Top
Home > व्यवसाय > इस कारण फिर बंद हुई प्राइवेट ट्रेनों की बुकिंग!

इस कारण फिर बंद हुई प्राइवेट ट्रेनों की बुकिंग!

कोरोनावायरस के बढ़ते कहर के बीच लॉकडाउन की अवधि बढ़ने के आसार को देखते हुए प्राइवेट ट्रेनों में बुकिंग एक बार फिर से बंद कर दी गई है।

 Shiv Kumar Mishra |  7 April 2020 6:53 AM GMT  |  नई दिल्ली

इस कारण फिर बंद हुई प्राइवेट ट्रेनों की बुकिंग!

कोरोनावायरस के बढ़ते कहर के बीच लॉकडाउन की अवधि बढ़ने के आसार को देखते हुए प्राइवेट ट्रेनों में बुकिंग एक बार फिर से बंद कर दी गई है। अब, इन ट्रेनों में एक मई 2020 से बुकिंग खोली जाएगी। देश में प्राइवेट ट्रेन के परिचालन की शुरुआत करने वाली कंपनी इंडियन रेलवे कैटरिंग ऐंड टूरिज्म कारपोरेशन(IRCTC) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि आगामी 15 अप्रैल से 30 अप्रैल के बीच प्राइवेट ट्रेन का परिचालन रद्द कर दिया गया है। इसलिए इन ट्रेनों में बुकिंग फिर से बंद कर दी गई है। इस बारे में रेलवे को सूचना भेज दी गई है ताकि उन्हें भी आसानी रहे।

मिल नहीं रहे थे पैसेंजर

उक्त अधिकारी ने बताया कि लॉकडाउन के बाद की अवधि के लिए जब ट्रेन में बुकिंग खोली गई थी तो रेलवे के लोकप्रिय ट्रेनों में तो बुकिेंग खूब मिली। लेकिन प्राइवेट ट्रेन में बुकिंग बेहद कम मिली। देखा गया कि एक दिन में डेढ़ सौ या दो सौ यात्रियों की बुकिंग मिल रही है। इतने यात्रियों को लेकर तो पूरी ट्रेन चलाना मुश्किल है। इसलिए इन ट्रेनों को अप्रैल महीने तक के लिए रद्द कर दिया गया है। आगामी एक मई से बुकिंग खुली है और जो यात्री चाहें, इसमें बुकिंग बंद करा सकते हैं।

जिसने बुकिंग कराई थी, उन्हें मिलेगा रिफंड

अधिकारी का कहना है कि जिन अधिकारियों ने 15 से 30 अप्रैल 2020 के बीच यात्रा के लिए तेजस एक्सप्रेस में बुकिंग कराई थी, उन्हें रिफंड दे दिया जाएगा।

21 दिनों के लिए 13523 ट्रेन निलंबित

प्रधानमंत्री द्वारा बीते 24 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा करने के बाद रेलवे ने 21 दिनों के लिए 13,523 ट्रेनों की सेवाएं निलंबित कर दी थीं। इसी वजह से प्राइवेट ट्रेनों का संचालन भी बंद हुआ है।

पीटीआई के मुताबिक, एक अधिकारी ने बताया कि रेलवे फिलहाल आमदनी के बारे में नहीं बल्कि यात्रियों की सुरक्षा के बारे में सोच रहा है। यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि कोरोना और न फैले। लॉकडाउन के बाद सभी यात्रियों से अपील की जाएगी कि वे बिना मास्क सफर न करें, उनके स्वास्थ्य को बड़ा खतरा हो सकता है।

स्वस्थ नहीं तो नहीं कर पाएंगे ट्रेन का सफर

एक अधिकारी ने बताया कि रेलवे का विचार है कि आरोग्य सेतु ऐप का सहारा लेकर यात्रियों के स्वास्थ्य को चेक किया जाए। अगर कोई यात्री स्वस्थ नहीं पाया गया तो उसे ट्रेन में नहीं चढ़ने दिया जाएगा।

थर्मल स्कीनिंग के बाद मिलेगी एंट्री!

एयरपोर्ट की तरह हर यात्री की थर्मल स्क्रीनिंग की जा सकती है। इसके अलावा, यात्रियों के स्वास्थअय की जांच करने के लिए कई अन्य विकल्पों पर भी विचार किया जा रहा है।

चेक कर लीजिएगा, मंजिल कोरोना हॉटस्पॉट है तो नहीं रुकेगी ट्रेन

लॉकडाउन खत्म होने के बाद रेलवे की प्राथमिकता में ऐसे रूट्स के लिए जगह नहीं होगी, जिसमें कोरोना के हटस्पॉट आते हों। ऐसे में जरूरी है कि आप अपनी प्लैनिंग इसी हिसाब से करें। अगर आपकी मंजिल ऐसी है, जिसके रास्ते में हॉटस्पॉट आता हो या मंजिल ही हॉटस्पॉट हो तो आपको रेलवे 'सॉरी' ही कहेगा।

अपने साथ स्टेशन छोड़ने वालों की भीड़ न ले जाएं

लॉकडाउन खुलने का यह मतलब नहीं कि अचानक सब सोशल डिस्टैंसिंग की जरूरत को भूल जाएं। रेलवे की कोशिश रहेगी कि स्टेशनों और प्लैटफॉर्म्स पर कम से कम लोग हों। गैरजरूरी यात्राओं को टालने की रणनीति के साथ काम हो सकता है। ऐसे में अगर आप कहीं जा रहे हैं तो पहले चेक करें कि आपका जाना कितना जरूरी है और साथ ही दोस्तों-रिश्तेदारों को स्टेशन पर सी-ऑफ करने के लिए न बुलाएं।

देश में दो प्राइवेट ट्रेन

इस समय आईआरसीटीसी तेजस एक्सप्रेस के नाम से देश के दो अति व्यस्त रूटों पर प्राइवेट ट्रेनों का परिचालन करती है। इनमें दिल्ली से लखनउ और अहमदाबाद से मुंबई का रूट शामिल है।

सरकारी एविएशन कंपनी एयर इंडिया ने बीते शुक्रवार को ही कहा था कि उन्होंने 30 अप्रैल 2020 तक तमाम घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय मार्गों पर बुकिंग बंद कर दिया है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it