Top
Home > अजब गजब > झारखंड में देखते ही देखते तालाब का पानी हुआ लाल और मरने लगीं मछलियां

झारखंड में देखते ही देखते तालाब का पानी हुआ लाल और मरने लगीं मछलियां

उसने तालाब में जहरीला पदार्थ डाला था जिसे लेकर पुलिस से कार्रवाई की मांग की गई है. हालांकि अभी यह साफ नहीं हो पा रहा है कि उसी व्यक्ति ने तालाब में जहर डाला है या नहीं.

 Shiv Kumar Mishra |  2 May 2020 4:24 PM GMT  |  रांची

झारखंड में देखते ही देखते तालाब का पानी हुआ लाल और मरने लगीं मछलियां
x

झारखंड से सनसनीखेज घटना सामने आई है जहां पलामू के रेहला डंडिला गांव के तालाब के पानी का रंग अचानक से बदल कर लाल हो गया. पानी जहरीला होने से हजारों की संख्या में मछलियों की जान चली गई. लोगों का आरोप है कि तालाब में एक शख्स ने जहरीला पदार्थ डाल दिया है जिसके कारण पानी जहरीला हो गया है. वहीं रेहला स्थित ग्रासिम इंडस्ट्रीज के कर्मचारी केमिकल की मदद से पानी को फिर से स्वच्छ बनाने का प्रयास कर रहे हैं.

जहरीले हो चुके इस तालाब में कोई पशु-पक्षी पानी नहीं पी पाए इसके लिए कुछ ग्रामीण तलाब के किनारे खड़े होकर पहरा दे रहे हैं. बताया जा रहा है कि यह तालाब गांव के बीच स्थित है. इस तालाब से ग्रामीणों के घर के कुएं, चापाकल (हैंडपम्प) के पानी के स्रोत भी जुड़े रहते हैं. इस दौरान ग्रामीणों ने एक शख्स पर आरोप लगाया है उसने तालाब में जहरीला पदार्थ डाला था जिसे लेकर पुलिस से कार्रवाई की मांग की गई है. हालांकि अभी यह साफ नहीं हो पा रहा है कि उसी व्यक्ति ने तालाब में जहर डाला है या नहीं.

ग्रामीणों का कहना है कि यह तालाब गांव के लिए जल स्रोत की तरह काम करता है. ग्रामीणों के घर में कुएं और हैंडपम्प इस तालाब से जुड़े हुए हैं. इससे उन पर भी इसका प्रभाव पड़ा है. अब कुछ लोगों ने तालाब के पास पहरा देने की जिम्मेदारी ली है ताकि अन्य जीव इस तालाब में पानी ना पी सकें जब तक यह पानी साफ नहीं हो जाता.

हाल ही में एक शख्स ने इस तालाब के पानी का प्रयोग नहाने के लिए किया था जिसके बाद उसके शरीर में जलन होने लगी. तबियत खराब होते देख युवक को प्राथमिक उपचार के लिए डॉक्टर के पास ले जाया गया और इलाज के बाद उसकी शरीर की त्वचा में सुधार आया. डॉक्टरों का कहना है कि पानी जहरीला तो नहीं प्रतीत हो रहा है लेकिन उसमें किसी हानिकारक पदार्थ के होने की पूरी आशंका है.

इस मामले पर एसडीपीओ सुरजीत कुमार ने बताया कि मामले को संज्ञान में ले लिया गया है. इस मामले में पास के ग्रासिम इंडस्ट्रीज के कुछ एक्सपर्ट को बुलाया गया था. उन्होंने जब तालाब के पानी को टेस्ट किया तो बताया कि जो केमिकल इस पानी में मिलाया गया है वह जानलेवा तो नहीं पर त्वचा के लिए घातक है. इस वजह से एक्सपर्ट ने केमिकल का इस्तेमाल करके पानी को फिर से साफ करने की कोशश की है. एसडीपीओ का कहना है कि शनिवार को इस मामले पर अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है और आगे की कार्रवाई की जा रही है.

Tags:    
Next Story
Share it