Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > प्रयागराज > कौन बनेगा करोड़पति में मेजा की उषा यादव का नाम चयन होने पर मेजा क्षेत्र में खुशी की लहर

कौन बनेगा करोड़पति में मेजा की उषा यादव का नाम चयन होने पर मेजा क्षेत्र में खुशी की लहर

सोमवार को केबीसी के हाट सीट पर होंगी मेजा की उषा यादव

 Special Coverage News |  23 Sep 2019 9:43 AM GMT  |  प्रयागराज

कौन बनेगा करोड़पति में मेजा की उषा यादव का नाम चयन होने पर मेजा क्षेत्र में खुशी की लहर
x

मेजा के उरुवा ब्लाक अंतर्गत रामनगर की उषा यादव सोमवार को कौन बनेगा करोड़पति में अमिताभ बच्चन के सामने हॉट सीट पर बैठे होंगी। सोमवार के एपिसोड में उषा के शो को दर्शक देख सकेंगे। केबीसी से लौटने के बाद उषा के परिजनों व उषा से बातचीत के दौरान काफी उत्साहित रही ,अमिताभ बच्चन के सामने हॉट सीट पर बैठने वाली उषा कहती हैं कि यहां तक पहुंचने के लिए मेरे लिए किसी सपने से कम नहीं था। पल भर के लिए मुझे यकीन नहीं हुआ कि मैं केबीसी में अमिताभ बच्चन के सामने बैठी हूं।

उषा ने बताया कि उनका मायका मेजा के भूसका का गांव में है। और पढ़ाई क्षेत्र के नंद किशोर इंटर कॉलेज से 12वीं की परीक्षा पास करने के बाद लाला लक्ष्मी नारायण डिग्री कॉलेज सिरसा से स्नातक की परीक्षा पास की, और फिर संपूर्णानंद विश्वविद्यालय से बीएड की परीक्षा पूरी की 2012 में राधेश्याम यादव ने उरुवा के रामनगर गांव के धर्मेंद्र यादव से शादी कर दी ।इसी बीच टीईटी की परीक्षा पास कर ली, उषा ने बताया कि उनके मन में सदा कुछ न कुछ करने की इच्छा जागृत होती रहती थी। जिससे कि उनका और उनके परिवार का नाम रोशन हो सके, उषा के पति बहुत पहले से ही केबीसी में प्रयास कर चुके हैं।

उषा ने बताया कि पहले उनके पास एंड्रॉयड फोन नहीं था फोन मिलने के बाद पति ने मुझसे प्रयास करने के लिए कहा और मैंने कोशिश करते हुए अपना पंजीकरण कराया। उसके बाद लखनऊ में मेरा एडिशन हुआ सफल होने के बाद मुंबई में मुझे फास्टेस्ट फिंगर फर्स्ट प्रोग्राम में बाजी मार कर हॉट सीट तक पहुंची। तकरीबन घंटे भर प्रोग्राम के दौरान अमिताभ जी ने तरह-तरह के सवाल पूछे जिसका मैंने सफलतापूर्वक जवाब दिया। जब मैंने बताया कि मैं प्रयागराज से हूं तो अमिताभ जी ने कहा कि आप मेरे जन्म स्थान से हैं, फिर तो आन बान शान आपके कंधों पर है बिना चुनाव का नाम लिए उन्होंने बताया कि 1984 में मेजा भी गये थे।

मुंबई में मेरे साथ मेरे पति मेरे ससुर व मेरी बच्ची मेरे साथ थे। उषा ने बताया कि अगर मेरे परिजनों का सहयोग ना होता तो यहां तक ना पहुंचती। उनके द्वारा 69हजार शिक्षकों की भर्ती पर कोर्ट में चल रहे मुक़दमा को जल्द से जल्द बहाल करने की मीडिया के द्वारा मांग की है। वापसी पर परिचितों , करीबियों , रिश्तदारों की तरफ से लगातार बधाईया मिल रही है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it