Top
Home > व्यवसाय > यस बैंक के खाताधारकों से बोली वित्त मंत्री- नहीं डूबेगा एक भी पैसा, एमरजेंसी में वो ज्यादा रकम भी निकाल सकते?

यस बैंक के खाताधारकों से बोली वित्त मंत्री- नहीं डूबेगा एक भी पैसा, एमरजेंसी में वो ज्यादा रकम भी निकाल सकते?

वित्त मंत्री ने कहा कि अगर किसी को एमरजेंसी है तो वो नियमों के तहत ज्यादा रकम भी निकाल सकते है.

 Sujeet Kumar Gupta |  6 March 2020 8:48 AM GMT  |  नई दिल्ली

यस बैंक के खाताधारकों से बोली वित्त मंत्री- नहीं डूबेगा एक भी पैसा, एमरजेंसी में वो ज्यादा रकम भी निकाल सकते?
x

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यस बैंक के खाताधारकों को भरोसा दिया है कि उनका पैसा नहीं डूबेगा। पीटीआई के मुताबिक शुक्रवार को निर्मला सीतारमण ने कहा कि यस बैंक के मुद्दे को रिजर्व बैंक और सरकार विस्तृत तौर पर देख रहे हैं, हमने वह रास्ता अपनाया है जो सबके हित में होगा। रिजर्व बैंक ने मुझे भरोसा दिलाया है कि येस बैंक के किसी भी ग्राहक को कोई नुकसान नहीं होगा।मैं भरोसा दिलाना चाहती हूं कि येस बैंक के हर जमाकर्ता का धन सुरक्षित है, मैं रिजर्व बैंक के साथ लगातार संपर्क में हूं।

वित्त मंत्री ने कहा कि अगर किसी को एमरजेंसी है तो वो नियमों के तहत ज्यादा रकम भी निकाल सकते है. नोटिफिकेशन में दी गई जानकारी के मुताबिक, कुछ विशेष परिस्थितियों में अकाउंटहोल्डर्स अपने खाते से 50,000 रुपये से अधिक रकम विड्रॉ कर सकते हैं. आइए जानते हैं कि किन परिस्थितियों में 50 हजार रुपये से अधिक की निकासी की जा सकती है।

अगर जमाकर्ता या वास्तविक रूप से उस पर आश्रित किसी व्यक्ति के लिए मेडिकल खर्च करना हो. जमाकर्ता या वास्तविक रूप से उस पर आश्रित किसी व्यक्ति के भारत या भारत के बाहर एजुकेशन पर खर्च करना हो.जमाकर्ता या उसके बच्चे या वास्तविक रूप से उस पर ​आश्रित किसी अन्य व्यक्ति की शादी या अन्य समारोह के उपलक्ष्य में 50 हजार रुपये से अधिक की निकासी की जा सकती है.

यस बैंक के एटीएम के बार लंबी लाइनें लगी है? इस सवाल के जवाब में वित्त मंत्री ने कहा कि इस पर RBI गवर्नर से बातचीत करूंगी और जल्दी से जल्दी कैश की दिक्कतों को दूर करने की कोशिश की जाएगी.

बतादें कि वित्तीय संकट से जूझ रहे यस बैंक पर भारतीय रिजर्व बैंक ने पैसा निकालने की ऊपरी सीमा निर्धारित कर दी है। इसके तहत खाताधारक अब यस बैंक से 50 हजार रुपये से ज्यादा रकम नहीं निकाल सकेंगे। निकासी की यह सीमा तीन अप्रैल, 2020 तक लागू रहेगी। रिजर्व बैंक ने यस बैंक के निदेशक मंडल को भी भंग कर दिया है। निदेशक मंडल पिछले छह माह से बैंक के लिए जरूरी पूंजी जुटाने में विफल रहा। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफओ) प्रशांत कुमार को यस बैंक का प्रशासक नियुक्त किया गया है।

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि येस बैंक के संबंध में निर्णय व्यापक पैमाने पर लिया गया, इसका लक्ष्य वित्तीय तंत्र की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक येस बैंक के पुनरोद्धार के लिए बहुत जल्द एक योजना लाएगा।

वहीं मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम ने भी यस बैंक के ग्राहकों के हितों की सुरक्षा का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि बैंक के जमाकर्ताओं का धन सुरक्षित है और बैंक के पुनर्गठन के लिए सभी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। रिजर्व बैंक के बृहस्पतिवार को येस बैंक पर रोक लगाने और निदेशक मंडल को तत्काल प्रभाव से भंग करने के एक दिन बाद सुब्रहमण्यम ने यह बात कही है। रिजर्व बैंक ने येस बैंक के ग्राहकों पर भी महीने में 50,000 रुपये से ज्यादा की निकासी पर रोक लगा दी है।

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it