Top
Begin typing your search...

डीजीपी ओपी सिंह और पूर्व राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी को डिलीट की मानद उपाधि प्रदान करेगा इविवि

डीजीपी ओपी सिंह और पूर्व राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी को डिलीट की मानद उपाधि प्रदान करेगा इविवि
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आपको बतादें कि ओपी सिंह और केशरीनाथ त्रिपाठी दोनों इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र रह चुके हैं।

शशांक मिश्रा (प्रयागराज) : आज विधि संकाय में इलाहाबाद विश्वविद्यालय विद्वत परिषद/अकैडमिक कौंसिल की बैठक हुई । बैठक में उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह और पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी को डिलीट की मानद उपाधि देने का प्रस्ताव रखा गया जिसे समस्त सदस्यों ने सर्वसम्मति से स्वीकृति दी। ओपी सिंह और केशरीनाथ त्रिपाठी दोनों इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र रह चुके हैं। अकैडमिक कौंसिल में पीएचडी प्रवेश हेतु क्रेट एग्जाम को लेकर काफी चर्चा की गई।

कुलपति प्रो रत्तन लाल हांगलू ने सारे विभागाध्यक्ष को साफ निर्देश दिया कि हर हाल में 10 सितंबर तक पीएचडी प्रवेश परीक्षा पूरी कर ली जाए। विद्वत परिषद ने काफी चर्चा के बाद यह निर्णय लिया कि यूजीसी जेआरफ़ परीक्षा में उत्तीर्ण सारे छात्रों को क्रेट लेवल 2 यानी साक्षात्कार में सीधे आमंत्रित किया जाए। पिछले दिनों कुलपति कार्यालय को इस संदर्भ में अलग अलग विभागों से सैकड़ों आवेदन पत्र प्राप्त हुए थे।

विद्वत परिषद की बैठक में यह निर्णय भी लिया गया कि जिस विषय में पीएचडी की सीटें खाली रह गई है वहां सितंबर के पहले हफ्ते तक पुनः प्रवेश हेतु विज्ञापन निकाला जाएगा ।

पीआरओ डॉ चित्तरंजन कुमार ने कहा कि "कई केंद्रीय विश्वविद्यालयों में इस वर्ष यूजीसी जेआरएफ परीक्षा उत्तीर्ण छात्रों को पीएचडी प्रवेश में सीधे साक्षात्कार का अवसर दिया गया है। वैसे सारे छात्र जो यूजीसी जेआरएफ परीक्षा उत्तीर्ण हैं ,अब सीधे पीएचडी साक्षात्कार परीक्षा में उपस्थित हो सकेंगे। कई विभागों में पुनः शोध हेतु जल्द ही विज्ञापन निकाला जाएगा"

Next Story
Share it