Top
Begin typing your search...

Yes Bank ग्राहकों के लिए बड़ी खबर, जानें सरकार का 18 मार्च के प्लान के बारें में

वित्त मंत्री ने कहा कि यस बैंक के पुनर्गठन की योजना को अधिसूचित करने के 3 दिनों के भीतर मौजूदा पाबंदियां हटा दी जाएगी।

Yes Bank ग्राहकों के लिए बड़ी खबर, जानें सरकार का 18 मार्च के प्लान के बारें में
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। यस बैंक को ग्राहको के लिए एक अच्छी खबर आ रही है की 18 मार्च शाम 6 बजे के बाद ग्राहक अपने खाते से सामान्य लेन-देन कर सकेंगे संकट से जूझ रहे यस बैंक को पटरी पर लाने के लिए लागू हुए नए प्लान को लेकर नोटिफिकेशन जारी हो गया है. इससे यस बैंक खाताधारकों के लिए राहत की बात ये होगी कि नोटिफिकेशन जारी होने के 3 दिन के अंदर मोरेटेरियम पीरियड (Moratorium On Yes Bank) को खत्म कर दिया जाएगा. इसका मतलब है कि नोटिफिकेशन जारी होने के 3 दिन के अंदर यस बैंक से सभी प्रतिबंध हटा लिया जाएगा।

RBI प्रस्ताव के मुताबिक, अगले 3 साल के लिए प्रशांत कुमार को यस बैंक का नया प्रबंध निदेशक (मैनेजिंग डायरेक्टर) और चीफ एक्जीक्युटिव ऑफिसर (CEO) नियुक्त किया गया है. चेयरमैन और दो डायरेक्टर्स को आरबीआई नियुक्त करेगी. प्रस्ताव को मिली मंजूरी के मुताबिक, महेश कृष्णमूर्ति और अतुल भेड़ा यस बैंक के दो स्वतंत्र निदेशक होंगे।

भारतीय रिजर्व बैंक ने नकदी संकट से जूझ रहे यस बैंक पर रोक लगाते हुए उसके निदेशक मंडल को भंग कर दिया था. इसके अलावा बैंक के जमाकर्ताओं के लिए 50,000 रुपये की निकासी की सीमा भी तय कर दी थी.कई तरह की पाबंदियां लगाने के बाद आरबीआई ने बयान जारी कर कहा था कि यस बैंक के निदेशक मंडल को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया गया है और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफओ) प्रशांत कुमार को यस बैंक का प्रशासक नियुक्त किया गया है।

निर्मला सीतारमण ने बताया कि एसबीआई ने यस बैंक 49 फीसदी तक निवेश किया है। इसके साथ ही अन्य निवेशकों को भी आमंत्रित किया जा रहा है। एसबीआई के करीब 26 फीसदी निवेश की लॉक-इन अवधि तीन साल होगी। जबकि दूसरे निवेशकों के 75 फीसदी निवेश राशि की लॉक-इन अवधि तीन वर्ष होगी।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यह भी कहा कि पूंजीगत आवश्यकताओं को तत्काल और बाद में बढ़ाने के लिए अधिकृत पूंजी को 1100 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 6200 करोड़ रुपये कर दिया गया है। वित्त मंत्री ने कहा कि यस बैंक के पुनर्गठन की योजना को अधिसूचित करने के 3 दिनों के भीतर मौजूदा पाबंदियां हटा दी जाएगी। एक नया बोर्ड बनेगा जिसमें एसबीआई (SBI) के कम से कम दो निदेशक होंगे, जो अधिसूचना जारी होने के 7 दिनों के भीतर कार्यभार संभाल लेंगे


Sujeet Kumar Gupta
Next Story
Share it