Top
Home > राज्य > पश्चिम बंगाल > कोलकाता > NRC पर बंगाल में बोले अमित शाह, हिंदू शरणार्थियों को बंगाल नहीं छोड़ना पड़ेगा

NRC पर बंगाल में बोले अमित शाह, हिंदू शरणार्थियों को बंगाल नहीं छोड़ना पड़ेगा

कोलकाता के नेताजी इंडोर स्टेडियम में गृहमंत्री अमित शाह जनता को एनआरसी (NRC) पर संबोधित किया?

 Special Coverage News |  1 Oct 2019 10:57 AM GMT  |  दिल्ली

NRC पर बंगाल में बोले अमित शाह, हिंदू शरणार्थियों को बंगाल नहीं छोड़ना पड़ेगा
x

पश्चिम बंगाल में गृहमंत्री अमित शाह जनता को एनआरसी (NRC) और अनुच्छेद 370 पर संबोधित कर रहे हैं. कोलकाता के नेताजी इंडोर स्टेडियम में गृहमंत्री अमित शाह जनता को एनआरसी (NRC) पर संबोधित करते हुए कहा कि, हिंदू शरणार्थियों को बंगाल नहीं छोड़ना पड़ेगा. पीएम नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर श्यामा प्रसाद मुखर्जी के सपनों को पूरा किया है.

अमित शाह ने कहा, मैं पार्टी के हर कार्यकर्ता से अपील करता हूं कि वे हर बंगाली तक पहुंचें और उन्हें नागरिकता संशोधन विधेयक और NRC समझाएं. हम यह सुनिश्चित करेंगे कि इसे राज्य में लागू किया जाए, और सभी घुसपैठियों को उनके सही स्थान पर वापस भेज दिया जाए.

अमित शाह ने कहा कि मैं ममता दी और टीएमसी सरकार से कहना चाहता हूं कि आप हमें जितना चाहें रोक सकते हैं, लेकिन पीएम मोदी के नेतृत्व को न केवल भारत ने स्वीकार किया है, इसे दुनिया और बंगाल ने भी स्वीकार किया है.

गृह मंत्री ने कहा कि पीएम मोदी ने बंगाल के लोगों सहित भारत के हर गरीब को प्रति वर्ष 5 लाख रुपये का चिकित्सा बीमा दिया है. लेकिन ममता दी आयुष्मान भारत को पश्चिम बंगाल के गरीब लोगों तक नहीं पहुंचने दे रही हैं. अगर फिर भी कुछ ने देखा हो तो जरा कैसेट रिवाइंड करके हाउडी मोदी कार्यक्रम देख लो, आपको पता लग जाएगा कि अमेरिका में भी मोदी जी को कितना सम्मान मिलता है.

गृह मंत्री ने कहा कि मोदी जी की लोकप्रियता के डर से ममता दीदी बंगाल में केंद्र की योजनाएं लागू नहीं होने देती. मैं उन्हें कहना चाहता हूं कि आप चाहे कितना ही रोकने की कोशिश कर लो, लेकिन मोदी जी का नेतृत्व देश के साथ पूरे विश्व ने स्वीकार कर लिया है. आपने कम्युनिस्ट, कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस को मौका दिया है. अब भाजपा को सरकार बनाने और पश्चिम बंगाल राज्य को बदलने का मौका देने का समय है.

पश्चिम बंगाल की स्थिति चिंताजनक है. एक समय था जब बंगाल से सबसे अच्छा साहित्य आ रहा था. एक समय था जब बंगाल से सबसे अच्छा संगीत आता था. एक समय था जब सबसे अधिक वैज्ञानिक बंगाल से थे. विभाजन के दौरान दवाओं का उत्पादन 70% था, और यह आज घटकर 6% से नीचे आ गया है. बैंक जमा 22% थे, लेकिन आज, यह सिर्फ 6.3% है. क्या हमारा सपना सोनार बांग्ला का था? क्या हमने इस दिन को देखने के लिए कम्युनिस्टों की जगह ली थी? बंगाल ने विभाजन के दौरान पूरे भारतीय औद्योगिक उत्पादन में 27% का योगदान दिया। आज, यह 3.3% पर है.

अमित शाह ने कहा कि मैं 4 अगस्त, 2005 को ममता दी के अपने भाषण की याद दिलाना चाहता हूं जिसमें उन्होंने घुसपैठियों को हटाने की बात स्पष्ट रूप से कही थी. राजनीतिक प्राथमिकताओं को राष्ट्रीय प्राथमिकताओं पर हावी नहीं होना चाहिए. इतने घुसपैठियों के वजन से दुनिया का कोई भी देश आसानी से नहीं चल सकता. हमें इस श्रृंखला को रोकना होगा. हम बंगाल को बदलने की दिशा में काम कर रहे हैं. हमें देश की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए NRC को लागू करना होगा. जब ममता दी विपक्ष में थीं, तब इन घुसपैठियों को हटाने के लिए कहा, उसने इसी मुद्दे पर राज्य विधानसभा अध्यक्ष के चेहरे पर अपना शॉल फेंक दिया था. अब जबकि वे उसके वोट बैंक बन गए हैं, वह नहीं चाहती कि उन्हें हटाया जाए. ममता दी कह रही हैं कि वह एनआरसी को बंगाल में नहीं होने देंगी. मैं आपको बता रहा हूं कि हम भारत के अंदर एक भी घुसपैठिया नहीं होने देंगे। हम सभी को निष्कासित कर देंगे.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it