद वो नोएडा में आकर छिप गए थे। आरोपित चोरी के आभूषण सुनार मोहन को 25 हजार प्रति दस ग्राम के हिसाब से बेचते थे। बाजार में सोने की कीमत वर्तमान में करीब 36 हजार प्रति दस ग्राम है। कम दाम में चोरी के आभूषण खरीदने के बाद सुनार उसे अधिक दाम में ग्राहकों को बेचता था।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it
Top