Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > रायबरेली > सोनिया के अजेय दुर्ग में भाजपा में बढ़ेगी रार, भाजपा-जिलाध्यक्ष पद पर 57 दावेदार

सोनिया के अजेय दुर्ग में भाजपा में बढ़ेगी रार, भाजपा-जिलाध्यक्ष पद पर 57 दावेदार

सत्ता की मलाई के लिये मचले 57 दिल क्योंकि एक बार बने जिलाध्यक्ष और बन जाये करोड़पति

 Special Coverage News |  21 Nov 2019 12:14 PM GMT  |  रायबरेली

सोनिया के अजेय दुर्ग में भाजपा में बढ़ेगी रार, भाजपा-जिलाध्यक्ष पद पर 57 दावेदार

धीरज श्रीवास्तव

रायबरेली। पद, प्रतिष्ठा प्राप्त कर सत्ता की मलाई खाने को लालायित भाजपाईयो में जिलाध्यक्ष पद प्राप्त करने की होड़ चरम पर आ गयी है। भाजपा की चुनावी नियमावली के अंतर्गत उसके निर्वाचक मंडल में कुल 44 सदस्य है, एक प्रस्तावक, एक समर्थक के साथ कुल 22 वैध दावेदार हो सकते है। पूर्व कैबिनेट मंत्री व भाजपा संगठन के जनपदीय चुनाव अधिकारी बालचंद्र मिश्र के समक्ष 57 दावेदारों ने जिलाध्यक्ष पद पर दावा ठोककर प्रमाणित कर दिया कि अलग चाल, चरित्र व चेहरे की बात करने वाली भारतीय जनता पार्टी में सत्ता की मलाई खाने का भीषण रोग लग चुका है, भाजपा संगठन स्वरूप के अनुसार निर्वाचित 22 मंडल अध्यक्ष व 22 जिला प्रतिनिधि ही अध्यक्ष पद के दावेदारों के प्रस्तावक समर्थक के रूप में दावेदारों के नाम प्रस्तावित कर सकते है, संगठन स्वरूप के अनुसार 22 दावेदारों के बजाय 57 लोगो ने जिलाध्यक्ष पद पर दावेदार बनकर प्रमाणित कर दिया कि अनेक मंडल अध्यक्ष व जिला प्रतिनिधियो ने एक से अधिक दावेदारों के नाम का प्रस्ताव व समर्थन किया है।

इतने दावेदार होने के फलस्वरूप यह निश्चित है भाजपा में गुटबाजी और आपसी रार चुनाव को प्रभावित करेगी। जिससे उपजी परिस्थितियों में राज्य नेतृत्व हस्तक्षेप कर अपने किसी पसंदीदा नेता के पक्ष में अन्य दावेदारों से नामांकन वापस लेकर निर्विरोध निर्वाचन सम्पन्न कराने का प्रयास करेगा । जिसके बाद गुटबाजी के तीव्र होने की संभावना से इनकार नही किया जा सकता। पिछले संगठनात्मक चुनाव के बाद तत्कालीन जिलाध्यक्ष दिलीप यादव के विरुद्ध लामबंद सभी गुटों ने मिलकर उन्हें कार्यकाल के मध्य पदमुक्त कराकर रामदेव पाल को जिलाध्यक्ष नामित करा लिया था। केंद्र व प्रदेश की सत्ता में काबिज भाजपाईयो के दिल मे जिलाध्यक्ष बनकर सत्ता की मलाई खाने के कसक हिलोरे मारती रही चुनाव के अवसर पर दावेदारों की बड़ी सूची इस बात को प्रमाणित कर रही है, कि दावेदारों में नामी चेहरों के साथ गुमनामी की शाल ओढ़ने वालो सहित सत्ता बदलते दल बदलने का खेल खेलने वाले भी सम्मलित है ऐसे में अध्यक्ष कोई बने यह निश्चित हो चुका है आपसी रार तकरार में संगठन प्रभावित होगा और कांग्रेस सुप्रीमो व नेहरू खानदान के अंतिम अजेय किले को ध्वस्त करने की भाजपाई योजना कहा तक सफल हो पाएगी यह वर्तमान परिदृश्य से स्पष्ट होने लगा है।

एक जगह बैठाए गए प्रस्तवक समर्थक

भाजपा संगठन में अपना वर्चस्व स्थापित करने के लिये नए नए भाजपाई हुए एक नेता के घर पर मंडल अध्यक्ष व जिलप्रतिनिधियों को एकत्रित कर उनको लालच देकर अपनी मर्जी थोपने का प्रयास भी किया गया उसके बाद भी निर्वाचक मंडल ने वहां से निकलकर अपने हिसाब से दावेदारों के नाम अग्रसारित किये।

जिलाध्यक्ष पद पर इन लोगों ने किया आवेदन

वर्तमान जिलाध्यक्ष रामदेव पाल सहित विद्या शंकर अवस्थी, एमडी पासी, अनुभव कक्कड़, जयतलरेजा, देवेंद्र सिंह, राकेश मौर्या, जंग बहादुर सिंह, अम्बिकेश मालवीय, सुरेंद्र बहादुर सिंह, अमरेश सिंह मौर्य, विशाल पाण्डेय, रमेश मौर्य, प्रिया शुक्ला, अनीता श्रीवास्तव, किरण सिंह, उषा भारती, बुद्धि लाल पासी, धनंजय सिंह, भगवत किशोर, आनंद त्रिपाठी, जेपी सिंह, वंदना कश्यप, राजेंद्र चतुर्वेदी, राम दत्त पाण्डेय, विनय बाजपेई, रमाकांत लोधी, सुरेंद्र बहादुर सिंह दाढ़ी, दीप प्रकाश शुक्ला, रमाकांत मिश्रा, भालेंद्र सिंह, सुशील तिवारी, दिलीप जयंत, रिचा सोनी, अभिलाष चंद्र कौशल, दिनेश त्रिपाठी, पवन यादव, भरत त्रिवेदी, ओमप्रकाश तिवारी, ओम प्रकाश पाल सहित अन्य लोगों ने जिला अध्यक्ष पद पर अपनी दावेदारी की है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top