Top
Begin typing your search...

नोटबंदी के चार साल पूरे, कांग्रेस मनाएगी 'विश्वासघात दिवस' - जानें- भारत में कब-कब हुई नोटबंदी

आज नोटबंदी के चार साल पूरे हो गए.

नोटबंदी के चार साल पूरे, कांग्रेस मनाएगी विश्वासघात दिवस - जानें- भारत में कब-कब हुई नोटबंदी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आज नोटबंदी के चार साल पूरे हो गए. आठ नवंबर, 2016 की रात आठ बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के संबोधन में अप्रत्याशित रूप से उच्च मूल्य वर्ग के 500 एवं 1000 रुपये के करेंसी नोट को प्रचलन से बाहर करते हुए उनके लीगल टेंडर (वैध मुद्रा) नहीं होने की घोषणा की। नोटबंदी को ही विमुद्रीकरण कहा जाता है। नोटबंदी या विमुद्रीकरण का अर्थ है किसी भी देश में सरकार द्वारा बड़े मूल्य के नोटों को बंद करना या उनके प्रयोग पर प्रतिबंध लगाना जिससे वे किसी भी काम के नही रहते। न ही उनसे कोई लेन देन किया जा सकता है, न ही कुछ खरीदा जा सकता है।

कांग्रेस मनाएगी 'विश्वासघात दिवस'

कांग्रेस नोटबंदी के चार साल पूरा होने के मौके पर रविवार को 'विश्वासघात दिवस' मनाएगी। पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने ट्वीट किया, ''नोटबंदी को चार साल पूरा हो रहे हैं जो मोदी सरकार का त्रासदीपूर्ण निर्णय था। कांग्रेस आठ नवंबर को 'विश्वासघात दिवस' मनाएगी।''

भारत में कब-कब हुई नोटबंदी

2016 से पहले भी दो बार देश में नोटबंदी हो चुकी थी। पहली बार अंग्रेज सरकार ने 1946 में नोटबंदी की थी। इसके बाद 1978 में भी नोटबंदी की गई थी।

पहली बार साल 1946 में 500, 1000 और 10 हजार के नोटों को बंद करने का फैसला लिया गया था।

1970 के दशक में भी प्रत्यक्ष कर की जांच से जुड़ी वांचू कमेटी ने विमुद्रीकरण का सुझाव दिया था, लेकिन सुझाव सार्वजनिक हो गया, जिसके चलते नोटबंदी नहीं हो पाई थी।

जनवरी 1978 में मोरारजी देसाई की जनता पार्टी सरकार सरकार ने एक कानून बनाकर 1000, 5000 और 10 हजार के नोट बंद कर दिए। हालांकि तत्कालीन आरबीआई गवर्नर आईजी पटेल ने इस नोटबंदी का विरोध किया था।

भारत में 2005 में मनमोहन सिंह की कांग्रेस सरकार ने 500 के 2005 से पहले के नोटों का विमुद्रीकरण कर दिया था।

2016 में भी मोदी सरकार ने 500 और 1000 के नोटों की नोटबंदी या विमुद्रीकरण का फैसला किया। भारतीय अर्थव्यवस्था में इन दोनों नोटों का प्रचलन लगभग 86 फीसदी था। यही नोट बाजार में सबसे अधिक चलते थे।


Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it