Top
Begin typing your search...

बीजेपी को बड़ा झटका, दो मिनिस्टरों समेत छह विधायकों ने दिया इस्तीफा, मची खलबली

बीजेपी को बड़ा झटका, दो मिनिस्टरों समेत छह विधायकों ने दिया इस्तीफा,  मची खलबली
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: अरुणाचल प्रदेश में बीजेपी के 18 नेताओं, जिनमें दो मंत्री और छह विधायक शामिल ने पार्टी से इस्तीफा देकर एक बड़ा झटका दिया है. चुनाव लड़ने के मौके से वंचित होने के कारण बीजेपी की प्रमुख सहयोगी कॉनराड संगमा की नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) में शामिल हो गए. जो अब अकेले चुनाव लड़ेंगे. पूर्वोत्तर में पिछले सप्ताह में कुल 25 नेताओं ने पार्टी छोड़ दी है.

भाजपा पूर्वोत्तर राज्यों में केवल दो गठबंधन को अंतिम रूप देने में सफल रही है. कॉनराड संगमा के एनपीपी और सिक्किम के एसकेएम सहित इसके कई क्षेत्रीय सहयोगियों ने चुनाव से ठीक पहले पार्टी को धूल चटा दी है.अरुणाचल प्रदेश में गृह मंत्री कुमार वाई, पर्यटन मंत्री जारकर गैमलिन, भाजपा महासचिव जर्पम गाम्बिन और छह विधायक इस्तीफा देने वालों में से हैं.

गृह मंत्री कुमार वाई ने कहा, "वे (भाजपा) वंशवाद की राजनीति पर कांग्रेस पर हमला करते है. लेकिन अरुणाचल प्रदेश में देखिये मुख्यमंत्री के परिवार को तीन टिकट मिले हैं तो यह वंशवाद नहीं तो और क्या है.

एनपीपी के वरिष्ठ नेता थॉमस संगमा ने कहा, "एनपीपी अब 60 सदस्यीय विधानसभा में कम से कम 30-40 सीटों पर उम्मीदवारों को मैदान में उतारने की कोशिश करेगी. हम अपनी सरकार बनाएंगे. जारकर गैमलिन ने कहा कि उन्होंने इस्तीफा नहीं दिया होता अगर पार्टी ने उन्हें पहले ही सूचित कर देती कि उन्हें चुनाव लड़ने के लिए टिकट नहीं दिया जाएगा.

गामलिन ने कहा, "चुनाव पार्टी या मेरे लोगों के बीच था, जिनके साथ मैंने पिछले तीन वर्षों से उनके नेतृत्व में काम किया है. चुनावी राजनीति में, लोग पार्टी से ज्यादा महत्वपूर्ण हैं और मैं अपने समर्थकों के फैसले के साथ गया हूं.

उन्होंने कहा, "अगर मुझे पहले ही सूचित कर दिया गया था कि मुझे पार्टी का टिकट नहीं दिया जाएगा, तो मैंने इस्तीफा नहीं देता, लेकिन मुझे हमेशा पार्टी द्वारा गलत धारणा दी गई.

केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता किरेन रिजिजू ने कहा कि टिकटों पर निर्णय केंद्रीय चुनाव समिति द्वारा किया गया था. टिकट पार्टी का आंतरिक मामला है. राज्य चुनाव समिति की सिफारिश के अनुसार, केंद्रीय चुनाव समिति द्वारा अंतिम निर्णय लिया गया था. हां, बैठे मंत्रियों को टिकट से वंचित किया गया था, लेकिन इसका कारण संसदीय बोर्ड द्वारा निर्धारित जमीनी स्थिति का आंकलन होता है.


एनपीपी को बुधवार तक अपने उम्मीदवारों की अंतिम सूची की घोषणा करने की उम्मीद है. भाजपा ने पहले ही विधानसभा चुनाव के लिए 54 उम्मीदवारों की सूची घोषित कर दी है.

Special Coverage News
Next Story
Share it