Top
Begin typing your search...

कांग्रेस को बड़ा झटका, शकील अहमद ने निर्दलीय उम्मीदवार की हैसियत से खरीदा पर्चा

कांग्रेस को बड़ा झटका, शकील अहमद ने निर्दलीय उम्मीदवार की हैसियत से खरीदा पर्चा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिहार में महागठबंधन के लिए अब एक बुरी खबर सामने आ रही है। महगठबंधन की गांठ अब मधुबनी सीट पर उलझने वाली है। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शकील अहमद मधुबनी से चुनाव लड़ेंगे। इसको लेकर शकील अहमद ने बुधवार को नामांकन फॉम भी खरीद लिया है।


बता दें कि नामांकन के पहले किसी भी उम्मीदवार को 25000 शुल्क जमा कर नामांकन फॉम खरीदना पड़ता है। शकील अहमद ने अपने नाम से नामांकन फॉम खरीदा है। इससे जाहिर होता है कि उन्होंने चुनाव लड़ने का मन बना लिया है। सूत्रों के मुताबिक शकील अहमद निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे। बता दें कि मधुबनी सीट से कांग्रेस अपना उम्मीदवार उतारना चाहती है लेकिन महागठबंधन में ये सीट विकासशील इंसान पार्टी के कोटे में चली गई। वीआईपी पार्टी ने मधुबनी से बद्री पूर्वे को उम्मीदवार बनाया है।


1976 से पहले, मधुबनी विधानसभा क्षेत्र एक ही नाम के जिले के पूर्वी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र का हिस्सा था, लेकिन 1976 के बाद पूर्वी लोकसभा क्षेत्र का नाम बदलकर झंझारपुर कर दिया गया क्योंकि मधुबनी विधानसभा क्षेत्र को पूर्व जयनगर लोकसभा क्षेत्र में विलय करने के लिए निकाल लिया गया था । जयनगर लोकसभा क्षेत्र में मधुबनी जिले के पश्चिमी विधानसभा क्षेत्र के अलावा दरभंगा जिले के जाले विधानसभा क्षेत्र शामिल थे। मधुबनी विधानसभा क्षेत्र को शामिल किए जाने के बाद, मधुबनी विधानसभा क्षेत्र के नुकसान की भरपाई करने के लिए, जयनगर लोकसभा क्षेत्र का नाम बदलकर मधुबनी और लडानिया सीडी ब्लॉक के रूप में बदल दिया गया और आसपास के क्षेत्रों को नवगठित झंझारपुर लोकसभा क्षेत्र में विलय कर दिया गया। इस पुनर्गठन के बाद, जिले में कम्युनिस्ट वोट बैंक का विभाजन हो गया और सीपीआई को इस जिले के पूर्वी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र को जीतने में अधिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, जिसे 1967 और 1971 में सीपीआई के उम्मीदवार भोगेंद्र झा ने जीता था।

1957: श्याम नंदन मिश्रा, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (जयनगर सीट के रूप में)

1962: यमुना प्रसाद मंडल, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (जयनगर सीट के रूप में)

1967: भोगेन्द्र झा, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (जयनगर सीट के रूप में)

1971: भोगेन्द्र झा, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (जयनगर सीट के रूप में)

1977: चौधरी हुकमदेव नारायण यादव, जनता पार्टी

1980 जनवरी: शफ़ीकुल्ला अंसारी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, आम चुनाव; श्री शफीकुल्ला अंसारी का चार महीने के आम चुनाव के बाद निधन हो गया।

1980 मई: भोगेन्द्र झा, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, उपचुनाव।

1984: मौलाना अब्दुल हन्नान अंसारी, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

1989: भोगेन्द्र झा, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी

1991: भोगेन्द्र झा, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी

1996: चतुरानन मिश्र, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी

1998: शकील अहमद, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

1999: चौधरी हुकमदेव नारायण यादव, भारतीय जनता पार्टी

2004: शकील अहमद, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

2009: चौधरी हुकमदेव नारायण यादव, भारतीय जनता पार्टी

2014: चौधरी हुकमदेव नारायण यादव, भारतीय जनता पार्टी

Special Coverage News
Next Story
Share it