Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > सन्त कबीर नगर > यूपी STF के एसएसपी राजीव नारायण मिश्र ने किया संतकबीरनगर के सनसनीखेज हत्याकांड का खुलासा, मृतक की कार समेत दो आरोपी किये गिरफ्तार

यूपी STF के एसएसपी राजीव नारायण मिश्र ने किया संतकबीरनगर के सनसनीखेज हत्याकांड का खुलासा, मृतक की कार समेत दो आरोपी किये गिरफ्तार

 Special Coverage News |  23 Sep 2019 4:46 PM GMT  |  संतकबीरनगर

यूपी STF के एसएसपी राजीव नारायण मिश्र ने किया संतकबीरनगर के सनसनीखेज हत्याकांड का खुलासा, मृतक की कार समेत दो आरोपी किये गिरफ्तार
x

जनपद सन्तकबीरनगर के थाना कोतवाली खलीलाबाद क्षेत्र से गुमषुदा/अपहृत श्री रामगोपाल त्रिपाठी पुत्र स्व0 राजाराम त्रिपाठी नि0 बडीसरौली बाईपास, जनपद-सन्तकबीनगर जो पेषे से वकील है, से सम्बन्धित घटना की सम्बेदनशीलता व शान्ति व्यवस्था को दृष्टिगत रखते हुए पुलिस अधीक्षक सन्तकबीरनगर द्वारा पुलिस महानिरीक्षक, एसटीएफ यूपी से घटना के अनावरण में सहयोग प्रदान किये जाने का अनुरोध किया गया था। उक्त क्रम में राजीव नारायण मिश्र, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, एसटीएफ यूपी के निर्देशानुसार प्रमेश कुमार शुक्ल, पुलिस उपाधीक्षक, के पर्यवेक्षण में एसटीएफ के निरीक्षक पंकज मिश्रा व जनपद सन्तकबीर नगर के धर्मेन्द्र सिंह की संयुक्त टीम द्वारा अपहृत श्री राम गोपाल त्रिपाठी के पारिवारिक व्यवसायिक व निजी सम्बन्धों को दृष्टिगत रखकर अभिसूचना संकलन की कार्यवाही प्रारम्भ की गयी।

अभिसूचना संकलन के दौरान विश्वसनीय एवं तकनीकी सूत्रों से ज्ञात हुआ कि दिनांक 07.सितंबर.2019 की रात्रि लगभग 08.00 बजे गुमशुदा/अपहृत रामगोपाल त्रिपाठी नई जेल लखनऊ के इन्दिरा नहर के आस पास थे। तदोपरान्त उनके तीनों मोबाईल फोन स्वीच आफ हो गये थे। विभिन्न स्रोतो से प्राप्त सूचनाओं को विकसित किये जाने पर यह ज्ञात हुआ कि जनपद सन्तकबीरनगर निवासी सुरेष कन्नौजिया द्वारा गुमषुदा/अपहृत रामगोपाल त्रिपाठी के विरूद्ध मु0अ0सं0 676/2012 धारा 332, 343, 504 एवं 3(1)ग् एसीएसटी एक्ट थाना मेहदावल जनपद सन्तकबीनगर मंे पंजीकृत कराया गया था। सुरेश कन्नौजिया का भाई सुभाष कन्नौजिया लखनऊ में निवास करता है, जिसने उक्त मुकदमें में समझौता कराने हेतु अपहृत रामगोपाल त्रिपाठी को दिनांक 06.09.2019 को लखनऊ बुलाया था। सुभाष कन्नौजिया के लखनऊ स्थित ठिकानों, उसकी गतिविधियों एवं दूरभाष नम्बरों के सम्बन्ध में जानकारी किये जाने पर ज्ञात हुआ कि दिनांक 07.09.2019 को सायं जीवन प्लाजा गोमतीनगर एवं नई जेल रोड लखनऊ पर गुमशुदा/अपहृत रामगोपाल त्रिपाठी को सुभाष कन्नौजिया 2 अन्य लोगों के साथ देखा भी गया है। अभिसूचना संकलन के क्रम में मुखबिर मामूर द्वारा आज दिनांक 23.09.2019 को सूचना प्राप्त हुई कि अपहृत की हत्या सुभाष कन्नौजिया ने अपने 2 साथियों के साथ मिलकर कर दी है व उसकी लाश व स्विफ्ट डिजायर कार को कहीं छिपा दिया है। सुभाष अपने एक अन्य साथी जो हत्या में था उससे मिलने के लिए उसी स्कोडाकार से शहीदपथ गोमतीनगर स्थित परम्परा रेस्टोरेन्ट के पास मिलने आने वाला है। इस सूचना पर एसटीएफ के निरीक्षक पंकज मिश्र व सन्तकबीरनगर के उप निरिक्षक धर्मेन्द्र सिंह की संयुक्त टीम द्वारा मुखबिर द्वारा बताये गये स्थान पर घेराबन्दी की गयी। कुछ समय के उपरान्त स्कोडा कार नं0 UP 53CP 3999 से एक व्यक्ति आकर रूका एवं शहीद पथ के हाई कोर्ट मोड़ पर खडे़ एक व्यक्ति को कार के अगली सीट पर बैठाकर बात चीत करने लगा जिसकी पहचान मुखबिर द्वारा सुभाष कन्नौजिया के रूप में किया गया। एसटीएफ की संयुक्त टीम द्वारा घेराबन्दी कर आवष्यक न्यून्तम बल प्रयोग करते हुए दोनों व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया गया जिनके निषानदेही पर उपरोक्त बरामदगी हुई।

गिरफ्तार अभियुक्तों नेे संयुक्त रूप से जुर्म स्वीकार करते हुए बताया कि उन्होंने उसी दिन दिनांक 07.09.2019 को रामगोपाल त्रिपाठी की हत्या कर लाष इन्दिरा नहर मे फेक दिया था। अभियुक्त सुभाष कन्नौजिया ने बताया कि कोतवाली नगर खलीलाबाद क्षेत्र में कामता यादव, अभय जैन व उमाषंकर दास के संयुक्त रकबे की लगभग 2.50 बीघा जमीन का उसने 5 करोड़ रूपये में एग्रीमेन्ट कराया था। शहर के अन्दर की बेसकीमती जमीन होने के कारण इस जमीन में कई लोगांे ने उसके पास अपने पैसे का निवेश किया जिनसे प्राप्त लगभग 2 करोड़ रूपये उसके द्वारा विक्रेतागणों को अदा किये गये। राम गोपाल त्रिपाठी ने निवेशकों को यह कहकर भड़का दिया कि यह विवादित जमीन है और इसमें लगाया हुआ पैसा डूब जायेगा। साथ ही साथ क्षेत्रीय व्यक्तियों से उक्त जमीन को जोतवा दिया जिससे निवेशक भड़क गये और उन्होने उसे बन्धक बनाकर मारपीट की और पैसा वापस करने के लिए दबाव बनाया। छूटने पर भागकर लखनऊ आ गया और छिपछिपाकर रहने लगा। इसी दौरान निवेशकों ने उसके भाई सुरेश जो कि मेहदावल के प्राथमिक विद्यालय में शिक्षामित्र है का अपहरण कर पिटाई किया तथा पैसा वापस कराने का दबाव बनाया। परिणास्वरूप उसके भाई सुरेष द्वारा रामगोपाल त्रिपाठी सहित अन्य के विरूद्ध एससीएसटी एक्ट सहित अन्य धाराओं में मुकदमा थाना मेहदावल में पंजीकृत करा दिया गया। रामगोपाल त्रिपाठी द्वारा उसका पारिवारिक, व्यवसायिक व सामाजिक जीवन समाप्त कर दिया था इस लिए उसकी हत्या करने की योजना तैयार कर सन्तकबीर नगर निवासी अपने साथी सोमनाथ सोलंकी व सूरज सिंह को तैयार किया।

योजना के तहत दिनांक 05.09.2019 को सोमनाथ व सूरज सिंह लखनऊ पहंुच गये, जिनके साथ स्कोडा कार से गोसाईगंज इन्दिरा नहर की पटरियों पर कई किलोमीटर ''रैकी'' कर रामगोपाल त्रिपाठी को एससीएसटी एक्ट के मुकदमंे में समझौता हेतु लखनऊ बुलाकर स्कोडा कार से प्लाट दिखाने के बहाने इन्दिरा नहर पर ले जाया गया। गोसाईगंज-मोहनलागंज बाईपास रोड से कुछ दूरी पर नहर की पटरी के सुनसान स्थान पर गमछे से तीनों व्यक्तियांे ने मिलकर रामगोपाल त्रिपाठी का गला घोंट दिया तथा वहां से करीब 12 किमी आगे अचली खेड़ा बैराज को पार करने के उपरान्त तीनों ने मिलकर लाश को इन्दिरा नहर में फेक दिया। तदोपरान्त जीवन प्लाजा गोमतीनगर वापस आ गये जहां स्कोडा कार उसने रामगोपाल त्रिपाठी की स्विफ्ट डिजायर कार को ट्रान्सपोर्ट नगर की सुनसान सड़क पर खड़ी कर चाभी दूर नाले मंे फेक दिया। सोमनाथ सोलंकी द्वारा चारबाग रेलवे स्टेशन पहुचकर 2 अलग-अलग रेल गाड़ियों के डिब्बों में मृतक के मोबाईल रख दिये गये। अभियुक्तगणों की निशानदेही पर मृतक रामगोपाल त्रिपाठी की स्विफ्ट डिजायर कार ट्रान्सपोर्ट नगर से बरामद किया गया व एक मोबाईल दिल्ली से आरा (बिहार) जाने वाली जनसाधाराण एक्सप्रेस की बोगी में सफर कर रहे एक यात्री को मिला जिसे पूर्व में ही बरामद किया जा चुका है। गुमशुदा/अपहृत रामगोपाल त्रिपाठी की लाश बरामदगी हेतु सभी उपक्रम किये जा रहे है।

गिरफ्तार अभियुक्तों को थाना विभूतिखण्ड गोमतीनगर मंे दाखिल कर निकटतम न्यायालय में प्रस्तुत कर ''ट्रान्जिट रिमाण्ड'' के माध्यम से जनपद सन्तकबीरनगर ले जाया जायेगा। अग्रिम विधिक कार्यवाही प्रकरण मंे पूर्व से पंजीकृत अभियोग 696/2019 धारा 364 भादवि थाना कोतवाली खलीलाबाद के विवेचक द्वारा सम्पादित की जायेगी।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it