Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > सुल्तानपुर > एक तरफ़ा प्यार में पागल युवती ने किया युवक का यह हाल, युवती को किया गिरफ़्तार

एक तरफ़ा प्यार में पागल युवती ने किया युवक का यह हाल, युवती को किया गिरफ़्तार

 Special Coverage News |  2018-11-11 03:59:38.0  |  सुल्तानपुर

एक तरफ़ा प्यार में पागल युवती ने किया युवक का यह हाल, युवती को किया गिरफ़्तार

उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में एक तरफ़ा प्यार की बहार सी आ गई है जहां अभी चंद दिन पहले कनौजा गांव में एक आशिक़ युवक ने एक युवती को गोली मार कर खुद को घायल कर लिया था ठीक वैसे ही लगभग ग्यारह माह पहले भी एक आशिक़ लड़की ने गांव के ही रहने वाले एक युवक के प्यार में पागल हो गई थी जिसमे उसने उस युवक पर ज्वलनशील पदार्थ डालकर उसे मौत के मुंह में धकेल दी थी, लंबे अर्शे बाद उस मौत के मुँह में धकलने वाली आशिक़ लड़की को आख़िरकार पुलिस ने गिरफ़्तार कर जेल की सलाखो के पीछे पहुंचा ही दिया।


दरअसल मामला मोतिगरपुर थाना क्षेत्र के डोमनपुर गांव का है। जहां 28 नवम्बर 2017 की रात डोमनपुर के रहने वाले पवन सिंह पुत्र मनोराज सिंह के लिये वह काली रात थी जिसने उसकी जिंदगी को बर्बाद कर दिया, वह खूबसूरत चेहरा शायद अब उसके जिंदगी में दुबारा नही आ पायेगा, जिसको एक लड़की एक तरफ़ा प्यार के चक्कर में उसके ऊपर ज्वलनशील पदार्थ डाल कर बर्बाद कर दिया। बताया जाता है कि 28 नवम्बर 2017 को पवन सिंह अपने घर पर सो रहा था कि रात के लगभग 2 बजे गांव कि ही रहने वाली लड़की ललिता विश्वकर्मा पुत्री जिया लाल वर्मा ने सोये हुए पवन के ऊपर तेजाब डाल दिया। चेहरा और शरीर पर पड़े तेजाब से पवन की चीख इतनी भयानक निकली की घर के साथ साथ गांव के लोग उठ कर पवन की तरफ दौड़ पड़े तब तक ललिता मौके से फरार हो गई थी। शरीर पर पड़े तेजाब से पवन का चेहरा पूरी तरह झुलस चूका था पवन की हालत देखकर पहले परिजनों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए। जहाँ डॉक्टरों ने जिला चिकित्सालय रेफर कर दिया, जिला चिकित्सालय पहुचने पर पवन की हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने लखनऊ रेफर कर दिया। कई दिनतक ट्रामा सेंटर में पवन अपनी जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहा था, इलाज में इजाफा न होने पर परिजनों ने उसे चंडीगढ़ ले गए, लगभग सात माह पवन का इलाज होने के बाद वह अपने आप को ठीक महसूस कर रहा है।


वही सूत्रों के मुताबिक बताया जाता है कि पवन सिंह के परिजनों ने तत्काल सम्बंधित थाने में तहरीर नही दिया था, पवन सिंह के स्वास्थ्य में जब थोड़ा सुधार हुआ तो परिजनों ने थाने में तहरीर देकर मुकदमा पंजीकृत करा दिया था, लेकिन गिरफ्तारी होने में काफ़ी देरी हो रही थी, तब परिजनों ने न्यायालय की शरण लिया तब न्यायालय ने अभियुक्ति की जल्द गिरफ्तारी के साथ कुर्की का आदेश दे दिया, जब कुर्की के आदेश की सूचना पुलिस ने अभियुक्ति के घर चस्पा किया तो अभियुक्ति ललिता पुलिस की गिरफ्त में आ गई। जिसको मोतिगरपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

Tags:    
Share it
Top