Home > राज्य > बिहार > पटना > वक्त की मांग है कन्हैया जैसा युवक :शबाना आज़मी

वक्त की मांग है कन्हैया जैसा युवक :शबाना आज़मी

 Special Coverage News |  25 April 2019 5:39 PM GMT  |  बेगुसराय

वक्त की मांग है कन्हैया जैसा युवक :शबाना आज़मी

शिवानंद गिरी

बेगूसराय: बेगूसराय के बलिया प्रखंड सिमरिया हाई स्कूल में एक जनसभा को संबोधित करते हुए मशहूर फिल्म अभिनेत्री शबाना आज़मी ने कहा की यहां यहां के एक उम्मीदवार नफरत फैलाते हैं तो दूसरा प्यार बांटते हैं, इस चुनाव से देश का भविष्य उजागर होगा या खराब होगा यह आप लोगों को तय करना है। देश के 50 फीसद आबादी 30 वर्ष से कम उम्र के नौजवानों की है। यह बड़ी ताकत होती है देश की दशा और दिशा तय करने में।

शबाना आज़मी ने वामपंथी दलों के संयुक्त उम्मीदवार कन्हैया कुमार के समर्थन में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए आगे कहा नौजवानों से रोजगार छीने जा रहे हैं। देश के 58 फीसद स्नातक एवं 62 फीसद एमए पास कर युवक बेरोजगारी की दलदल में फंसे हुए हैं। जबकि एनडीए की सरकार ने 2014 की चुनाव में विकास के वादे एवं रोजगार देने की गारंटी के नौका में सवार होकर चुनावी नैया पार की थी। उनके वादे पूरे नहीं हुए इसलिए हुए पुराने खेल दंगा एवं हिंदू मुस्लिम के बीच भेदभाव पैदा कर रहे हैं। सांप्रदायिक दंगे ऐसे नहीं होते बल्कि करवाए जाते हैं।

सरकार के नीतियों के आलोचना करते हुए शबाना ने कहा संविधान ने हम सभी को बराबरी का हक दिया गया है। लेकिन यह सरकार संविधान में छेड़छाड़ पर तुली हुई है संस्थानों पर अपना प्रभाव जमाने की कोशिश कर रही है ऐसी स्थिति में देश को कॉमरेड कन्हैया जैसे युवक कीआवश्यकता है। आप लोग इसे बहुमत देकर विजयी बनावे।

उन्होंने कहा कि कन्हैया पर जो इल्जाम लगाए जा रहे हैं वह सरासर गलत है। कन्हैया को विरोधी दल द्वारा टुकड़े-टुकड़े गैंग का लड़का कहा जाता है क्योंकि वे लोग डरे हुए हैं। उन लोगों को कन्हैया से खतरा नजर आ रहा है।

चुनावी सभा को संबोधित करते हुए फिल्म अभिनेता प्रकाश राज ने कहा कि मैं मन की बातें नहीं बल्कि दिल की बातें बोलूंगा यह चुनाव दो लोगों के बीच है। जिसमें एक सुपुत्र है तो दूसरा कुपुत्र। इसमें से आपको तय करना है कि देश की बागडोर किसके हाथों दिया जाए। उन्होंने कहा कि मेरा एवं कन्हैया का रिश्ता इंसानियत का है कन्हैया बेगूसराय का नहीं बल्कि देश का खुशबू है। जो अल्पसंख्यकों, गरीबों एवं किसानों के लिए आवाज उठाता है। देश को ऐसे नौजवानों की आवश्यकता है।

मैं इंसानियत के नाते अपने मित्र कन्हैया के लिए आप लोगों से मत का भीख मांगने आया हूं। इस देश के चुनाव में कोई नेता व राजनीतिक दल नहीं जीतेगा। उन्होंने कहा कि मैं बेंगलुरु से चुनाव लड़ रहा हूं। यदि भगवान ने दोनों में से एक को जीताने की बात करेंगे तो मैं कहूंगा कि कन्हैया ही बेहतर रहेगा।

सभा को पूर्व सांसद सह सीपीआई के वरिष्ठ नेता शत्रुघ्न प्रसाद सिंह, बेगूसराय सीपीआई के मंत्री गणेश सिंह, पूर्व सांसद रामेंद्र कुमार, राज्यसभा सदस्य विनय विश्रम, पूर्व सांसद अजीत पाशा, इप्टा महासचिव तनवीर अहमद, सीपीआई जिला सचिव विद्यानंद यादव, संजीव सरोज, इंद्रदेव साह, बैजनाथ यादव, विजय सिंह, सनोज सरोज, माले जिला सचिव दिवाकर कुमार, मनोज पटेल, ललिता देवी, शबाब फहीम, शंकर सरोज, नंदकिशोर यादव सहित कई पार्टी नेताओं ने भी सभा को संबोधित किया। कार्यक्रम अध्यक्षता पूर्व मुखिया बैद्यनाथ यादव एवं मंच संचालन राजेंद्र चौधरी ने किया।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top