Home > चंदन को किसी दूसरे, तीसरे समुदाय ने नहीं इन्होंने मार डाला , सुनकर उड़े इस अधिकारी बात

चंदन को किसी दूसरे, तीसरे समुदाय ने नहीं इन्होंने मार डाला , सुनकर उड़े इस अधिकारी बात

इसको एक यूपी की महिला अधिकारी ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखी हकीकत

 शिव कुमार मिश्र |  2018-02-03 04:43:36.0  |  kasganj

चंदन को किसी दूसरे, तीसरे समुदाय ने नहीं इन्होंने मार डाला , सुनकर उड़े इस अधिकारी बात

यूपी में एक जिलाधिकारी और एक हरियाणा के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी के बाद अब महिला अफसर ने सोशल मीडिया पर कासगंज हिंसा में मारे गए चंदन गुप्ता की मौत पर पोस्ट लिखा है. सहारनपुर में तैनात महिला अफसर ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि चंदन गुप्ता को खुद भगवा ने मारा है.

सहारनपुर की डिप्टी डायरेक्टर सांख्यिकी रश्मि वरुण ने फेसबुक पोस्ट में कासगंज हिंसा की तुलना सहारनपुर के मामले से की है. 28 जनवरी को रश्मि वरुण ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा है, 'तो ये थी कासगंज की तिरंगा रैली. यह कोई नई बात नहीं है. अंबेडकर जयंती पर सहारनपुर के सड़क दूधली में भी ऐसी ही रैली निकाली गई थी. उसमें से अंबेडकर गायब थे या कहिए कि भगवा रंग में विलीन हो गये थे. कासगंज में भी यही हुआ. तिरंगा गायब और भगवा शीर्ष पर. जो लड़का मारा गया, उसे किसी दूसरे, तीसरे समुदाय ने नहीं मारा. उसे केसरी, सफेद और हरे रंग की आड़ लेकर भगवा ने खुद मारा.'
इसके आगे रश्मि ने अपनी पोस्ट में लिखा, 'जो नहीं बताया जा रहा है वो ये कि अब्दुल हमीद की मूर्ति या तस्वीर पे तिरंगा फहराने की बजाय इस तथाकथित तिरंगा रैली में चलने की जबरदस्ती की गई और केसरिया, सफेद, हरे और भगवा रंग पे लाल रंग भारी पड़ गया...'





Tags:    
Share it
Top