Home > भीम आर्मी के चन्द्रशेखर की हालत खराब, मेरठ किया रेफर

भीम आर्मी के चन्द्रशेखर की हालत खराब, मेरठ किया रेफर

 शिव कुमार मिश्र |  2017-11-08 10:56:40.0  |  मेरठ

भीम आर्मी के चन्द्रशेखर की हालत खराब, मेरठ किया रेफर

सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में हिंसा का आरोपी चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण को मंगलवार देर रात सहारनपुर जेल से मेरठ मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने उनकी हालत को गंभीर बताया है। दूसरी तरफ, परिजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है।


चंद्रशेखर का इलाज पहले सहारनपुर में सरकारी अस्पताल में चल रहा था, मंगलवार देर रात तबियत में सुधार न होने पर उसे मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। यहां उसकी जांच पड़ताल के बाद ट्रॉमा सेंटर में भर्ती किया गया। डा. नितिन के मुताबिक, चंद्रशेखर की आंतों में सूजन है। उसके पेट में इंफेक्शन है, जिस कारण उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही है। अभी उसे सघन चिकित्सा में रखा गया।


परिजनों का आरोप, डॉक्टरों ने किया खारिज

वहीं, दूसरी ओर परिजनों ने चंद्रशेखर के इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है। परिजनों का कहना है-"सहारनपुर में इलाज दौरान लापरवाही बरती गई। यहां भी जूनियर डॉक्टर ही उसका इलाज कर रहे हैं।" परिजनों के आरोप को डा. नितिन ने खारिज करते हुए कहा-"चंद्रशेखर को एडमिट करने के बाद हर संभव इलाज दिया जा रहा है। इलाज में किसी तरह की लापरवाही नहीं बरती जा रही है।"


एम्स में एडमिट कराने की मांग

वहीं, दूसरी ओर चंद्रशेखर के परिजन और समर्थक चंद्रशेखर की गंभीर हालत को देखते हुए उसे एम्स में भर्ती कराए जाने की मांग कर रहे हैं। छात्र नेता प्रदीप नेहवाल का कहना है, "जिस तरह से चंद्रशेखर की हालत गंभीर बनी है, उसे एम्स में भर्ती कराया जाना चाहिए।

दो दर्जन पुलिसकर्मी तैनात

भीम आर्मी नेता चंद्रशेखर की सुरक्षा में पुलिस कर्मी तैनात किए गए हैं। उससे किसी को मिलने नहीं दिया जा रहा है। चंद्रशेखर की सुरक्षा में करीब दो दर्जन पुलिस कर्मी लगाए गए हैं। स्थानीय लोकल इंटेलिजेंस यूनिट (एलआईयू) ने भी मेडिकल अस्पताल पहुंचकर जानकारी ली। चंद्रशेखर पर हाल ही में सहारनपुर जिला प्रशासन की संस्तुति पर NSA लगायी गई है। रासुका लगाए जाने के विरोध में भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने 9 नवंबर को सहारनपुर में पंचायत का ऐलान किया है। हालांकि, उन्हें पंचायत करने की अनुमति नहीं मिली है। भीम आर्मी से जुड़े रवि का कहना है- "कार्यकर्ता इक्ट्ठा होकर जिला प्रशासन को अपना ज्ञापन जरूर देंगे।"

Tags:    
Share it
Top