Home > दारुल उलूम देववंद ने किया निकाय चुनाव में फतवा जारी, वोट के सौदागरों के उड़े होश

दारुल उलूम देववंद ने किया निकाय चुनाव में फतवा जारी, वोट के सौदागरों के उड़े होश

 शिव कुमार मिश्र |  2017-11-07 09:18:14.0  |  सहारनपुर

दारुल उलूम देववंद ने किया निकाय चुनाव में फतवा जारी, वोट के सौदागरों के उड़े होश

सहारनपुर: यूपी में निकाय चुनाव को लेकर सभी पार्टिया मैदान मे उतर चुकी है इस बार चुनाव में दारुल उलूम देवबंद ने एक ऐसा फतवा दिया है जिसकी हर तरफ तारीफ हो रही है.फतवे में दारुल उलूम ने वोटो के सौदे को हराम करार दिया.मौलाना अब्दुल लतीफ़ कासमी ने चुनाव प्रणाली को साफ़ सुथरा करने के लिए ये फतवा दिया है.कासमी के अनुसार वोटो को खरीदना और बेचना शर्रियत में हराम है.


मौलाना अब्दुल लतीफ़ कासमी ने वोट को शहादत बताया और शहादत को बेचना इस्लामी नजरिये से हराम बताया.मौलाना के अनुसार अगर ऐसा काम करता है तो वो इस्लाम के अनुसार गुनाहगार है.मौलाना ने प्रजातंत्र को देश की पहचान बताया और भारत के प्रजातंत्र पूरी दुनिया में मशहूर है इसलिए इसको देश की पहचान के साथ खिलवाड़ भी बताया.

मौलाना ने कहा कि जो लोग ऐसा करते है वो प्रजातंत्र के साथ भी मजाक कर रहे है,अपनी राय देने की आज़ादी की इस्लाम वकालत करता है इस लिहाज़ से अच्छे उम्मीदवार को बिना पैसे लिए वोट दिया जाना चाहिए.मौलाना ने वोट खरीदने और बेचने दोनों को इस्लाम का गुनाहगार बताया है.

गौरतलब है कि दारुल उलूम के पिछले कई फतवे विवादों में रहे है जिसमे औरतो के बाल बनवाने आदि थे जिसको लेकर काफी विवाद हो चूका है लेकिन निकाय चुनाव के अवसर पर ऐसा फतवा देकर दारुल उलूम देवबंद ने इस बार वाहवाही लूट ली है.इससे पहले किसी इस्लामिक संस्थान या किसी अन्य धर्म के किसी संस्थान ने देश की जनता को ऐसी राय नही दी है.सभी राजनैतिक दलों ने दारुल उलूम देवबंद के फतवे की तारीफ की है.

Tags:    
Share it
Top