Top
Home > राज्य > पश्चिम बंगाल > कोलकाता > दार्जलिंग में जब ममता बनर्जी और अमित शाह हुए आमने सामने, तो क्या हुआ जानिये आज की बात!

दार्जलिंग में जब ममता बनर्जी और अमित शाह हुए आमने सामने, तो क्या हुआ जानिये आज की बात!

 Special Coverage News |  11 April 2019 2:00 PM GMT  |  दार्जलिंग

दार्जलिंग में जब ममता बनर्जी और अमित शाह हुए आमने सामने, तो क्या हुआ जानिये आज की बात!
x

प्रथ्वीसदास गुप्ता

जब पश्चिम बंगाल के उत्तरी हिस्से में 2 सीटों पर पहले चरण का मतदान चल रहा था. तब ठीक उसी समय पश्चिम बंगाल के उत्तरी हिस्से में दार्जिलिंग पहाड़ में एक तरफ दार्जिलिंग विधानसभा क्षेत्र में राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी रैली कर रही थी. उसी तरफ कालिमपोंग पहाड़ में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की रैली चल रही थी. एक दूसरे पर रैली से आरोप लगाए गये.


अमित शाह ने कालिमपोंग की रैली से ममता दीदी को खबरदार किया. उन्होंने बोला दीदी 26 में जब चुनाव की नतीजा निकलेगा दीदी और दीदी की पार्टी पुट आएंगे. क्योंकि भाजपाई पश्चिम बंगाल में 23 सीटें जीत जीत चुके होंगे यह दावा आज नया नहीं है. शुरू से अमित शाह ने पहले अट्ठारह उसके बाद भी अब 23 सीट की जीत का दावा कर रहे है.


उधर ममता बनर्जी ने दार्जिलिंग की रैली से बाहर के आये लोगों को कहा के पीछे पिछले दो बार आप लोगों ने भाजपा को दार्जिलिंग से जिताया है. पहली बार बीजेपी के पूर्व मंत्री यशवंत सिन्हा और उसके बाद दूसरी मंत्री बने सुरेंद्र सिंह आहलूवालिया .पर दोनों जीतने के बाद पहाड़ में बाहर के लोगों से मिलने नहीं आए. 5 सालों में कई एक बार या दो बार आए होंगे पर उन्होंने कोई पहाड़ के लिए कोई भी स्पेशल पैकेज या कोई भी बड़ा काम उन्होंने नहीं किया. पर इस बार बाहर के लोगों से ममता बनर्जी का अपील है कि आप लोग दो-दो बार 10 साल देख लिए भाजपा को जीता के कोई काम नहीं हुआ जितना काम हुआ है पहाड़ में पश्चिम बंगाल की सरकार ने किया हमने किया है.


उन्होंने कहा कि पहाड़ में जितने प्रॉब्लम थे सड़क की पानी की सब सुविधाएं उपलब्ध कराए कराए. राज्य सरकार ने इस बार हमने जो प्रत्याशी दिए हैं वह आपके यहां का भूमि पुत्र है. हालांकि अमर सिंह राइटिंग कांग्रेस का इस बार उम्मीदवार है. जो कि पहले से ही विधायक रह चुके दार्जिलिंग क्षेत्र से उन्होंने पहले गोरखा जनमुक्ति मोर्चा की तरफ से विधायक चुनाव लड़े और विधायक बने पर इस बार अमर सिंह राय ने तृणमूल के तरफ से लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं.


उधर बीजेपी के उम्मीदवार मणिपुर से है. ममता बनर्जी का कहना है कि बाहर से उम्मीदवार लेकर आए भाजपा को दार्जिलिंग से कोई उम्मीदवार नहीं मिला. राजू सिंह विस्ता जन्म से नेपाली है .पर वह मणिपुर में बढ़े हुए हैं. राजू सिंह का कहना यह है कि हम पापा हम पहाड़ से जुड़े हुए हैं और पहाड़ के लोग हमारे साथ जुड़े हुए हैं. भाजपा के साथ जुड़े हुए हैं इस बार भी पहाड़ के लोग भाजपा को ही दार्जिलिंग से चुनाव जीत आएंगे. यह हमारा भरोसा है हमारा उम्मीद है. अब देखते हैं कि बाहर को लेकर के भाजपा तृणमूल की जो लड़ाई है जो संघर्ष है और दोनों की प्रत्याशियों की जो उम्मीदें हैं वह कितना मजबूत है. 23 तारीख चुनाव के नतीजे निकालने के बाद ही पता चलेगा कि पहाड़ के लोग ममता बनर्जी की बात रखते हैं या बीजेपी की बात सुनते हैं.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it