Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > सुल्तानपुर > सत्यम हत्याकांड का कब होगा खुलासा

सत्यम हत्याकांड का कब होगा खुलासा

 Special Coverage News |  2018-09-25 12:55:54.0  |  सुल्तानपुर

सत्यम हत्याकांड का कब होगा खुलासा

लाल जी की रिपोर्ट

सुलतानपुर: दोस्तपुर थाना क्षेत्र अन्तर्गत गंगापुर भुलिया गांव में गत 9 अगस्त 2018 को पन्द्रह वर्षीय सत्यम पुत्र शेषनारायण पाण्डेय हत्याकांड के मामले मे दोस्तपुर पुलिस नौ दिन चले अढ़ाई कोस वाली कहावत चरितार्थ करने मे कोई कोताही नहीं बरत रही है।

सरकार बदली निजाम बदला जिले का पुलिस मुखिया कप्तान बदला। एडवांस स्मार्ट पुलिसिंग के एक्सपर्ट पुलिसाधीक्षक अनुराग वत्स जनपद की कानून व्यवस्था को सुदृढ़ करने का जहा पूरा प्रयास कर रहे है। वही दूसरी तरफ इनके मातहत अधिकारी हत्या जैसे गम्भीर प्रकरण मे नामजद आरोपियों के जेल भेजने के बजाय विवेचना लम्बित दिखा अपने दायित्वों की इतिश्री करने मे नही चूक रहे है।

दोस्तपुर थाना क्षेत्र के गंगापुर भुलिया सत्यम हत्याकांड मे भी कुछ इसी तरह का मामला दिखाई देता है। गत आठ अगस्त को गायब सत्यम की लाश वही गांव के बाहर झाड़ियों मे मिली थी। इस मामले मे वादी लक्ष्मीनारायण पाण्डेय ने पारसनाथ पाण्डेय, भोला पाण्डेय, महेंद्र पाण्डेय, रोशन पाण्डेय,श्रीमती गोपिका शुक्ल निवासी गंगापुर भुलिया को नामजद करते हुये हत्या का आरोपी बनाया था। पुलिस ने मामले की सत्यता परखने के लिये डाग स्कावायड का भी सहारा लिया था। स्फिनर डाग प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार घटना स्थल से आरोपियों के घर मे घुस गया था। वही दूसरी तरफ पोस्टमार्टम रिपोर्ट मे भी विद्युत स्पर्शघात के अतिरिक्त सीने गले सहित मृतक सत्यम के शरीर पर अनेकों स्थान पर चोट के निशान साफ जाहिर हुआ था।

वही पुलिस अपने जांच को आधार मानते हुये दिनांक 24-8-2018 को हत्या आरोपी पारसनाथ पुत्र राम भरोस,महेन्द्र पाण्डेय पुत्र जगन्नाथ पाण्डेय को जेल भेज दिया। आज मुलाकात के दौरान मृतक सत्यम के पिता शेषनारायण पाण्डेय ने अपनी व्यथा को रोते हुये बताया कि नामजद अभियुक्तों ने ही मेरे पुत्र की हत्या किया है पुलिस के पास पर्याप्त साक्ष्य होने के बावजूद बाकी बचे अभियुक्तों को गिरफ्तार करने से क्यों कटरा रही है पुलिस।वही दूसरी तरफ अभी भी हमारे परिवार को हत्या मे आरोपित लोगो द्वारा खुलेआम घूम घूम कर जान से मारने की धमकी दी जा रही है। इन सबकी गिरफ्तारी को लेकर मैनै स्वयं पुलिस कप्तान सहित अन्य उच्चाधिकारियों से शिकायत किया। दुर्भाग्य की आज तक एक माह से अधिक समय व्यतीत हो जाने के बाद भी कोई सुनवाई नही हो रही है।

इस मामले मे पुलिस का पक्ष जानने के लिये पुलिस उपाधीक्षक कादीपुर डीपी शुक्ल से बात की गयी तो उन्होंने कहा कि हत्या का मामला है संज्ञान मे है थानाध्यक्ष दोस्तपुर द्वारा विवेचना जारी है। खुलेआम घूम रहे आरोपियों के गिरफ्तारी के बारे मे पूछने पर बताया कि जाच पूर्ण होते ही कार्यवाही की जायेगी।

Tags:    
Share it
Top