Top
Begin typing your search...

असहिष्णुता : काजोल बोलीं, 'मन की बात कहने में मुझे कोई परेशानी नहीं'

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
Kajol on intolerance

नई दिल्ली : करण जौहर के असिहष्णुता के बयान के बाद भारतकी राजनीति से लेकर बॉलीबुड तक गर्माया हुआ है। अब बॉलीबुड अभिनेत्री काजोल ने करण जौहर की उस बात को खारिज करते हुए कहा है कि मन की बात कहने में मुझे कोई परेशानी नहीं है। फिल्म इंडस्ट्री में कोई असिहष्णुता नहीं है।

काजोल ने माना कि हमारा फिल्म उद्योग समाज में जो चल रहा होता है उसे हमेशा दर्शाता रहेगा। बॉलीवुड में कोई विभाजन रेखा नहीं हैं, न ही जाति, नस्ल है और न ही असहिष्णुता।

वहीं, काजोल ने यह जरूर कहा कि कई विषयों पर लोग अनावश्यक रूप से संवेदनशील हो गए है। इसलिए एक-एक शब्द नाप-तोल कर बोलना पड़ता है, बोलें कि नहीं बोले। सुनने वाला भी एक-एक शब्द के कई अर्थ निकाल रहा है। लेकिन हमारी जिम्मेदारी है कि हम अच्छा बोलें ओए संवेदनशील रहें।

ये कहा था करण जौहर ने ?
करण जौहर ने जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के दौरान कहा था कि भारत में मन की बात कहना बहुत मुश्किल है। मेरे ख्याल से लोकतंत्र देश का दूसरा बड़ा मजाक है। करण जौहर ने कहा था, ‘हम ऐसे देश में हैं जहां अपनी पर्सनल लाइफ के बारे में हम खुलकर नहीं बोल सकते हैं। मुझे इस बात से बहुत दुख होता है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और लोकतंत्र देश में दो सबसे बड़े मजाक बन चुके हैं। आप इन दोनों बातों को किस तरह से परिभाषित करेंगे? मैं फिल्ममेकर हूं और मुझे कुछ भी करने से पहले सोचना पड़ता है। मैं कहां पर क्या कह रहा हूं और उसके बाद मुझे किस बात के लिए कानूनी नोटिस भेज दिया जाए, पता ही नहीं चलता है। मैं एफआईआर किंग बन चुका हूं।
Special News Coverage
Next Story
Share it