Top
Begin typing your search...

पूर्व सांसद भालचंद्र यादव के अंतिम दर्शन को उमड़ा जन सैलाब

अंतिम दर्शन के लिए उनके पार्थिव शरीर को एंबुलेंस से जैसे ही बड़े पुत्र प्रमोद चन्द्र यादव छोटे पुत्र सुबोध चंद्र यादव ने बाहर निकलते ही दरवाजे पर मौजूद आम जनमानस की आंखें नम हो गई।

पूर्व सांसद भालचंद्र यादव के अंतिम दर्शन को उमड़ा जन सैलाब
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

संतकबीरनगर: गरीबों के मसीहा कहे जाने वाले पूर्व सांसद भालचंद्र यादव का पार्थिव शरीर जैसे ही उनके पैतृक गांव भगता पहुंचा हजारों की संख्या में जूटे समर्थक व विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता तथा आम जनमानस उनके अंतिम दर्शन के लिए उनके पार्थिव शरीर को एंबुलेंस से जैसे ही बड़े पुत्र प्रमोद चन्द्र यादव छोटे पुत्र सुबोध चंद्र यादव ने बाहर निकलते ही दरवाजे पर मौजूद आम जनमानस की आंखें नम हो गई।

उनके आने के इंतजार में जूटे आम जनमानस लोगो ने उनके अंतिम दर्शन पाने के लिए उनके पार्थिव शरीर के पास पहुंचने के लिए उमड़ पड़े इस बीच उनके पार्थिव शरीर के आने की सूचना पर जिला प्रशासन द्वारा गांव के चारों तरफ सभी मुख्य मार्गों पर तथा स्वर्गीय भालचन्द्र के आवास पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया। जिससे भीड़ से आसानी से काबू पाया जा सके और सभी लोग उनका अंतिम दर्शन शांतिपूर्ण तरीके से कर सके ।

पूर्व सांसद भालचंद यादव के अंतिम दर्शन हेतु शनिवार को सुबह ही से तप्पा उजियार के विभिन्न गांवों से भागता जाने का सिलसिला सुबह से जारी हो गया। लोगों के आने जाने की सिलसिला सुबह से शाम तक जारी रहा। पूरे क्षेत्र में दो दिन से भालचंद यादव के कार्यों और व्यक्तित्व को लेकर आम खास की ज़बान पर चर्चा का विषय बना हुआ है।

पूर्व सांसद भालचंद यादव के निधन की खबर से तप्पा उजियार में सन्नाटा पसर गया।लोगों में अपार दुख है । ऐसा प्रतीत होता है कि घर का कोई सदस्य परिवार से बिछड़ गया। विकास पुरुष के नाम से याद किए जाने वाले पूर्व सांसद भालचंद यादव द्वारा जनपद संतकबीरनगर को नई पहचान और बुलंदी पर पहुंचने हेतु लोग याद कर रहे। भालचंद यादव तप्पा उजियार के लोगों के दिलों में राज करते थे।

आज भी लोग प्यार से सांसद जी का ही संबोधन करके उनको याद करते हैं। इसे राजनीति की अपूर्णनीय क्षति बता रही है जनता।इनकी कमी पूरा करना न मुमकिन हैं।गरीबों का सेवक दुख सुख में शामिल होने वाले भाल चंद के निधन से पूरे क्षेत्र में शोक की लहर है। सभी दल के लोग उनके कार्यों उनके व्यक्तित्व से प्रेम करते थे। मायनरिटी में बेहद लोकप्रिय भालचंद यादव के निधन की खबर से गम छा गया है

Special Coverage News
Next Story
Share it