Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > सन्त कबीर नगर > एसपी संतकबीर नगर की बड़ी कामयाबी, पांच बड़ी घटनाओं का किया एक दिन में खुलासा

एसपी संतकबीर नगर की बड़ी कामयाबी, पांच बड़ी घटनाओं का किया एक दिन में खुलासा

एक दिन में पांच केशों के खुलासे से एसपी की जनपद में भूरि भूरि प्रसंशा की है.

 Special Coverage News |  29 Nov 2018 11:30 AM GMT  |  संतकबीरनगर

एसपी संतकबीर नगर की बड़ी कामयाबी, पांच बड़ी घटनाओं का किया एक दिन में खुलासा
x

एसपी संतकबीरनगर ने आज एक साथ पांच बड़ी घटनाओं का खुलाशा करते हुए एक नया रिकार्ड कायम किया है. उन्होंने परसों बाप बेटा की हत्या का और रेलवे ट्रैक पर मिली तीन लाशों के मामले का भी खुलाशा किया. इस के साथ एक ट्रैक्टर चोरी का आरोपी और पच्चीस हजार का इनामिया बदमाश गिरफ्तार कर लिया है. महिला से लूट के आरोपी भी गिरफ्तार किये गये है तो वहीं यूपी-100 पर फर्जी गोलीकाण्ड की सूचना देने वाला भी अभियुक्त गिरफ्तार कर लिया गया है. एक दिन में पांच केशों के खुलासे से एसपी की जनपद में भूरि भूरि प्रसंशा की है.


1 -रेलवे ट्रैक पर पाये गये तीन युवकों के शवों के सम्बन्ध में खुलाशा

14 अगस्त 2018 को शाम मुखलिसपुर रेलवे क्रासिंग के पूर्व बरकत अली पुत्र अनवारूल हक उम्र 20 वर्ष, उबैदुल्लाह पुत्र शमीम अहमद खां उम्र 20 वर्ष तथा शानू उर्फ अनवारूल हक उम्र करीब 20 वर्ष सर्वनिवासीगण पठान टोला पश्चिमी थाना खलीलाबाद संतकबीरनगर के शव पाये गये थे. जिसके सम्बन्ध में दो दिन बाद अब्दुल वहीद पुत्र मुन्शीदार निवासी पठान टोला पश्चिमी थाना खलीलाबाद संतकबीरनगर द्वारा अज्ञात अभियुक्तगणों के विरूद्ध हत्या का अभियोग पंजीकृत किया गया. जिसकी विवेचना प्रभारी निरीक्षक कोतवाली खलीलाबाद द्वारा की गयी. तीनों मृतकों के शव मुखलिसपुर रेलवे क्रासिंग से पूरब की ओर डाऊन लाईन के पोल संख्या 537/24 के पास रेलवे लाईन से 10-35 फीट की दूरी के बीच नाले के दक्षिण दिशा में पाये गय. शवों के पंचायतनामा तथा पोस्टमार्टम की कार्यवाही करायी गयी । पोस्टमार्टम में तीनों शवों पर crushed injuries पायी गयीं । मृतकों के शरीर पर आई मृत्यु पूर्व चोटों के अवलोकन से स्पष्ट हुआ कि चोटें अत्यधिक हैं तथा चोटों की तीव्रता अधिक है जिससे मृतकों के शरीर की कई हड्डियां टूटी हुयी हैं. परिस्थितियों के दृष्टिगत घटना के अनावरण के लिये राज्य विधि विज्ञान परामर्शी सेल की विशेषज्ञ टीम से घटनास्थल की पुर्नसंरचना (reconstruction of crime scene ) कराया गया. विशेषज्ञ टीम द्वारा मौके पर घटनाक्रम की पुर्नसरंचना कर परीक्षण किया गया तथा बताया गया कि तीनों शव रेलवे ट्रैक से 9 फीट, 21 फीट तथा 35 फीट की दूरी पर नाले के समान्तर पाये गये. मृतकों के शरीर पर आयी सभी चोटें भारी वस्तु के अत्यधिक तीव्र गति से टकराने से आयी हैं. विशेषज्ञ टीम द्वारा पोस्टमार्टम रिपोर्ट में चोटों को देखकर तथा वीडियोग्राफी देखकर की गयी गणना के अनुसार चोटों के लिये लगभग 1000 पौण्ड (453 किलोग्राम) के बल से चोट आना आवश्यक है जो सामान्य मारपीट से अथवा किसी हथियार के प्रहार से नही आ सकती. विशेषज्ञ टीम की रिपोर्ट के उद्धरत अंश के अनुसार सभी मृतकों के शरीर पर आयी हुयी चोटें रेल दुर्घटना के फलस्वरूप टकराने से आना पाया गया. विशेषज्ञ राय तथा विवेचना के आधार पर किसी अपराध का होना नही पाया गया तथा घटना दुर्घटनावश होना पाया गया.

2-थाना खलीलाबाद क्षेत्र में घटित दोहरे हत्याकाण्ड का पर्दाफाश : सभी अभियुक्त गिरफ्तार

कांटे चौकी थाना खलीलाबाद पर बूधा मोड के पास हाईवे पर एक दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति का शव पाये जाने की सूचना मिली थी जिस पर चौकी कर्मियों द्वारा अज्ञात शव को मोर्चरी में दाखिल कराया गया था. बाद में शैलेन्द्र उपरोक्त द्वारा अज्ञात शव की शिनाख्त अपने पिता ओमप्रकाश पाण्डेय पुत्र स्व भगवती प्रसाद पाण्डेय के रूप में की गयी तथा थाने पर तहरीर दी गयी कि उसके भाई तथा पिता की अज्ञात व्यक्तियों द्वारा हत्या कर शवों को छिपाने के उद्देश्य से फेंक दिया गया है इस तहरीर पर थाना कोतवाली खलीलाबाद में केस दर्ज किया गया था.

अभियुक्तगणों से पूछताछ पर पूरी घटना का खुलासा हुआ तथा अभियुक्त नागेन्द्र ने अपना अपराध स्वीकार करते हुये बताया कि हमारे परिवार का विरोधी गांव का नन्दलाल पुत्र हिरामन का परिवार है. हमारी जमीन के पास में ही खलिहान की जमीन है जिसको हम प्रयोग कर रहे थे. बाद में नन्दलाल ने ओमप्रकाश पाण्डेय की पैरवी की मदद से उस जमीन पर सरकारी रास्ता बनवा दिया. ओमप्रकाश पाण्डेय उर्फ हाहाकार बाबा हमारे परिवार के घोर विरोधी थे. हमारे पट्टीदार संतराम धोबी को भी पाण्डेयजी आगे करके हमारे विरूद्ध दीवानी लडवा रहे थे तथा संतराम को मुकदमा लडाने का पैसा वही देते थे. हम लोगों ने अभी कुछ दिन पहले अपनी जमीन में नल गडवाया था. पाण्डेयजी नन्दलाल की तरफ से उसका भारी विरोध करते थे तथा कहते थे कि नल हटवा लो. करीब 4 महीने पहले मेरे लडके बालकिशन उर्फ सोनू की हाईवे पर मौत हो गयी थी. पहले हमनें सडक दुर्घटना का मुकदमा लिखवाया था बाद में नन्दलाल के परिवार और पाण्डेयजी पर शक हो गया था कि यही लोग मेरे लड़के को मारे है. हमारे परिवार की मदद गांव की नेताईनजी उर्फ प्रेमा चौधरी करती थी. उन्होने हमारी मदद की तथा थाने पर कई बार हमारे साथ गयीं लेकिन थाने पर बताया गया कि एक्सीडेण्ट का मुकदमा लिखा हुआ है,जिसकी विवेचना हो रही है. इस बात को लेकर पाण्डेयजी हम लोगों पर खुलेआम तानाकशी करते थे और मजाक उडाते थे. प्रेमा चौधरी गांव में प्रधानी भी लडी थीं और गांव में किसी की भी मदद करती थीं तो हाहाकार पाण्डेय खुलेआम उनका विरोध करते थे और दूसरे पक्ष की पैरवी करते थे.

दिनाँक 26/27 नवंबर .2018 की रात में ओमप्रकाश पाण्डेय और उनका लडका नन्दलाल के घर पर दावत में आये थे और वंही पर शराब पीकर चिल्ला चिल्लाकर मेरे सारे घरवालों को गालियां दे रहे थे. मेरी बहुओं ने शिकायत की तो मैं भी परेशान हो गया. मेरे लडके मोतीलाल ने प्रेमा चौधरी से फोन पर बात की और इस बारे में बताया तो नेताईन जी ने कहा कि चिन्ता मत करो अभी तुम्हें बताती हूं . आज इस समस्या को खत्म करा देती हूं. थोडी देर बाद जब प्रेमा चौधरी से दुबारा बात हुयी तो उन्होने कहा कि जब हाहाकार वापस गांव जाने लगे तो रास्ते में घेरकर मार दो और लाश सडक पर डाल दो जिससे एक्सीडेण्ट लगेगा. मैं, मेरे लडके मोतीलाल, नन्दकिशोर और प्रमोद घर से पैदल निकलकर अनैतापुर पिपरहिया गांव के मोड के करीब घात लगाकर बैठ गये । प्रमोद के पास टांगी (कुल्हाडी) और हम लोगों के पास डंडे थे. रात 01.00 बजे के करीब हाहाकार पाण्डेय अपने लडके के साथ नन्दलाल के घर से निकल कर गांव जाने लगा तो मोड पर हमने मोटरसाइकिल को घेर लिया. वंहा पर हाहाकार फिर से हमें गाली देने लगा तो हमने उसे घेरकर डंडों और टांगी से मारना शुरू कर दिया. उसका लडका बंटी हाथ में डडां लिये था जिससे उसने वार किया तो प्रमोद का सिर फट गया. फिर हम सब दोनों पर टूट पडे और दोनों की मौके पर ही मौत हो गयी.

प्रेमा चौधरी की सलाह पर हाहाकार की मोटरसाइकिल पर उसकी लाश को पहले हमने बीच में रखा और पीछे मै (नागेन्द्र) बैठ गया और गाडी को प्रमोद चलाकर हाईवे के पास लाया. हम दोनों ने लाश को रोड पर घसीटकर डाला और तुरंत वंहा से फिर वापस आये. फिर प्रमोद और छट्ठू हाहाकार के लडके की लाश को बीच में रखकर उसी मोटरसाइकिल से गये लेकिन सडक पर ट्रैफिक की वजह से डरकर लाश को नहर में फेंककर वंही मोटरसाइकिल डाल आये. इस बीच में हमने हाहाकार के मोबाईल को और हेलमेट को पास के गन्ने के खेत में छिपा दिया था । फिर हम लोग वापस घर पर आ गये. कल जब आस पास के गांवों में पुलिस कई बार आई गई तो हम घबरा गये. प्रेमा चौधरी ने हमें सलाह दी थी कि सब लोग अलग अलग होकर कंही छिप जाना । आज हम बस से बाहर जाने की कोशिश में थे तभी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

अभियुक्तों की निशानदेही पर मृतक ओमप्रकाश पाण्डेय का हेल्मेट, मृतक जयनेन्द्र का डंडा तथा हत्या में प्रयुक्त डंडा तथा टांगी को पुलिस द्वारा बरामद कर लिया गया है. अभियुक्तों के विरूद्ध सर्विलांस सेल द्वारा अकाट्य साक्ष्य जुटाये गये हैं. क्षेत्राधिकारी खलीलाबाद के कुशल नेतृत्व में सभी टीमों के संगठित प्रयास से घटना का अतिशीघ्र सफल अनावरण किया जा सका.


3-ट्रैक्टर चोर गिरोह का ईनामियां अभियुक्त गिरफ्तार

25 अगस्त 2018 को अभियुक्त रामशरन निषाद व रामनाथ चौधरी को 4 अदद ट्रैक्टरों के साथ गिरफ्तार करके जेल भेजा गया था ,जिसमें कुन्जबिहारी उपाध्याय उर्फ पण्डित व इन्द्रेश कुमार चौधरी उर्फ ए के सिंह फरार चल रहे थे. 25-25 हजार के इनाम की घोषणा पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने किया गया था. अभियुक्त से पूछताछ की गयी तो बताया कि हमारा एक संगठित गिरोह है हम लोग बलिया, गाजीपुर, चन्दौली, मिर्जापुर, सोनभद्र सहित बिहार राज्य से ट्रैक्टर चुराकर उनके कूटरचित रजिस्ट्रेशन नम्बर बनाकर आस पास के जिलो मे बेचते है एवं उससे मिलने वाले पैसे को आपस मे बाट लेते है.


4-यूपी-100 पर फर्जी गोलीकाण्ड की सूचना देने वाला अभियुक्त गिरफ्तार

कल 28 नवंबर 2018 को 11 बजे रात्रि को पीआवी 1491 को इवेन्ट नं0 1360 से सूचना मिली कि ग्राम सिरसी में अज्ञात व्यक्ति द्वारा गोली मार कर किसी को घायल कर दिया गया है ,इस सूचना पर तत्काल घटनास्थल पर पहुंची पीआरवी-1491 को सभी सूचनाएं असत्य एवं निराधार पायी गयी. किसी भी प्रकार की कोई भी गोलीकाण्ड की घटना घटित ही नही हुई थी. कालर रमाकान्त यादव पुत्र मेवालाल निवासी सिरसी थाना धनघटा को मौके से गिरफ्तार कर थाना धनघटा के सुपुर्द किया गया. थानाध्यक्ष धनघटा द्वारा पूछताछ कि गयी तो अभियुक्त ने बाताया कि मजा लेने हेतु यू0पी0-100 को फोन किया था कि देखे पुलिस आती है या नही. उक्त रमाकान्त यादव के विरुद्ध चालानी की कार्यवाही करते हुए धारा 151 सीआरपीसी के तहत पाबान्द किया गया है.


5-महिला से लूट के आरोपी गिरफ्तार

संतकबीरनगर मे अपराध एवं अपराधियो के विरुद्ध चलाये जा रहे अभियान के दौरान ग्राम प्रजापुतिपुर के पास स्थित मन्दिर से थानाध्यक्ष धनघटा पुलिस ने सूचना के आधार पर 3 अभियुक्तगण सुनील कमार पुत्र नागेश्वर प्रसाद कहार निवासी रुद्रपुर थाना खजनी जनपद गोरखपुर , रमेश पुत्र मक्खु बेल्दार निवासी कालीजगदीशपुर थाना महुली जनपद सन्तकबीर नगर , इन्द्रजीत पुत्र राजपत बेल्दार निवासी कालीजगदीशपुर थाना महुली जनपद सन्तकबीर नगर को गिरफ्तार किया गया.

वादिनी को जनपद आजमगढ़ से चार पहिया वाहन महिन्द्रा मैक्स रजिस्ट्रेशन नं0 UP 56 T 0212 मे बैठाकर उमरिया बाजार के पास उक्त तीनों अभियुक्तो व नागेन्द्र चौहान पुत्र त्रिलोकी बेल्दार निवासी कालीजगदीशपुर जो कि गाड़ी मालिक भी है ने वादिनी के बैग से 16000 रुपये ,कान के जेवर व गले का चेन छीनने लगे जिसका वादिनी द्वारा प्रतिकार करने व मदद के लिए चिल्लाने से पैसे व जेवर लेकर गाड़ी वही छोड़कर भाग गये थे. धनघटा पुलिस द्वारा तत्परता दिखाते हुए 4 अभियुक्तों में से 3 को गिरफ्तार कर लिया गया ।

अभियुक्त से पूछताछ की गयी तो बताये कि हम लोग सवारी ढोने के बहाने लोगों के बैग ,पहने हुए गहने आदि को देखकर भोले भाले लोगों को अपने गाडी मे बैठाकर सूनसान जगहो पर उनको लूट लेते है ,एवं उससे मिलने वाले पैसे को आपस मे बाट लेते है. अभियुक्तगणों ने बताया कि हमारा मालिक नागेन्द्र चौहान पुत्र त्रिलोकी बेल्दार है वही लूट के पैसे व जेवर लेकर भागा है.



Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it