Top
Begin typing your search...

बात 30 अगस्त 1965 की है जब ड्राइवर कमल नयन सेना के जवानों के कहने पर ट्रक लेकर पाकिस्तान के खिलाफ लड़ने चल दिए और ..

बात 30 अगस्त 1965 की है। ड्राइवर कमल नयन मलेरकोटला पंजाब से ट्रक क्रमांक PNR 5317 में 90 बोरी गेहूं लादकर दिल्ली आ रहे थे।

बात 30 अगस्त 1965 की है जब ड्राइवर कमल नयन सेना के जवानों के कहने पर ट्रक लेकर पाकिस्तान के खिलाफ लड़ने चल दिए और ..
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बात 30 अगस्त 1965 की है। ड्राइवर कमल नयन मलेरकोटला पंजाब से ट्रक क्रमांक PNR 5317 में 90 बोरी गेहूं लादकर दिल्ली आ रहे थे।

रास्ते मे सेना के जवानों ने उनके ट्रक को रोका और कहा कि पाकिस्तान से जंग छिड़ गई है। हमें आपके ट्रक और आपकी मदद चाहिए। कमल जी ने ट्रक में लदीं 90 बोरियां सड़क पर ही उतार दीं और ट्रक में गोला-बारूद भरकर सेना की मदद के लिए बॉर्डर की तरफ चल दिए।

जंग करते हुए वे पाकिस्तान के सियालकोट सेक्टर पहुंच गए। पाकिस्तानी सैनिकों और तोपों को7 छकाते सेना का असलहा लेकर ऐसे गुजरते मानो जैसे किसी आम रास्ते से गुजर रहे हों। कई बार तो उन्होंने ट्रक पाकिस्तानी सैनिकों पर फिल्मी स्टाइल में चढ़ा दिए तो कई बार खुद गोला-बारूद चलाने लगे।

सरकार ने ट्रक ड्राइवर कमल नयन को सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाकर लड़ने के अदम्य साहस पर #अशोक_चक्र देकर सम्मानित किया था। जिसके तहत उन्हें 15 लाख रुपए नगद और 70 हजार रुपए सालाना देने की घोषणा हुई थी।

हमे ऐसे बजुर्गो पर गर्व है और ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिये ताकि सबको ऐसे योद्धा के बारे में पता चल सके।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it